ताज़ा खबर
 

जब जितेंद्र को देना था अपनी पहली फिल्म के लिए स्क्रीन टेस्ट, राजेश खन्ना पूरा दिन बैठाकर रटाते रहे थे डायलॉग

अभिनेता जितेंद्र ने एक किस्सा सुनाया था जब राजेश खन्ना पूरा दिन बैठकर उन्हें डायलॉग बोलने की प्रैक्टिस करवाते रहे थे। जितेंद्र अपनी पहली फिल्म के लिए स्क्रीन टेस्ट देने जा रहे थे तब राजेश खन्ना ने दिन भर....

rajesh khanna, jeetendra, rajesh khanna jeetendra friendshipजितेंद्र और राजेश खन्ना के बीच स्कूल से ही दोस्ती थी (Photo- Facebook/ Rajesh Khanna Fanpage)

राजेश खन्ना के बारे में यह कहा जाता है कि वो कभी समय से फिल्म की शूटिंग के लिए नहीं पहुंचते थे। अगर शूटिंग सुबह से है तो उन्हें आते – आते शाम हो जाती थी। लेकिन उनका काम इतना शानदार रहा कि इन सभी बातों पर भारी पड़ा और आज भी राजेश खन्ना के काम की सराहना की जाती है। उनके जिंदादिली के किस्से आज भी उनके साथ काम करने वाले सुनाते हैं। अभिनेता जितेंद्र ने भी इसी तरह का एक किस्सा सुनाया था जब ‘काका’ पूरा दिन बैठकर उन्हें डायलॉग बोलने की प्रैक्टिस करवाते रहे थे।

जितेंद्र ने इस बात का जिक्र सोनी टीवी के सिंगिंग रियलिटी शो इंडियन आइडल के सीज़न 6 में किया था। शो पर वो बतौर मेहमान आशा भोसले के साथ गए थे। राजेश खन्ना को याद करते हुए जितेंद्र ने कहा, ‘बहुत ही उम्दा तरीके से राजेश खन्ना ने फिल्म इंडस्ट्री को अपना योगदान दिया, तभी तो लोग आज भी उसे याद करते हैं।’

जितेंद्र ने आगे कहा था, ‘वो ड्रामेटिक के काफी शौकीन थे। कॉलेज में, स्कूल में हर ड्रामा में वो हिस्सा लेता था। मैंने कभी नहीं लिया। जब मैं फिल्मों में आया और फिल्म ‘गीत गाया पत्थरों ने’ के स्क्रीन टेस्ट के लिए मुझे बुलाया गया। उसने जय हिंद कॉलेज की कैंटीन में बैठकर मुझे रियाज करवाया कि मुझे स्क्रीन टेस्ट में क्या बोलना है। सुबह से लेकर शाम तक, मुझे वो रटा रहा था कि क्या बोलना है, क्या नहीं बोलना है।’

आशा भोसले राजेश खन्ना को याद कर बेहद भावुक हो गईं और उन्हें कहा था, ‘जब गाना बनता था उस वक्त राजेश जी आकर बैठते थे, पंचम गाना बनाते थे, वो सब याद आ रहे हैं मुझे। मैं इतना ही कहूंगी कि बस, अब हम भी लाइन में हैं।’

 

जितेंद्र और राजेश खन्ना ने साथ ही पढ़ाई की थी लेकिन जहां राजेश खन्ना जल्द ही फिल्मों में आ गए, जितेंद्र ने काफी समय बाद फिल्मों में काम करना शुरू किया। फिल्म ‘गीत गाया पत्थरों ने’ से जितेंद्र ने हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री में कदम रखा था। इस फिल्म में ब्रेक के लिए राजेश खन्ना ने जितेंद्र की खूब मदद की थी और उन्हीं के कारण जितेंद्र फिल्म के लिए फाइनलाइज कर लिए गए थे।

 

जितेंद्र का फिल्मी करियर भी काफी सफल रहा। उन्होंने हिम्मतवाला, तोहफा, जुदाई, फर्ज, औलाद, अर्पण, मवाली जैसी बेहतरीन फिल्में दी हैं। उनकी बेटी एकता कपूर भी काफी कामयाब हैं और वो टीवी शोज की क्वीन कही जाती हैं। जितेंद्र के बेटे तुषार कपूर ने भी फ़िल्मों में अपनी किस्मत आजमाई लेकिन उनका करियर कुछ खास नहीं रहा।

Next Stories
1 सुनील दत्त और उनके दोस्तों के फेंके अधजले सिगरेट पीते थे संजय दत्त, तंग आकर पिता ने किया था ये काम
2 कोरोना आए चाहे कोरोना का रिश्तेदार, खत्म नहीं होगा धरना- बोले राकेश टिकैत तो लोग पूछने लगे ऐसे सवाल
3 राजकुमार क्यों चाहते थे मौत के बाद कोई उनके अंतिम संस्कार में शामिल न हो? खुद बताई थी वजह
यह पढ़ा क्या?
X