ताज़ा खबर
 

रवीना टंडन की फिल्म मातृ से महिलाओं को थप्पड़ मारने वाले सीन पर चली सेंसर बोर्ड की कैंची

जिन सींस को हटाने के लिए कहा गया उसपर बात करते हुए रिजवी ने लीडिंग टैब्लॉयड से कहा- इसमें बहुत से सींस थे जिसमें की महिला को थप्पड़ मारे जा रहे थे और उनके साथ हिंसा हो रहा थी।

एक वक्‍त में बॉलीवुड की टॉप एक्‍ट्रेस रहीं रवीना कहती हैं कि हिंदी सिनेमा में महिलाओं को दिखाने की प्रवृत्ति बदली है।

बॉलीवुड एक्ट्रेस रवीना टंडन अपनी अगली फिल्म की रिलीज की तैयारियों में बिजी है। उनकी इस फिल्म का नाम है मातृ- द मदर। एक बार फिर से सेंसर बोर्ड की इसपर कैंची चली है। केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड ने फिल्म के निर्माताओं को इसका टीजर फिर से एडिट करने के लिए कहा है और इसे एडल्ट रेंटिंग देने का सुझाव दिया है। डीएनए की रिपोर्ट के अनुसार प्रोड्यूसर अंजुम रिजवी ने कहा- जब तक आप ऐसे सीन नहीं दिखाएंगे तब तक आप दर्शकों को कैसे बता पाओगे कि आखिर फिल्म किस बारे में है? इन सींस के बिना फिल्म बेकार लगेगी। सेंसर बोर्ड के निर्देश अनुसार खून और हिंसा को ट्रेलर में नहीं दिखाया जा सकता क्योंकि इसे ए या यूए रेटिंग दी गई है। यदि जोर दिया जाए तो हमें यूए सर्टिफिकेट दे दिया जाएगा। हम आने वाले हफ्ते में इसका ट्रेलर लॉन्च करने वाले हैं। इसी वजह से हमें कुछ सीन को हटाकर इसे दोबारा बनाना पड़ा और फाइनली हमें यूए सर्टिफिकेट मिला।

जिन सींस को हटाने के लिए कहा गया उसपर बात करते हुए रिजवी ने लीडिंग टैब्लॉयड से कहा- इसमें बहुत से सींस थे जिसमें की महिला को थप्पड़ मारे जा रहे थे और उनके साथ हिंसा हो रहा थी। हमें उन्हें हटाने के लिए कहा गया। मैं बस इतना कहना चाहता हूं कि हम महिला सशक्तिकरण पर और महिलाओं के खिलाफ जारी हिंसा के साथ ही महिला खुद की इज्जत को बचाने के लिए किस हद तक जा सकती है उसपर बात कर रहे हैं। इस फिल्म में रवीना टंडन मुख्य भूमिका में हैं। इस फिल्म को माइकल पेलिको ने लिखा है और अश्तर सैयद ने डायरेक्ट किया है। 21 अप्रैल को फिल्म सिनेमाघरों में रिलीज होगी।

बता दें कि 21 मार्च को फिल्म का पहला पोस्टर रिलीज किया गया था। जिसमें रवीना का चेहरा नजर आ रहा था और जिस पर कई अलग-अलग भाषाओं में अलग-अलग शब्द लिखे हुए हैं। इस फिल्म को नसीरुद्दीन सिद्दीकी स्टारर “अ वेडनेस्डे” के प्रोड्यूसर्स ही बना रहे हैे। रवीना आखिरी बार 2015 में रिलीज हुई फिल्म बॉम्बे वेलवेट में नजर आईं थीं।

41 साल की अभिनेत्री ने 1991 में बॉलीवुड क‍ॅरियर की शरुआत की थी। एक वक्‍त में बॉलीवुड की टॉप एक्‍ट्रेस रहीं रवीना कहती हैं कि हिंदी सिनेमा में महिलाओं को दिखाने की प्रवृत्ति बदली है। उन्‍होंने हाल ही में दिए एक बयान में कहा, ”1990 का दशक हिंदी सिनेमा में कई बदलाव लेकर आया।

बॉक्स ऑफिस पर अगस्त में भिड़ेंगी शाहरुख खान और अक्षय कुमार की फिल्में

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 भांजे आहिल के बर्थडे पर 22 घंटे का सफर कर मालदीव पहुंचे सलमान खान Photos
2 बेगम जान का गाना आजादियां रिलीज, बंटवारे के समय की दर्दभरी असलियत दिखाता है यह गाना
3 पहली बार ऐसे डरावने लुक में नजर आए रणवीर सिंह, पढ़े क्या है इसकी वजह
ये पढ़ा क्या?
X