ताज़ा खबर
 

सरकार के विरोध में अंधे नेता देश जलाने को भी तैयार- ट्रैक्टर परेड में हिंसा पर भड़के बॉलीवुड एक्टर, बोले- कुछ हो तुरंत लेते हैं BJP-RSS का नाम

रणवीर ने अपने अगले ट्वीट में कहा- किसानों को केवल शांतिपूर्वक विरोध करने का अधिकार है, न कि बर्बरता और हिंसा करने का। यह निर्वाचित सरकार है और इसे विधायी सुधार का अधिकार है।

Edited By Rachna Rawat Updated: January 28, 2021 12:35 PM
ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा को देख कर रणवीर शौरी ने भी गुस्से में कज्ञ ट्वीट किए

गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड में हुई हिंसा पर बॉलीवुड एक्टर रणवीर शौरी का बयान सामने आया है। उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट किए और विपक्षी नेताओं पर निशाना साधा। शौरी ने कहा कि सरकार के विरोध में अंधे नेता देश भी जलाने को तैयार हो गए हैं। रणवीर ने अपनी पहली पोस्ट में कहा, ‘सबसे बड़ी ट्रैजेडी है कि इस प्रोटेस्ट का समर्थन करने वाले तमाम नेताओं में से किसी ने भी हिंसा की निंदा नहीं की। सिर्फ इस सरकार को शर्मिंदा करने के लिए,  ये सब देश को जलाने के लिए भी तैयार हैं।’

रणवीर ने अपने अगले ट्वीट में कहा- किसानों को केवल शांतिपूर्वक विरोध करने का अधिकार है, न कि बर्बरता और हिंसा करने का। यह निर्वाचित सरकार है और इसे विधायी सुधार का अधिकार है। अपनी अगली पोस्ट में रणवीर ने कहा, जरा इनके पाखंड को तो देखें, गणतंत्र दिवस पर हिंसा और दंगा केवल अतिवादियों द्वारा किया गया था। ये पूरे आंदोलन को दोष नहीं देते हैं, लेकिन अगर कोई दक्षिणपंथी फ्रिंज समूह, लिंचिंग या दंगा करे तो पूरी भाजपा-आरएसएस को ही दोषी मानते हैं।

रणवीर शौरी की बात पर कई यूजर्स सहमति जताते दिखे तो कई विरोध में भी उतर आए। एक यूजर ने लिखा- दोनों, योगेंद्र यादव और राहुल गांधी ने इस घटना की निंदा की। वास्तव में क्या हो रहा है उससे उन्हें मतलब नहीं। एक यूजर ने कहा- क्या होम मिनिस्ट्री इतनी निकम्मी है कि इस घटना को काबू नहीं कर पाई?

द लास्ट सिटीजन नाम के अकाउंट से कमेंट आया, आज लाल किले पर उपद्रवियों द्वारा उस तिरंगे का अपमान किया गया, जिसे लाल किले पर शोभित करने के लिए सदियों संघर्ष हुए एवं लाखों शहीद हुए। आज भी हो रहे हैं। इस घटना से मेरे जैसे करोड़ों देशवासी गहरी पीड़ा से गुजर रहे हैं।

एक यूजर ने लिखा, अरे ये किसान नहीं हैं, ये तो खालिस्तानी हैं। एक यूजर ने कहा- इनका मकसद है कि चमकते भारत को मिट्टी में मिलाना। तो किसी ने लिखा, अरे इस कांग्रेस ने तो शुरू से ही देश को डुबोया है। चार्लिस नाम के अकाउंट से कमेंट किया गया, उन्होंने महीनों तक शांतिपूर्वक विरोध किया, लेकिन सरकार नहीं सुन रही थी। इसलिए किसानों के पास कोई दूसरा विकल्प नहीं था। आप अपने पैसे और अभिनय से अर्जित प्रसिद्धि का उपयोग किए बिना एक वर्ष के लिए खेती करेंगे तो आप समझ जाएंगे।

Next Stories
1 बॉर्डर पर घेराबंदी कर किसी भी ट्रैक्टर को वापस जाने न दें- किसानों की परेड में हुई हिंसा पर भड़के महाभारत फेम एक्टर
2 लगातार 7 फिल्में फ्लॉप होने के बाद आधी रात चीखने लगे थे राजेश खन्ना, डर गई थीं पत्नी डिंपल कपाड़िया
3 भगत सिंह को बचा सकते थे गांधी जी- गणतंत्र दिवस पर वीडियो शेयर कर बोले मुकेश खन्ना, चंद्रशेखर आजाद को भी मारा गया; नेहरू एक बड़ी भूल
ये पढ़ा क्या?
X