scorecardresearch

सारे बेरोजगार पाकिस्तान से पढ़े हैं क्या? UGC ने कहा- पाक से डिग्री लेने वालों को नहीं मिलेगी नौकरी तो कॉमेडियन ने घेरा

पाकिस्तान में डिग्री हासिल करने वालों को भारत में नौकरी नहीं देने के फैसले पर राजीव निगम ने ताना मारा है।

Unemployment, Rajiv nigam, Entertainment
UGC के निर्देश पर कॉमेडियन राजीव निगम की प्रतिक्रिया (प्रतीकात्मक तस्वीर)

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) ने कहा है कि पाकिस्तान से पढ़कर आए छात्रों को भारत में नौकरी नहीं दी जाएगी। इस निर्णय की एक वर्ग आलोचना कर रहा है। कॉमेडियन राजीव निगम ने भी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने इस फैसले के बहाने बेरोजगारी का मुद्दा उठाया और सरकार पर निशाना साधा।

निगम ने एक ट्वीट में लिखा,”अब समझ में आया कि यहां लोगों को नौकरी क्यों नहीं मिल रही है। सब बेरोजगार पाकिस्तान से पढ़-पढ़ के आ रहे हैं। निगम ने यूपी बोर्ड की कार्यप्रणाली को लेकर भी मजेदार ट्वीट किया है।

उन्होंने एक खबर साझा की, जो बोर्ड की कॉपियां जांचने से संबंधित थी। इसमें बताया गया था कि किस तरीके से महज दो शिक्षकों पर 18000 कॉपियां जांचने का जिम्मा है। निगम ने ताना मारते हुए लिखा, ”बाकी के शिक्षक सांड पकड़ने में लगा दिए गए हैं।”

राजीव निगम के ट्वीट पर यूजर्स भी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। एक यूजर ने लिखा, ”हां, कॉपी जांच के होना क्या है? पास हो गए तो आगे पढ़ेंगे, आगे पढ़ेंगे तो फिर पास होकर नौकरी मांगेंगे और नौकरी होगी नहीं। तब भी सांड ही पकड़ना है तो अभी पकड़ लो।”

प्रियांक नाम के यूजर ने लिखा,”नहीं, यहां के बेरोजगार भारत में ही पढ़े हैं। लेकिन पढ़ाई के समय अगर क्लास में मजे करेंगे या क्लास बंक करेंगे तो इन्हें नौकरी कौन दिलवाएगा? तुम दोगे क्या ऐसे अकुशल लोगों को रोजगार, जिनके पास डिग्री और सर्टिफिकेट तो है मगर कौशल नहीं?”

अशोक शाह नाम के यूजर ने लिखा,”भाई सब लोग मिलकर पागल बना रहे हैं। भारत से पढ़ाई के लिए पाकिस्तान कौन जाता है? कोई नहीं जाता। पाकिस्तान जाने से अच्छा जिम्बाब्वे जाकर पढ़ाई कर लो।” रणजीत रॉय ने लिखा,”मेरे घर में चार-चार बेरोजगार ग्रेजुएट हैं। उन्होंने भारत से पढ़ाई की है। उन्हें कोई तो नौकरी दिलवा दो भाई।” चंद्रा काला ने लिखा,”यहां जो पढ़कर चार साल से बैठे हैं, उन्हें कौनसी नौकरी मिल गई?”

बता दें कि 22 अप्रैल को यूजीसी और एआईसीटीई ने एक सर्कुलर जारी कर कहा था कि अगर कोई भारतीय छात्र पाकिस्तान के किसी कॉलेज या शैक्षणिक संस्थान से पढ़कर आते हैं तो उन्हें भारत में कोई नौकरी या उच्च शिक्षा नहीं मिल सकेगी।

चीन के संस्थानों में भारतीय छात्रों को उच्च शिक्षा हासिल करने से बचने की चेतावनी देने के बाद यूजीसी और एआईसीटीई की ओर से ये आदेश जारी किया गया था।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.