ताज़ा खबर
 

जब सोनिया गांधी ने ठुकरा दिया था अमिताभ बच्चन का न्योता, अभिषेक बच्चन की डेब्यू फिल्म के प्रीमियर पर नहीं आईं; बताई थी ये वजह

साल 1999 में अमिताभ बच्चन के बेटे अभिषेक ने फिल्म 'रिफ्यूजी' के जरिए बॉलीवुड में डेब्यू किया। इस फिल्म के प्रीमियर के लिए सोनिया गांधी को भी निमंत्रण भेजा, लेकिन...

Amitabh Bachchan, Sonia Gandhi, Rajiv Gandhiराजीव व सोनिया गांधी और अमिताभ बच्चन। (फाइल फोटो-इंडियन एक्सप्रेस)

गांधी-नेहरू और बच्चन परिवार के बीच दोस्ती की शुरुआत इलाहाबाद के ‘आनंद-भवन’ से हुई थी। सरोजिनी नायडू ने पहली बार हरिवंश राय बच्चन और तेजी बच्चन की इंदिरा गांधी से मुलाकात करवाई थी। दोनों परिवारों के बीच दोस्ती का सिलसिला दिल्ली तक कायम रहा। अगली पीढ़ी ने इस दोस्ती को और मजबूत किया और दोनों परिवार एक दूसरे के सुख-दुख में हमेशा साथ खड़े नजर आए।

सुख-दुख में साथ खड़े रहे दोनों परिवार: ‘कुली’ की शूटिंग के दौरान जब अमिताभ बच्चन को चोट लगी तो राजीव गांधी सबसे पहले हॉस्पिटल पहुंचने वालों में थे। उस वक्त इंदिरा गांधी एक आधिकारिक दौरे पर अमेरिका गई थीं। वहां से लौटते ही वह सीधे हॉस्पिटल पहुंचीं। अमिताभ की बेहतरी के लिए देवरहा बाबा से ताबीज मंगवाने से लेकर अपने पारिवारिक पंडित से विशेष पूजा तक करवाई थी।

इसी तरह अमिताभ भी राजीव गांधी के साथ हमेशा खड़े नजर आए। सोनिया गांधी जब जनवरी 1968 में पहली बार भारत आईं तब पालम एयरपोर्ट पर उन्हें लेने अमिताभ ही गए थे। सोनिया गांधी करीब डेढ़ महीने तक बच्चन परिवार के घर उनके मेहमान के तौर पर रहीं। बाद ने बच्चन परिवार ने सोनिया और राजीव गांधी की शादी में अहम भूमिका निभाई।

तेजी बच्चन को तीसरी मां कहती थीं सोनिया: कांग्रेस नेता सोनिया गांधी ने अपने एक इंटरव्यू में बताया था कि शादी से पहले मम्मी यानी इंदिरा गांधी ने उन्हें बच्चन परिवार के घर रहने को कहा था। ताकि वे भारतीय संस्कृति-परंपरा और तौर-तरीके सीख सकें। उन्होंने काफी कुछ सीखा भी था। ‘धर्मयुग’ को दिये इसी इंटरव्यू में सोनिया गांधी ने अपनी मां और सास इंदिरा गांधी के अलावा अमिताभ बच्चन की मां तेजी बच्चन को अपनी तीसरी मां बताया था।

आपको बता दें कि अमिताभ बच्चन, राजीव गांधी के कहने पर ही राजनीति में आए और इलाहाबाद से चुनाव लड़कर संसद भी पहुंचे थे। हालांकि बाद में उन्होंने राजनीति से किनारा कर लिया था। राजीव गांधी के देहांत के बाद दोनों परिवारों के बीच दूरी भी बढ़ी। इसका एक उदाहरण साल 1999 में तब देखने को मिला, जब अमिताभ बच्चन के बेटे अभिषेक ने फिल्म ‘रिफ्यूजी’ के जरिए बॉलीवुड में डेब्यू किया।

प्रीमियर पर नहीं आईं सोनिया गांधी: वरिष्ठ पत्रकार और लेखक राशिद किदवई अपनी किताब ‘नेता-अभिनेता: बॉलीवुड स्टार पावर इन इंडियन पॉलिटिक्स’ में लिखते हैं कि अमिताभ और जया बच्चन ने अपने बेटे अभिषेक के डेब्यू फिल्म के प्रीमियर के लिए सोनिया गांधी को भी निमंत्रण भेजा, लेकिन उन्होंने आने से इंकार कर दिया था।

इसकी वजह यह बताई गई कि कांग्रस की नीतियों के मुताबिक पार्टी अध्यक्ष किसी फाइव स्टार होटल में आयोजित इस तरह के किसी कार्यक्रम में शामिल नहीं होते हैं। क्योंकि पार्टी सादा जीवन, उच्च विचार के सिद्धांत का पालन करती है। बता दें कि उस वक्त भी सोनिया गांधी कांग्रेस की अध्यक्ष हुआ करती थीं।

Next Stories
1 क्या हिंदुत्व की राजनीति का अखाड़ा बन गया है बंगाल? पुण्य प्रसून बाजपेयी ने किया सवाल तो लोग देने लगे ऐसे ज़वाब
2 सरकार किसान आंदोलन को शाहीन बाग समझने की भूल न करे- राकेश टिकैत ने दी चेतावनी, बोले- गोदाम तोड़े जाएंगे…
3 चुनावी रैली में न दो गज दूरी और न ही मास्क- बोले रोहित सरदाना तो लोग उन्हीं की तस्वीर शेयर कर करने लगे ट्रोल
ये पढ़ा क्या?
X