ताज़ा खबर
 

रामगोपाल वर्मा की फिल्म करने के लिए स्लम में रहने लगे थे विवेक ओबेरॉय

Vivek Oberoi : सुरेश ओबेरॉय ने डायरेक्टर अब्बास-मस्तान के साथ मिलकर बेटे विवेक को लॉन्च करने की पूरी स्क्रिप्ट तैयार करने लगे। सब कुछ तय हो गया कि विवेक को कैसे लॉन्च करना है लेकिन विवेक की पूरी नींद गायब हो गई थी।

Author Updated: April 4, 2019 1:22 PM
विवेक ओबेरॉय बॉलीवुड के जाने-माने एक्टर हैं। अमेरिका के न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी से मास्टर इन फिल्म की पढ़ाई की है।

Vivek Oberoi : अमेरिका के न्यूयॉर्क यूनिवर्सिटी से मास्टर इन फिल्म की पढ़ाई पूरी करके विवेक ओबेरॉय जब मुम्बई आए तो पिता सुरेश ओबेरॉय को उनके करियर को लेकर चिंता सताने लगी। जैसा बॉलीवुड का दस्तूर है पिता बेटों को फिल्मों में लॉन्च करते हैं, सुरेश ओबेरॉय को भी ये दिमाग में नाचने लगी। उस समय बॉलीवुड इंडस्ट्री में विवेक के पिता की ख्याति बहुत थी। सुरेश ओबेरॉय ने डायरेक्टर अब्बास-मस्तान के साथ मिलकर बेटे विवेक को लॉन्च करने की पूरी स्क्रिप्ट तैयार करने लगे। सब कुछ तय हो गया कि विवेक को कैसे लॉन्च करना है लेकिन विवेक की पूरी नींद गायब हो गई थी। क्योंकि फिल्म में पिता का पैसा लगना था। बता दें कि विवेक अब तक अपना खर्च खुद ही चलाया करते थे, पिता से कभी पैसे नहीं मांगते थे। और इतनी बड़ी रकम लगने के डर से विवेक घबराया गए कि अगर फिल्म नहीं चली तो, पिता का सारा पैसा डूब जाएगा। मैं अपने आप को कैसे फेस करूंगा।

इन तमाम बातों से परेशान विवेक ने सुबह उठकर पिता को प्रणाम किया और हाथ जोड़कर मांफी मांगते हुए कहा कि, ‘सॉरी पिता जी आप मेरी फिल्म प्रोड्यूस नहीं करेंगे। मुझसे ये बर्दाश्त नहीं होगा। और विवेक फिर अब्बास मस्तान के पास जाकर मांफी मांगते हुए बोले कि, सॉरी सर, मैं स्ट्रगल करने वाला हूं। वो भी बिना ओबेरॉय नाम के। विवेक के इस बात से अब्बास-मस्तान हैरान रह गए, बोले क्या कहते हो तुम।’ उसके बाद विवेक ने करीब डेढ़ साल तक अपनी पोर्टफोलियो, फोटोज और एवॉर्ड के साथ फिल्म प्रोड्यूसरों, डायरेक्टरों के ऑफिसों का चक्कर लगाने लगे। 8-8 घंटे 12-12 घंटे ऑफिसों के खाक छांनते रहे। कई रिजेक्शन के साथ-साथ इंसल्ट भी झेलनी पड़ी कि तुम एक्टर नहीं बन सकते।

