ताज़ा खबर
 

रीमेक अधिकार पर निर्माता-निर्देशक में ठनी

बॉक्स आॅफिस पर किसी फिल्म के सफल होने के बाद उसे रीमेक करने का चलन इन दिनों तेजी से बढ़ गया है।

Bollywoodशंकर।

बॉक्स आॅफिस पर किसी फिल्म के सफल होने के बाद उसे रीमेक करने का चलन इन दिनों तेजी से बढ़ गया है। इसके साथ ही बढ़ रहे हैं बौद्धिक संपदा अधिकार कानून के तहत विवाद। ताजा विवाद तमिल फिल्म ‘अनियन’ को लेकर है। एक ओर फिल्म का निर्माता इसकी कहानी पर अधिकार जता रहा है, तो दूसरी ओर लेखक-निर्देशक। विवाद इसलिए पैदा हुआ है क्योंकि तमिल फिल्म के लेखक-निर्देशक ने बिना निर्माता की अनुमति के इसे रणवीर सिंह के साथ हिंदी में रीमेक करने की घोषणा कर दी है।

हिंदी सिनेमा को नया मोड़ देने वाली ‘जंजीर’ (1974) को जब लगभग 40 साल बाद इसके निर्माता प्रकाश मेहरा के बेटों पुनीत और अमित ने हिंदी समेत दूसरी भाषाओं में रीमेक करने की घोषणा की, तो फिल्म के लेखकों सलीम-जावेद ने सीधी चुनौती दी थी। जावेद अख्तर का कहना था किफिल्म बिना उनकी अनुमति के रीमेक नहीं की जा सकती है।

फिल्म की कहानी उन्होंने प्रकाश मेहरा को प्रोडक्शन नंबर 1 के लिए दी थी, जिसमें अमिताभ, जया भादुड़ी और प्राण की प्रमुख भूमिका थी। उनका कहना था कि हमने अपनी ‘डॉन’ और ‘यादों’ की बारात जैसी फिल्मों को दक्षिण भारतीय भाषाओं में डब करने के अधिकार पहले भी बेचे हैं। कुछ ऐसी ही स्थिति बीते दिनों तब खड़ी हुई जब 2005 में बनी तमिल फिल्म ‘अनियन’ के लेखक-निर्देशक शंकर (जिन्होंने रजनीकांत को लेकर ‘शिवाजी’ और अनिल कपूर को लेकर ‘नायक’ निर्देशित की) ने इस फिल्म को रणवीर सिंह के साथ हिंदी में बनाने की घोषणा की।

शंकर की घोषणा ने ‘अनियन’ के निर्माता विश्वनाथन रविचंद्रन को परेशान कर दिया। आखिर वे ‘अनियन’ के निर्माता थे और बिना अनुमति के इसकी हिंदी रीमेक की घोषणा कैसे की जा सकती है। तमिल ‘अनियन’ पर बनी हिंदी डब फिल्म ‘अपरिचित’ नाम से दर्शक देख चुके हैं।

बीते 30 सालों से फिल्में बना रहे रविचंद्रन का कहना है कि इस कहानी के मां-बाप वह हैं। ‘जींस’, ‘रोबोट’ जैसी फिल्में बनाने वाले निर्देशक शंकर कहते हैं कि इस कहानी को जन्म उन्होंने दिया है, इसलिए इसके मां-बाप वह हैं। उस फिल्म इंडस्ट्री में, जहां सफलता के कई बाप होते हैं जैसी कहावत खूब कही जाती है, फिलहाल इस कहानी के मां-बाप तय होने की नौबत आ गई है।

रविचंद्रन हैरान हैं कि बिना उनकी अनुमति के हिंदी में फिल्म के रीमेक की घोषणा कैसे हो गई। उन्होंने एक खुल्ला पत्र लिख डाला कि इस फिल्म की कहानी का मां-बाप मैं हूं और शंकर तुरंत इस फिल्म की हिंदी रीमेक बंद कर दें। उधर शंकर ने कहा कि फिल्म में कहानी, पटकथा निर्देशक के तौर पर मेरा नाम दिया गया है। कहानी मेरी है।

रणवीर सिंह दोनों का मुंह देख रहे हैं कि बताइए भाई मैं क्या करूं। जल्दी फैसला करो ताकि मेरी तारीखें फोकट न जाएं। सवाल है कि कहानी का मां-बाप कौन होगा, जिसने कहानी लिखी वह या जिसने उस लिखी हुई कहानी को खरीदा वह। पूरा खेल दोनों के बीच बने अनुबंध पर है। यह संयोग ही है कि ‘अनियन’ का हीरो उपभोक्ताओं के हक के लिए लड़ने वाला एक वकील होता है, जिसकी निराशा यह होती है कि अक्सर परिस्थितिजन्य साक्ष्य का फायदा आरोपी उठाता है।

शंकर और रविचंद्रन फिल्म इंडस्ट्री में नए नहीं हैं। दोनों ही लंबे समय से काम कर रहे हैं। रविचंद्रन 25 से ज्यादा तमिल फिल्में बना चुके हैं और शंकर के साथ उनकी पिछली फिल्म विक्रम अभिनीत ‘आइ’ थी। शंकर 1993 से फिल्में बना रहे हैं और हिंदी सिनेमाप्रेमी उनकी अनिल कपूर अभिनीत ‘नायक’ और रजनीकांत की प्रमुख भूमिकावाली ‘शिवाजी’ को दसियों बार टीवी पर देख चुके हैं। फिलहाल मामले का ऊंट खड़ा है। यह किस करवट बैठेगा, समय ही बताएगा।

Next Stories
1 दिग्गजों की डुगडुगी
2 बॉलीवुड हुआ ठप तो निर्माता दौड़े गोवा-हैदराबाद
3 सड़क इनके बाप की जागीर नहीं- राकेश टिकैत बोले दिल्ली बॉर्डर ही किसानों का घर तो भड़के बॉलीवुड फिल्ममेकर
ये पढ़ा क्या?
X