scorecardresearch

ऐसा वक्त है जब किसी की भी भावनाओं को पहुंच जाती है ठेस

कश्यप ने देश के मौजूदा रचनात्मक माहौल को ‘सीमित’ बताते हुए कहा कि राजनीति और धर्म से संबंधित किसी भी विषय को फौरन अस्वीकार कर दिया जाता है।

लेखक-फिल्मकार अनुराग कश्यप का कहना है कि कलाकार ऐसे वक्त में सामग्री तैयार करने की कोशिश कर रहे हैं जब किसी भी बात पर, किसी भी शख्स की भावनाओं को आसानी से ठेस पहुंच जाती है। कश्यप ने देश के मौजूदा रचनात्मक माहौल को ‘सीमित’ बताते हुए कहा कि राजनीति और धर्म से संबंधित किसी भी विषय को फौरन अस्वीकार कर दिया जाता है।

लंदन में बुधवार को ‘दोबारा’ की बीएफआइ स्क्रीनिंग के बाद चर्चा के दौरान निर्देशक ने कहा, ‘मुझे लंबी-चौड़ी कहानी सुनाना पसंद है और मैं बहुत सारी सामग्री पर काम भी कर रहा हूं लेकिन हम इस तरह के माहौल से जूझ रहे हैं जहां आप जिस तरह के नाटक कर सकते हैं, उसमें संभावनाएं बहुत सीमित हैं। फिलहाल, हम ऐसी कोई चीज नहीं कर सकते हैं जिसका राजनीति या धर्म से रत्ती बराबर भी संबंध हो। इसके लिए फौरन इनकार कर दिया जाता है।’ निर्देशक ने कहा कि सीमित माहौल के बावजूद यह लंबी चौड़ी कहानी और प्रायोगिक कहानियां बताने का सही वक्त है।

कश्यप ने कहा, ‘इनकार इसलिए नहीं है कि किसी ने यह कह दिया कि आप वह नहीं कर सकते हैं। यह इसलिए है कि सब लोग ऐसे माहौल में रह रहे हैं जहां वे नहीं जानते हैं कि कोई शख्स कैसे प्रतिक्रिया देगा। फिलहाल हम बहुत कमजोर हैं और किसी भी चीज पर हमारी भावनाओं को आसानी से ठेस पहुंच जाती है।’ ‘दोबारा’ में काम करने वाली अभिनेत्री तापसी पन्नू और पवैल गुलाटी भी फिल्मकार कश्यप की फिल्म स्कालर रैचेल डायर के साथ बातचीत में शामिल हुए।

‘दोबारा’ फिल्म 23 जून को लंदन भारतीय फिल्म महोत्सव (एलआइएफएफ) में प्रदर्शित की गई थी और यह 2018 में आई स्पैनिश फिल्म ‘मिरगी’ की हिंदी रीमेक है। निर्देशक ने कहा कि उन्होंने पहली बार किसी रीमेक पर काम किया है। कश्यप ने उनकी सबसे लोकप्रिय फिल्म ‘गैंग्स आफ वासेपुर’ के बारे में भी बात की जिसकी रिलीज को पिछले हफ्ते 10 साल हो गए हैं।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट

X