ताज़ा खबर
 

ThrowBack: गरीबी में गुजरा था जॉनी वॉकर का बचपन, बस कंडक्टर की नौकरी से ऐसे बने कॉमेडी के किंग

Johnny Walker ThrowBack: एक वक्त ऐसा था जब जॉनी वॉकर के नाम का बॉलीवुड में डंका बजता था। लेकिन अपने बचपन के दिनों में जॉनी बेहद गरीब थे और सिर्फ उनकी एक आदत की वजह से उन्हें फिल्मों में काम मिला...

ThrowBack: दिग्गज अभिनेता जॉनी वॉकर की तस्वीर

Johnny Walker ThrowBack: बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर और कॉमेडियन जॉनी वॉकर एक्टिंग में आने से पहले बस कंडक्टर की नौकरी करते थे। जॉनी वॉकर का जन्म 11 नवंबर 1926 में इंदौर शहर में हुआ था। उनका बचपन काफी गरीबी में गुजरा था उनके पिता एक मील में मजदूरी किया करते थे। जॉनी वॉकर का असली नाम बद्दरुद्दीन जमालउद्दीन काजी था। 10 भाई-बहनों के बीच उनका बचपन बेहद गरीबी में गुजरा था। पिता की नौकरी छूटने के बाद वह अपने परिवार के साथ मुंबई आ गए थे।

जॉनी वॉकर ने अपने संघर्ष के दिनों में बस कंडक्टर की नौकरी भी की थी। इस काम के लिए उन्हें हर महीने 26 रुपए मिला करते थे। जॉनी के पास मिमिक्री करने का हुनर था। ऐसे में वह बस में मिमिक्री कर पैसेंजर्स का मनोरंजन किया करते थे।जॉनी वॉकर को फिल्मों में पहला मौका गुरुदत्त ने फिल्म ‘बाजी’ में दिया था। दरअसल बलराज सहानी जब इस फिल्म की कहानी लिख रहे थे तब मुंबई में एक बार बस में उनकी नजर जॉनी वॉकर पर पड़ी। टिकट कंडेक्टरी के साथ लोगों को हंसाने का जॉनी का ये अंदाज बलराज साहनी को बहुत पसंद आया इसके बाद उन्होंने उनका परिचय गुरु दत्त से करवाया था।

इसके बाद बद्दरुद्दीन जमालउद्दीन काजी उर्फ जॉनी वॉकर ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। कहा तो यहां तक जाता है कि एक टाइम ऐसा आ गया था जब लोग सिनेमा हॉल में सिर्फ जॉनी वॉकर को देखने जाया करते थे। जॉनी वॉकर के अभिनय के फैंस इस कदर कायल थे कि उनके हर एक सीन पर पब्लिक सीटीयां तालियां बजाया करती थी। जॉनी वॉकर पर फिल्माया गाना ‘चंपी तेल मालिश’ इस कदर पॉपुलर हुआ कि लोग आज तक उसे गुनगुनाते नजर आते हैं।

फिल्म शराबी में बिना शराब पिए उनके निभाए दमदार किरदार की वजह से उनका नाम अंग्रेजी शराब जॉनी वॉकर के नाम पर रख दिया गया था। फिल्मों की बात करें तो उन्होंने मिस्टर एंड मिसेज 55, प्यासा, चौदवी का चांद, कागज के फूल जैसी फिल्मों में काम किया। मधुमति के लिए उन्हें बेस्ट सपोर्टिंग एक्टर का फिल्मफेयर अवॉर्ड मिला। जॉनी आखिरी बार साल 1997 में कमल हासन की फिल्म चाची 420 में नजर आए थे। 29 जुलाई साल 2003 में उनका निधन हो गया था।जॉनी वॉकर की पर्सनल लाइफ की बात करें तो उन्होंने साल 1955 में नूरजहां से शादी की थी। नूरजहां एक्ट्रेस शकीला की बहन थीं। हालांकि, उनका परिवार शादी के सख्त खिलाफ था। जॉनी वॉकर का बेटा नासिर काजी फिल्म एक्टर और प्रोड्यूसर हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 Coronavirus लॉक डाउन पर ट्रोल करने वालों को ऋषि कपूर ने चेताया, कहा- ‘देश के खिलाफ कुछ बोले तो…’
2 शाहरुख खान ने अपने पैर पर खुद मारी थी कुल्हाड़ी! करियर की हिट फिल्म और नहीं मिली पूरी फीस
3 बंगाली साड़ी में जैकलीन फर्नांडिज को देख बादशाह के उड़ गए होश, कुछ यूं किया रिएक्ट