जब इटली की सड़कों पर लोटने लगे थे नाराज़ संजय दत्त, सुनील दत्त-नरगिस को घोड़ा गाड़ी में करनी पड़ी थी मीटिंग

सुनील दत्त और नरगिस इटली के रेस्तरां में बैठकर किसी से मिलने का इंतजार कर रहे थे, तभी संजय दत्त ने घोड़ा गाड़ी देखी और उसमें बैठने की जिद कर सड़क पर लोटने लगे। यह देख इटालियन महिलाएं कहने लगीं कि कितने क्रूर....

sajnay dutt, sunil dutt,, nargisसंजय दत्त और सुनील दत्त के बीच गहरे रिश्ते थे (Photo-Sanjay Dutt/Instagram)

संजय दत्त को जिस लाड़ प्यार से सुनील दत्त और नरगिस ने पाला, उनके नखरे भी कम नहीं थे। पुराने समय के मशहूर अभिनेता रहे सुनील दत्त और अभिनेत्री नरगिस अपने बेटे को खुद से कभी अलग नहीं करते थे। एक बार जब उन्हें किसी काम के सिलसिले में  इटली जाना पड़ा तो वो संजय दत्त के साथ ही ले गए। संजय उस वक्त छोटे थे और वो जो मन में ठान लेते थे वो करके ही मानते थे। सुनील दत्त और नरगिस उन्हें लेकर इटली के मशहूर इलाके के खुले रेस्त्रां में बैठ किसी का इंतजार कर रहे थे। इसी बीच संजय ने सड़क पर घोड़ा गाड़ी देख ली और जिद करने लगे कि उन्हें घोड़ा गाड़ी पर बैठना है।

सुनील दत्त ने इस दिलचस्प घटना का जिक्र ज़ी टीवी के पुराने शो, ‘जीना इसी का नाम है’ में संजय दत्त के सामने किया था। सुनील दत्त ने बताया था कि संजय उस वक्त साढ़े तीन साल के थे। उन्होंने बताया था, ‘एक बार हम इटली में थे, ये साहब (संजय दत्त) कोई साढ़े तीन साल के होंगे। हम इटली के मशहूर बाजार में थे। वहां बाहर ही रेस्टोरेंट होती हैं, वहीं थे। अब इसने कहीं घोड़ा गाड़ी देख ली।’

सुनील दत्त ने आगे बताया था, ‘इसने शोर मचाना शुरू कर दिया कि घोड़ा गाड़ी पर जाना है। हम किसी का इंतजार कर रहे थे, मीटिंग थी। हमने कहा कि घोड़ा गाड़ी पर नहीं जा सकते किसी को मिलना है। औरतें आ रहीं थीं जा रहीं थीं और इसने सड़क पर लोटना शुरू कर दिया। इटालियन औरतें देख रहीं थीं और कह रही थीं हे भगवान कितने क्रूर पैरेंट्स हैं ये! बच्चे को रुला रहे हैं, लोट रहा है तब भी उसकी परवाह नहीं कर रहे हैं। नरगिस को शर्मिंदगी हो रही थी।’

 

सुनील दत्त ने आगे बताया कि इतने में वो लोग आ गए जिनसे उनकी मीटिंग थी। उन्होंने जब संजय दत्त को लोटते हुए देखा तो सुनील दत्त से पूछा ये क्या हो रहा है। सुनील दत्त ने बताया कि उनका बच्चा है जो घोड़ा गाड़ी पर चढ़ने के लिए रो रहा है। इसके बाद उस आदमी ने उनसे कहा कि फिर हम अपनी मीटिंग घोड़ा गाड़ी में ही कर लेते हैं। सुनील दत्त ने बताया था कि संजय दत्त कोचवान के साथ बैठे थे और पीछे बैठकर उनकी मीटिंग हुई थी।

 

संजय दत्त और उनके पिता के बीच गहरे रिश्ते थे। नरगिस तो संजय दत्त पर अपनी जान छिड़कती थीं लेकिन संजय दत्त की पहली फिल्म रॉकी रिलीज होने से पहले ही वो चल बसी थीं। संजय दत्त के पिता हमेशा उनके साथ खड़े रहे, उस वक्त भी जब वो मुंबई बम हमलों में नाम आने पर जेल गए थे। सुनील दत्त का निधन 25 मई 2005 को हो गया था।

Next Stories
1 जिस देश को चलाने वाले की नीति चौपट, वहां अंधकार आएगा ही- डिबेट में नरेंद्र मोदी का नाम लेकर बोलीं कांग्रेस प्रवक्ता, मिला ऐसा जवाब
2 ‘मैं जीना नहीं चाहती थी..’ सुधा चंद्रन ने सुनाई अपनी दर्दनाक कहानी, बताया एक्सिडेंट के बाद ऐसी हो गई थी जिंदगी
3 खूबसूरत हो, फिल्मों में क्यों नहीं ट्राई करती- जब जीनत अमान के फिल्म की प्रीमियर में पहुंच उन्हीं से कह बैठे थे राजकुमार
यह पढ़ा क्या?
X