ताज़ा खबर
 

तब दोस्तों के साथ आराधना देखने के लिए दिल्ली आए थे राजेश खन्ना लेकिन रीगल के सामने भीड़ देखकर…

1932 में बना दिल्ली का पहला प्राइम सिंगल स्क्रीन थिएटर रीगल आज भले ही बंद हो गया हो लेकिन फैंस के जहन में इसकी कई यादें हमेशा जुड़ी रहेगी।

1966 में धर्मेंद्र और मीना कुमारी की फिल्म फूल और पत्थर जब रिलीज हुई तो रीगल में ही इस फिल्म ने सिल्वर जुबली बनाई थी। (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

1932 में बना दिल्ली का पहला प्राइम सिंगल स्क्रीन थिएटर रीगल आज भले ही बंद हो गया हो लेकिन फैंस के जहन में इसकी कई यादें हमेशा जुड़ी रहेगी। कहा जाता है कि रीगल में कई सुपरस्टार्स अपनी फिल्म देखने आ चुके हैं। यहां बॉलीवुड के शो मैन राज कपूर से मिलने का भी दावा किया जा चुका है। उनका यह दावा इसलिए भी सच लगा रहा है क्योंकि राज कपूर की लगभग सभी फिल्मों का प्रीमियम दिल्ली के रीगल थिएटर में ही हुआ करता था। 1966 में धर्मेंद्र और मीना कुमारी की फिल्म फूल और पत्थर जब रिलीज हुई तो रीगल में ही इस फिल्म ने सिल्वर जुबली बनाई थी। 1969 में राजेश खन्ना की आराधना फिल्म रिलीज हुई तो उन्होंने दिल्ली में इस फिल्म का एक शो रखा। वह अपने कुछ खास दोस्त को यह फिल्म दिखाना चाहते थे। लेकिन राजेश खन्ना ने इस फिल्म का शो रीगल के बजाए रिवोली में रखा। राजेश खन्ना जब इस शो के लिए दिल्ली आए तो वह रीगल सिनेमा से होकर गुजरे।

जब वह रीगल के पास से जा रहे थे तो राजश खन्ना के ड्राइवर ने रीगल के सामने गाड़ी स्लो कर दी। रीगल पर दर्शकों की भीड़ देखने के बाद ड्राइवर ने गाड़ी रोक दी और राजेश खन्ना को उतरने के लिए कहा। जैसे ही राजेश खन्ना गाड़ी से नीचे उतरे कि भीड़ उनकी तरफ भागकर आने लगी। लोग उनसे मिलने के लिए टूट पड़े।

जब राजेश खन्ना ने लोगों को अपनी तरफ आते हुए देखा तो वह घबरा गए और गाड़ी में बैठ गए। इसके बाद उन्होंने ड्राइवर से रिवोली जाने के लिए कहा। इसके बाद राजेश खन्ना सीधा रिवोली गए। जहां पहले से ही उनके दोस्त उनके आने का इनतजार कर रहे थे।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App