ताज़ा खबर
 

ऋषि कपूर ने कहा- अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद से मिलकर नहीं की कोई गलती

ऋषि कपूर ने अपनी आत्मकथा 'खुल्लम खुल्ला' में अपनी जिंदगी से जुड़े कई पहलुओं पर खुलकर बात की है।

Author मुंबई | Updated: January 22, 2017 11:49 PM
ऋषि कपूर ने ​कहा कि इस काम के लिए एक कटआॅफ डेट होनी चाहिए थी जिससे किसी फिल्म प्रोडक्शन को कोई दिक्कत नही होती।

अनुभवी अभिनेता ऋषि कपूर ने अपनी आत्मकथा ‘खुल्लम खुल्ला’ में अपनी जिंदगी से जुड़े कई पहलुओं पर खुलकर बात की है। इसमें उन्होंने दाऊद इब्राहिम से मुलाकात का रहस्योद्घाटन भी किया है। उन्होंने कहा है कि उन्हें अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से मिलने का कोई खेद नहीं है। इंडिया टूडे टीवी के साथ एक साक्षात्कार में एंकर राजदीप सरदेसाई ने उनसे 1988 में दुबई में अंडरवल्र्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से मुलाकात के बारे में पूछा। ऋषि ने कहा, “इसमें खेदजनक क्या था।” उन्होंने बताया कि वह कैसे आ.डी. बर्मन, आशा भोसले और बिट्ट आनंद के साथ एक शो के लिए दुबई गए थे, और एक आदमी उनके पास एक फोन लेकर आया और कहा कि “भाई बात करेंगे”। ऋषि ने कहा, “उसने मुझे चाय पर बुलाया। मैं उसके घर गया। मुझे इसमें कुछ भी गलत नहीं लगा, क्योंकि वह सिर्फ एक भगोड़ा था, और उसने कुछ भी खतरनाक नहीं किया था।”

हालांकि एंकर ने टोकते हुए कहा, “लेकिन दाऊद तब भी एक अपराधी था।” ऋषि ने जवाब दिया, “‘तो क्या हुआ? मैं अपने जीवन में बहुत से अपराधियों से मिला हूं। मैं भी एक अपराधी हो सकता हूं, लेकिन मैंने कोई भी गंभीर अपराध नहीं किया है। लेकिन हां, एक अभिनेता होने के नाते, मैंने सोचा, मुझे उसकी कहानी जाननी चाहिए। ‘डी-डे’ फिल्म में मैंने काफी कुछ उसके जैसा किया।” ऋषि ने कहा कि लगभग चार घंटे की मुलाकात के दौरान उन्होंने दाऊद के साथ दो कम चाय पी थी। उन्होंने कहा, “उसने यह भी कहा कि उसे नहीं लगता कि भारत में उसे न्याय मिलेगा।”

यह मुलाकात 1993 के मुंबई विस्फोट से पूर्व हुई थी। लेकिन वह उस समय भी एक वांछित अपराधी था। यह पूछे जाने पर कि क्या वह अब भी दाऊद के संपर्क में हैं। इस पर ऋषि ने कहा कि दाऊद से उनका कोई संपर्क नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि इस समय फिल्मोद्योग के साथ अंडरवर्ल्ड का कोई संबंध नहीं है। लेकिन 1990 के दशक में बॉलीवुड का अंडरवल्र्ड के साथ गहरा रिश्ता था। यह पूछने पर कि क्या दाऊद ने उन्हें कोई तोहफा दिया था? इस पर उन्होंने कहा, “कभी नहीं.. लेकिन उसने मुझे पेशकश की थी और मुझसे पूछा था ‘क्या मैं आपको कुछ दे सकता हूं?’ मैंने कहा, ‘नहीं, आप मुझे कुछ क्यों देंगे? मुझे जो जरूरत है, ले सकता हूं’।”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 JLF 2017: जावेद अख्तर ने बयां कीं सामाजिक असमानता छेड़छाड़ और बलात्कार की वजहें
2 अक्षय कुमार और निमरत कौर के दिल के करीब है ‘एयरलिफ्ट’
3 गुरमीत राम रहीम की फिल्म ‘हिंद का नापाक को जवाब’ का मोशन पोस्टर रिलीज, देखिए वीडियो
जस्‍ट नाउ
X