ताज़ा खबर
 

…जब टूटी फ्रिज देख सायरा बानो की आंखों में आ गए आंसू, दिलीप कुमार का था ये रिएक्शन

जब शायरा बानो ने नई फ्रिज को अनपैक किया और दरवाजा खोला, तो देखा कि फ्रिज के अंदर एक रैक टूटी पड़ी है. नई फ्रिज की ये हालत देख सायरा बानो की आंखों में आंसू आ गए।

Author January 21, 2020 2:12 PM
Dilip Kumar, Saira Banu, Bollywood, Bollywood News, दिलीप कुमार, शायरा बानो, बॉलीवुड, बॉलीवुड की खबरेंदिलीप कुमार और शायरा बानो (फोटो साभार-इंडियन एक्सप्रेस)

ये किस्सा उस दौर का है जब फ्रिज कुछ अमीर लोगों के घरों में हुआ करता था और इसकी कीमत काफी ज्यादा थी। उसी दौर में मशहूर अभिनेता दिलीप कुमार (Dilip Kumar) मुंबई के पाली हिल में अपने नए घर में शिफ्ट हुए और जरूरत के तमाम साजो-सामान खरीदे जा रहे थे। सामान की लिस्ट में फ्रिज भी शामिल किया गया।

दिलीप कुमार की पत्नी और मशहूर अभिनेत्री सायरा बानो (Saira Banu) की दिली इच्छा थी कि नए घर में नया फ्रिज भी हो। दिलीप कुमार, सायरा बानो की कोई फरमाइश पूरी करने में पीछे नहीं हटते थे। उन्होंने झट से नई फ्रिज ऑर्डर कर दी। अगले दिन जब फ्रिज घर पहुंची तो सायरा बानो बेहद उत्साहित थीं।

उन्होंने फ्रिज को अनपैक किया और इसका दरवाजा खोला, लेकिन देखा कि फ्रिज के अंदर एक रैक टूटी पड़ी है। नई फ्रिज की ये हालत देखने के बाद सायरा बानो की आंखों में आंसू आ गए। वह लगभग रो पड़ीं. दिलीप कुमार (Dilip Kumar) की आत्मकथा ‘द सबस्टैंस एंड द शैडो : एन ऑटोबायोग्राफी’ के मुताबिक सायरा बानो की आंखों में आंसू देख दिलीप साहब तुरंत उनके पास गए और शांत कराया।

इसके बाद वह टूटी रैक को ठीक करने में जुट गए। चंद मिनट में ही कपड़ा टांगने वाले एक हैंगर की मदद से उस रैक को ठीक कर दिया और काम करने लायक बना दिया। बकौल सायरा बानो, ‘दिलीप साहब को कभी भी मेरी आंखों में आंसू पसंद नहीं है, चाहे वह कोई भी बात हो। पता नहीं कितने ‘स्टार’ पति ऐसा कर पाते होंगे’।

शायरा बानो ने कहा- युसूफ खान की कहानी क्यों नहीं लिखते?: 2004 की गर्मियों के दिन थे। एक शाम सायरा बानो अपनी बुकशेल्फ में किताबों को करीने से रख रही थीं। इस दौरान वहां फिल्म पत्रकार उदय तारा नायर भी मौजूद थीं। बातचीत का सिलसिला जारी था, इसी दरम्यान दिलीप कुमार (Dilip Kumar) की नजर एक किताब पर पड़ी।

इस किताब के लेखक का दावा था कि, ‘उससे ज्यादा दिलीप कुमार को कोई नहीं जानता है’। दिलीप साहब ने किताब के कुछ पन्नों पर निगाह दौड़ाई और सायरा की तरफ मुड़े। उन्होंने कहा, ‘इस किताब को मेरी जीवनी के तौर पर पेश किया गया है, लेकिन इसमें तमाम सूचनाएं और तथ्य गलत हैं’।

सायरा बानो ने तपाक से कहा, ‘फिर आप खुद क्यों नहीं अपनी आत्मकथा लिखते हैं’. दरअसल, सायरा हमेशा से चाहती थीं कि एक फल विक्रेता के साधारण बेटे युसूफ खान की कहानी को देश-दुनिया जाने। ताकि लोगों को पता लगे कि किस तरह दिलीप कुमार भारत के पहले सुपर स्टार बने और अपने अभिनय की बदौलत दुनिया के सर्वश्रेष्ठ अभिनेताओं में शुमार हुए।

सायरा बानो के लिए यही मौका था और उन्होंने बिना देर किये अपने दिल की बात कह दी। कुछ सेकेंड की चुप्पी के बाद दिलीप साहब सायरा की तरफ मुडे़। उन्होंने कहा, ‘ठीक है, मैं अपनी कहानी बताऊंगा’। इस तरह दिलीप कुमार अपनी आत्मकथा लिखने के लिए तैयार हुए।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 पहली सैलरी मिलते ही ताज देखने गए थे शाहरुख, पी मधुमक्खी पड़ी पिंक लस्सी, पूरे रास्ते की थीं उल्टियां
2 रजनीकांत ने भगवान राम को लेकर पेरियार पर साधा था निशाना, राजनैतिक विवाद के बाद कहा- ‘मैं माफी नहीं मांगूंगा’
3 Jhund Teaser Out: ‘झुंड में तो..’ अमिताभ बच्चन की ‘झुंड’ का टीजर देख मजाक उड़ा रहे फैंस, मिल रहे अजीबों-गरीब रिएक्शन
ये पढ़ा क्या?
X