When Rishi Kapoor to Amir Khan Not accompanied then Govinda had helped Naushad Ali - ऋषि कपूर से लेकर आमिर खान तक ने नहीं दिया साथ तब इस डायरेक्टर की गोविंदा ने की थी मदद - Jansatta
ताज़ा खबर
 

ऋषि कपूर से लेकर आमिर खान तक ने नहीं दिया साथ तब इस डायरेक्टर की गोविंदा ने की थी मदद

इसके बाद निर्मला देवी गोविंदा को लेकर नौशाद के पास पहुंची और गोविंदा ने भी मां के फैसले का सम्मान करते हुए उनकी मदद की।

बॉलीवुड एक्टर गोविंदा।

बी-टाउन में जब भी किसी हंसमुख और चुलबुले अंदाज वाले एक्टर की बात होगी तो उसमें एक नाम गोंविदा का भी होगा। लोगों ने गोंविदा को फिल्मों में हंसते-मुस्कुराते हुए ही देखा है। गोविंदा के बारे में जब भी बात होती है तो छोटे मिया-बड़े मिया, भागमभाग और न जाने ऐसी कई फिल्में याद आती हैं जिसमें उन्होंने अपनी कॉमिक टाइमिंग से फैंस को काफी गुदगुदाया है। वहीं उनके डांस मूव्स के कायल तो लोग आज भी हैं। चलिए आज हम आपको गोविंदा से जुड़ा एक रोचक किस्सा बताते हैं जब ऋषि कपूर, जैकी श्रॉफ से लेकर आमिर खान तक डायरेक्टर के काम नहीं आए तब गोविंदा ने फिल्म में मदद की थी।

दरअसल यह वाकया साल 1988 का है, जब नौशाद अली ने अपने बेटे रहमान को बतौर डायरेक्टर लॉन्च करना चाहते थे। नौशाद अली हिंदी सिनेमा जगत के प्रसिद्ध संगीतकार, कंपोजर, म्यूजिक डायरेक्टर, फिल्म प्रोड्यूसर, लेखक और कवि थे। नौशाद साहब ने अपने बेटे की फिल्म की कहानी भी खुद लिखी थी। नौशाद चाहते थे कि उनकी फिल्म के हीरो जैकी श्रॉफ हों।

नौशाद साहब ने जैकी श्रॉफ से बात की लेकिन किन्हीं वजहों से वह यह फिल्म नहीं कर पाए। इसके बाद नौशाद ने ऋषि कपूर से बात की, उन्होंने हां भी कर दी थी लेकिन अगले रोज बॉलीवुड के फेमस डायरेक्टर हरमेश मल्होत्रा नौशाद के पास पहुंचे और उन्हें बताया कि ऋषि कपूर अभी उनकी फिल्म में काम कर रहे हैं और 2 साल कर फ्री नहीं है। इसके बाद अनिल कपूर से भी बात की गई लेकिन बात नहीं बनी।

तब किसी ने नौशाद साहब को गोविंदा का नाम सुझाया। कई लोगों से बात कर नाकाम कोशिश कर चुके नौशाद गोविंदा के घर फोन करने में थोड़े हिचकिचाए जरूर लेकिन उन्होनें फोन कर दिया। नौशाद ने जिस वक्त फोन किया घर पर कोई नहीं था इसलिए उन्होंने अपना नंबर छोड़ दिया। एक घंटे बाद ही गोविंदा की मां निर्मला देवी ने वापस नौशाद को फोन किया और नौशाद साहब ने फिल्म की बात बताई।

इसके बाद निर्मला देवी गोविंदा को लेकर नौशाद के पास पहुंची और गोविंदा ने भी मां के फैसले का सम्मान करते हुए उनकी मदद की। गोविंदा ने बिना स्क्रिप्ट पढ़े ही फिल्म के लिए हां कर दिया था। यह फिल्म थी ‘तेरी पायल मेरे गीत’ जिसमें गोविंदा के अपोजिट बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री नजर आई थीं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App