मालूम हो कि उसी समय रामगोपाल वर्मा एक फिल्म शूट करने वाले थे, कंपनी। विवेक को जब इसकी खबर लगी तो पहुंच गए रामगोपाल वर्मा के ऑफिस। विवेक ने सारी फोटोज दिखाई। रामगोपाल ने बोला कि, ‘यार सबकुछ ठीक है, एक्टर भी ठीक हो और दिखते भी अच्छा हो लेकिन फेस बहुत चॉकलेटी है। इतने एडुकेटेड हो इस फिल्म का कैरेक्टर तो बिल्कुल स्लम का है। फाइटर है। कैसे करोगो तुम।’ विवेक ने रामगोपाल वर्मा से रिक्वेस्ट की कि ‘सर मुझे बस 15 दिन का मौका दीजिए। मैं 15 दिन बाद वापस आपसे मिलने आऊंगा।’ विवेक ओबेरॉय वर्मा के ऑफिस से निकल कर सीधे स्लम में गए। और 10 बाई 10 की खोली किराए पर ले ली। साथ में सिर्फ एक बैग था जिसमें सिम्पल कपड़े थे। विवेक स्लम के रहन-सहन वहां की भाषा को ऑब्जर्ब करने लगे। कैसे खाते-पीते हैं, घुमने कहां जाते हैं, टॉयलेट कहां करते हैं। इंस्टैंट कैमरे से फोटो लेकर उसकी स्टडी करते थे।

15 दिन के बाद विवेक बस इन्हीं फोटो के साथ स्लम बॉय के गेटअप में फटे-पुराने कपड़े पहनकर विवेक पहुंच गए रामू के ऑफिस के बाहर। गार्ड ने विवेक को बाहर ही रोक लिया। बोला, ‘यहां ऐसे लोगों को आने की अनुमति नहीं है। गार्ड की इस बात से विवेक बहुत खुश हुए कि उनका आधा काम हो गया है। विवेक ने फिर गार्ड से कहा कि, रामू जी को बोल दो कि विवेक आया है। उधर से जवाब आया भेज दो। विवेक ने ऑफिस के कांच में चेहरा देखा तो बिल्कुल साफ था। फिर उन्होंने पास पड़े फ्लावर पॉट से मिट्टी निकाल कर अपने चेहरे पर पोत लिया। और बिल्कुल गुंडे वाली अंदाज में रामू के केबिन में दाखिल होते हैं, और साथ में ले गए सारी फोटोज को टेबल पर फेंकते हुए बोलते हैं कि, ‘थोबड़ा क्या देखता है फोट देख फोटो।’ रामू विवेक की इस अंदाज को देखकर हैरान रह जाते हैं। पास में खड़ा रामू का एडिटर बोला, ‘फिल्म में ये नहीं तो कोई नहीं।’

रामू उठे और पांच मिनट में ही विवेक को कंपनी के लिए साइन कर लिया। राम गोपाल के साइन के बाद जब विवेक ने जब अपनी असल पहचान बताई कि मैं सुरेश ओबेरॉय का बेटा हूं, रामगोपाल वर्मा चौंक गए। बोल, ‘आप सुरेश जी के बेटे हैं। पहले क्यों नहीं बताया।’ विवेक ओबेरॉय ने कहा कि मैं चाहता था कि आप मुझे मेरी काबिलियत पर काम दें, ना कि किसी की सिफारिश पर। और इसके बाद विवेक ने रामगोपाल वर्मा के साथ ‘कंपनी’, ‘रोड’, ‘डरना मना है’, ‘रक्त चरित्र-1’ और ‘रक्त चरित्र-2’, रॉय जैसी फिल्मों की। उनकी आने वाली फिल्म पीएम नरेंद्र मोदी की बॉयोपिक है। जिसमें नरेंद्र मोदी की भूमिका में विवेक खुद हैं।

और (ENTERTAINMENT NEWS) पढ़ें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Chhapaak: दिल्ली की गलियों में मालती के अवतार में दिखीं दीपिका पादुकोण, फैंस की लगी भीड़
2 राज कपूर के सीने पर एक्ट्रेस के सिर रखने से भी थी आपत्ति, जानिए सिनेमा के शुरुआती दिनों में कैसा था सेंसर बोर्ड
3 Mayuri Kango को गूगल ने दी बड़ी जिम्मेदारी, अजय देवगन और रानी मुखर्जी जैसे एक्टर्स संग कर चुकी हैं काम