ताज़ा खबर
 

ट्रोल पुलिस: “गर्लफ्रेंड नहीं मिल रही तो हेल्प कर दूं”, अनुराग कश्यप का ट्रोल्स को जवाब

गैंग्स ऑफ वासेपुर, ब्लैक फ्राइडे, नो स्मोकिंग, रमन राघव और मुक्काबाज जैसी फिल्मों का निर्देशन कर चुके अनुराग ने इस शो में अपनी बात रखते हुए ट्रोल्स को 4 हिस्सों में बांटा- ग्रामर में गलतियां निकालने वाले, उन्हें लड़कीबाज समझने वाले, फ्रीडम ऑफ स्पीच की बात करने वाले और काउंसलर्स।

फिल्म निर्माता-निर्देशक अनुराग कश्यप।

एमटीवी के मशहूर शो “ट्रोल पुलिस” में इस बार फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप अपनी बात रखने और ट्रोल्स को सीधा जवाब देने पहुंचे। अपनी बात को मजबूती के साथ लोगों के सामने रखने वाले अनुराग ने यहां भी अपने विचारों को खुलकर सभी के सामने रखा। सोशल मीडिया पर कम सक्रिय रहने वाले अनुराग को उनके तकरीबन हर ट्वीट के लिए सोशल मीडिया पर बुरा भला कहा जाता है। अब क्योंकि वह एक व्यस्त इंसान हैं तो इस तरह के लोगों को जवाब देने के लिए उनके पास वक्त नहीं होता है। ट्रोल पुलिस में अनुराग ने इस तरह के ट्वीट करने वाले और भद्दी बातें कहने वाले ट्रोल्स को थोक में जवाब दिया।

गैंग्स ऑफ वासेपुर, ब्लैक फ्राइडे, नो स्मोकिंग, रमन राघव और मुक्काबाज जैसी फिल्मों का निर्देशन कर चुके अनुराग ने इस शो में अपनी बात रखते हुए ट्रोल्स को 4 हिस्सों में बांटा- ग्रामर में गलतियां निकालने वाले, उन्हें लड़कीबाज समझने वाले, फ्रीडम ऑफ स्पीच की बात करने वाले और काउंसलर्स। अनुराग ने बताया कि कुछ लोग उनकी ग्रामर में गलतियां निकालते हैं। एक तो 280 अक्षरों में अपनी बात कह पाना इतना मुश्किल है। ऐसे में बात सुनने की बजाए कोई आदमी अगर स्पेलिंग मिस्टेक्स देखता है तो ऐसे लोगों को मैं सलाम करता हूं। अनुराग ने बताया कि उनकी निजी जिंदगी को लेकर भी लोग टिप्पणियां करते हैं। उन्होंने कहा- मैं बड़े दिल वाला हूं मेरी हो गईं दो शादी क्या करूं, मेरी गलती तो है नहीं इसमें। अब तुम्हें गर्लफ्रेंड नहीं मिल रही है तो मुझे बता दो मैं हेल्प कर देता हूं।

अनुराग ने इस शो में यह भी बताया कि कुछ ऐसे भी लोग हैं जो उनसे बेहतर समझते हैं कि उन्हें जिंदगी में क्या करना चाहिए। ऐसे लोग उन्हें सोशल मीडिया पर लगातार यह समझाते रहते हैं कि उन्हें किस तरह की चीजें करनी चाहिए जिससे उनका करियर बेहतर हो। अनुराग ने उन लोगों को भी घेरने का प्रयास किया जो कि फ्रीडम ऑफ स्पीच की बात कहकर उन्हें घेरने की कोशिश करते रहते हैं। अनुराग ने ऐसे लोगों को जवाब देते हुए कहा- यदि आपने आर्टिकल 19 ए पढ़ा है तो आपको मालूम हो कि मेरा मेरे प्रधानमंत्री के सामने अपनी बात रखना फ्रीडम ऑफ स्पीच है… आपका मुझे गालियां देना फ्रीडम ऑफ स्पीच नहीं है।

https://www.jansatta.com/entertainment/

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App