यूपी में दिखने लगा है ‘खेला होबे’ जैसा माहौल- बोले पूर्व IAS अफसर, क्रूर सत्ता का डर ख़त्म होने लगा है

पीएम मोदी वाराणसी में 1500 करोड़ रुपए की योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण करने पहुंचे। ऐसे में पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने सोशल मीडिया पर ट्वीट कर पीएम मोदी पर चुटकी ली है।

Surya pratap Singh, yogi adityanath, population control act up
सूर्य प्रताप सिंह ने योगी आदित्यनाथ पर तंज़ कसा है (Photo-Twitter/File)

उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा सरकार ने कमर कस ली है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को ही वाराणसी में 1500 करोड़ रुपए की योजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण करने पहुंचे। ऐसे में पूर्व आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने सोशल मीडिया पर ट्वीट कर पीएम मोदी पर चुटकी ली है।

पूर्व आईएएस अधिकारी ने पीएम मोदी पर तंज कसते हुए कहा- ‘यूपी में सड़कों की ख़ामोशी टूट रही है। पीड़ित जनता घर से बाहर निकलने लगी है, क्रूर सत्ता का डर ख़त्म होने लगा है। खेला होबे, जैसा माहौल दिखने लगा है।’ अपने दूसरे पोस्ट में उन्होंने कहा- ‘PM मोदी ने काशी में कहा: यूपी में कानून का राज है। कोरोना में अच्छा काम हुआ। यूपी में बहन-बेटियां सुरक्षित हैं। यूपी सरकार में आज भ्रष्टाचार नहीं है। यूपी में नए-नए उद्योग लगे हैं। यूपी में रोजगार के अवसर बढ़े हैं।’ रियली’

सूर्य प्रताप सिंह की पोस्ट को देख कर ढेरों लोगों के कमेंट आने शुरू हो गए। संजीव राणा नाम के यूजर ने रिएक्ट करते हुए कहा- ‘Up में योगी दोबारा मुख्यमंत्री बनेंगे। किसी के पूर्वाग्रह के अपने कारण हो सकते हैं। पर योगी की लोकप्रियता पर छुटभैयों के विधवा विलाप से कुछ बिगड़ने वाला नहीं है। योगी ने क्या किया है क्या नहीं वो सबको पता है। मैं योगी को और उसकी पार्टी को वोट दूंगा। ‘ उमाकांत  नाम के यूजर बोले- ‘आज तक के एग्जिट पोल में खेला हो गया। जब आगाज़ ऐसा है तो अंजाम कैसा होगा?’

गौतम तिवारी ने कहा- ’56 इंच का सीना है देश को लूट कर जीना है। काला धन बस बातों में, आग लगी दिन रातों में। अच्छे दिन की आड़ में देश को झोंका भाड़ में। जुमला से बर्बाद किया पार्टी को आबाद किया। तानाशाही का दौर है ये भारत नहीं कुछ और है ये।’

प्रवीण पराशर बोले- मेरे देश के लोगों कृपया पालथी मार कर आंख बंद कर बैठिए और सोचिए कि पिछले डेढ़ साल में क्या हुआ? एक ने कहा- प्रधानमंत्री जी, लोगों का तड़प कर मर जाना वाकई अभूतपूर्व था। आपको कोटि कोटि बधाई।

दलजीत सिंह नाम के यूजर ने कहा- ‘शासक सोचता है कि वो जनता की आवाज़ दबा सकता है, पर वो भूल गया जनता की आवाज़ जब चुप करवाई जाती है तो जनता बग़ावत करती है और तख़्त पलट दिए जाते हैं। शोर अब बुलंद होने लगा है और हाथ मशाल को लिए तूफ़ानों की तेज़ हवाओं को चीर के हक़ छीनेगा।’

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट