ताज़ा खबर
 

…तो मैं ‘जिगोलो’ बन गया होता- पिता की सीख और मां के 500 रुपए से बदली रवि किशन की किस्‍मत

रवि किशन ने एक बार अपने पिता के बारे में कहा था - वो मुझे मारते थे लेकिन मुझे बुरा नहीं लगता था। अगर उन्होंने मुझे नहीं मारा होता तो मैं ड्रग्स के दलदल में फंस सकता था या बुरे दोस्त बनाता या फिर लड़कियों के चक्कर में पड़ जाता। उनकी ही वजह से ही मुझे सुबह जल्दी उठने की आदत लगी।

अपने पिता और भोलेनाथ से बेहद प्रभावित हैं रवि किशन

भोजपुरी सिनेमा के सुपरस्टार रवि किशन अब गोरखपुर लोकसभा क्षेत्र से बीजेपी के उम्‍मीदवार हैं। जीवन के 50वें बसंत में चल रहे रवि किशन को भाजपा ने उस सीट पर आजमाया है, जहां से योगी आदित्‍य नाथ और उनसे पहले उनके गुरु अवैद्य नाथ सांसद हुआ करते थे। रवि भोजपुरी फिल्‍मों के सुपरस्‍टार तो हैं ही, बॉलीवुड और टेलीविजन की दुनिया में भी छाए रहे हैं। फिल्म मुक्काबाज़ में अपने रोल से सुर्खियां बटोर चुके रवि किशन साउथ की फिल्‍मों में भी काम कर चुके हैं।

रवि की ज़िंदगी में उनके पिता का काफी प्रभाव रहा है। पिता से जमकर मार खाई है तो उन्हीं से काफी कुछ सिखा भी है। रवि के पिता पुजारी हैं और वे चाहते थे कि बेटा दूध का बिजनेस करें। इस बात पर ही उनके पिता ने रवि की बेल्ट से पिटाई थी और उन्हें कहा था कि ये क्या तुम नचनिया बन रहे हो। लेकिन जब रवि 17 साल के हुए तो उनकी मां ने उन्हें 500 रुपए दिए और वो भागकर मुंबई आ गए। मुंबई में उनका संघर्ष शुरू हुआ औऱ वे वहां चॉल में रहकर बॉलीवुड फिल्मों में काम ढूंढने लगे। रवि ने अपने एक बयान में कहा था कि अगर पिता जी उनकी पिटाई ना करते तो आज मैं एक गुंडा या पुरुष वेश्या बन जाता।

रवि को  स्ट्रगल के दौरान एक बी ग्रेड फिल्म में काम करने का मौका मिला। इस फिल्म में उनके काम की काफी तारीफ हुई। इसके बाद तेरे नाम में रवि एक पुजारी के रोल में नज़र आए।  रवि अमिताभ बच्चन के बहुत बड़े फैन हैं। वे बचपन से ही उनकी फिल्में देखा करते थे। जो उन्हें काफी प्रोत्साहित करती थीं। अमिताभ के एक डायलॉग ने रवि को काफी प्रभावित किया था। वो डायलॉग था- ‘मैं फेंके हुए पैसे आज भी नहीं लेता।’ इसी डायलॉग से प्रेरित होकर रवि ने एक्टिंग करने की सोची।

रवि का पहला रोल सीता का था जो उन्होंने रामलीला में किया था। उनके पिता को ये पसंद नहीं था। उन्हें लगता था कि रवि एक गलत संगत में हैं और रवि अपनी ज़िंदगी में कुछ नहीं कर पाएंगे। इसी वजह से घर पर उनकी काफी पिटाई होती थी।

सलमान खान की फिल्म ‘तेरे नाम’ में रोल के बाद सुर्खियों में आए थे रवि किशन

रवि किशन ने एक बार अपने पिता के बारे में कहा था – वो मुझे मारते थे लेकिन मुझे बुरा नहीं लगता था। अगर उन्होंने मुझे नहीं मारा होता तो मैं ड्रग्स के दलदल में फंस सकता था या बुरे दोस्त बनाता या फिर लड़कियों के चक्कर में पड़ जाता। उनकी ही वजह से ही मुझे सुबह जल्दी उठने की आदत लगी। उन्होंने अपने अलग अंदाज़ में मुझे माया, सेक्स, आध्यात्म, लगाव, अलगाव जैसी चीज़ों के बारे में बता दिया था। वो मुझे समझाते, अपनी एनर्जी खराब मत करो, अपना दिमाग एक जगह पर फोकस करो, वे वन वुमेन मैन वाली थ्योरी में बेहद विश्वास करते थे और उन्होंने मुझे ये तक सलाह दी थी कि कभी पुरूष वेश्या बनने की कोशिश मत करना। मेरी लाइफ में पिता के साथ बेहद अलग किस्म का रिलेशनशिप रहा है।

https://www.jansatta.com/entertainment/

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App