जब लता मंगेशकर को खुद मनाने पहुंच गईं हेमा मालिनी, ‘ड्रीम गर्ल’ की फिल्म में गाने को नहीं थीं तैयार

जब प्रोड्यूसर्स लता मंगेशकर के पास फिल्म में गाना गाने का ऑफर लेकर गए। तो लता मंगेशकर ने ‘मीरा’ में गाने से इनकार कर दिया। फिल्म के म्यूजिक डायरेक्टर भी लता मंगेशकर को मनाने के लिए पहुंचे थे, पर लता मंगेशकर नहीं मानीं।

Hema Malini
बॉलीवुड एक्ट्रेस हेमा मालिनी (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

बॉलीवुड की ‘ड्रीम गर्ल’ हेमा मालिनी ने कई फिल्मों में काम किया है जिसमें एक्ट्रेस के लिए गाने लता मंगेशकर ने गाए। लेकिन एक बार हेमा मालिनी के लिए लता मंगेशकर ने गाना गाने से इनकार कर दिया था। हेमा की एक फिल्म थी ‘मीरा’। साल 1979 में आई गुलजार की फिल्म ‘मीरा’ में हेमा मालिनी काम कर रही थीं। इस फिल्म में संगीत लक्ष्मीकांत प्यारेलाल को देना था। जब प्रोड्यूसर्स लता मंगेशकर के पास फिल्म में गाना गाने का ऑफर लेकर गए। तो लता मंगेशकर ने ‘मीरा’ में गाने से इनकार कर दिया। फिल्म के म्यूजिक डायरेक्टर भी लता मंगेशकर को मनाने के लिए पहुंचे थे, पर लता मंगेशकर नहीं मानीं।

अब इधर जब लता के फैसले के बारे में लक्ष्मीकांत-प्यारेलाल ने सुना तो वे भी प्रोजेक्ट से मूव कर गए। ऐसे में उनकी जगह सितार वादक पंडित रविशंकर ने ले ली। वहीं इस बारे में जब हेमा मालिनी को पता चला तो उन्हें बड़ा अचंभा हुआ कि लता मंगेशकर ऐसा क्यों कर रही हैं? ऐसे में हेमा मालिनी ने तय किया कि वह खुद लता मंगेशकर को मनाएंगी।

हेमा मालिनी ने इस बारे में एक इंटरव्यू में बताया था- ‘गुलजार साहब की फिल्म में मीराबाई का किरदार निभाना मेरे लिए एक सपने जैसा था, जो कि सच हो गया था। मैं श्रीकृष्ण भक्त हूं। वहीं मैं अपने हर गाने के लिए लता जी की ही आवाज चाहती रही हूं। जब मुझे इस बारे में पता चला कि लता जी ने मेरे लिए गाना गाने के लिए मना कर दिया है, तो मैंने उन्हें खुद फोन किया और उन्हें कंवेंस करने की कोशिश की। लेकिन वह नहीं मानीं। लता मंगेशकर उस वक्त तय कर चुकी थीं कि ये उन्हें नहीं करना।’ (जब लता मंगेशकर पर टूटा मुसीबतों का पहाड़, अचानक बदली जिंदगी से हंसना भूल गया था परिवार)

लता मंगेशकर ने बताया था कि आखिर क्यों उन्होंने इस फिल्म में गाने से इनकार किया था? लता मंगेशकर ने कहा था– ‘मैं पहले भी मीरा भजन गा चुकी थी। मैंने अपने भाई हृदयनाथ मंगेशकर के लिए ‘चला वही देस’ गाया था। इसके बाद मैंने तय किया था कि मैं फिर कभी किसी के लिए ये नहीं गाऊंगी।’ हालांकि बाद में हेमा मालिनी खुद लता मंगेशकर को मनाने के लिए उनके पास पहुंची थीं।

लेकिन लता मंगेशकर का फैसला नहीं बदला। खबरों के मुताबिक, उस वक्त हेमा मालिनी ने भी सोच लिया था कि अगर लता उनके लिए नहीं गाएंगी तो ये फिल्म वह नहीं करेंगी। फिर बाद में हेमा मालिनी ने फिल्म में काम किया और फिल्म के गाने वाणी जयराम ने गाए थे। इस फिल्म के गाने ‘मेरे तो गिरिधर गोपाल’ को साल 1980 में फिल्मफेयर अवॉर्ड भी मिला था।

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट