ताज़ा खबर
 

पोस्टर पेंट कर नाना पाटेकर कमाते थे 35 रुपए प्रति माह, जानें दोस्तों के यहां क्यों जाते थे

जब भी संघर्ष के दिनों का जिक्र होता है, तो पुराने दिन उनके जहन में दोबारा उमड़ पड़ते हैं। वह जज्बाती तक हो जाते हैं। सोचते हैं कैसे लोग उनका निरादर करते थे। एक समय तो ऐसा आया...

बॉलीवुड में बहुत एक्टर हैं, जिनका कोई माई-बाप नहीं रहा। बोले तो, उनका कोई गॉडफादर नहीं था। कोई लॉबी भी नहीं रही, जिससे उन्हें फिल्म जगत में आसानी से एंट्री मिल सके। ऐसे ही एक्टर्स की बात होती है, तो विश्वनाथ पाटेकर का नाम ऊपर की कतार में आता है। अरे, हम किसी और की नहीं, बल्कि अपने नाना पाटेकर के बारे में बात कर रहे हैं।

जी हां, जिन्होंने कई बार अपनी दमदार एक्टिंग से सिल्वर स्क्रीन पर जादू बिखेरा। थियेरटर की जमीन से निकलने वाले नाना ने फिल्में कीं, लेकिन बड़े सेलेक्टिव होकर। अधिकतर वह हमें सामाजिक मुद्दों पर बनी फिल्मों में नजर आए। हालांकि, उनको फिल्मों में लाने के लिए कुछ हद तक का स्मिता पाटिल का हाथ भी रहा। वह खुद भी इसका श्रेय उन्हें देते हैं, लेकिन अंततः जी तोड़ मेहनत तो उन्हें करनी ही पड़ी।

नाना का बचपन भयंकर गरीबी में इर्द-गिर्द गुजरा। पिता मंझोले स्तर के व्यापारी थे। परिवार की हालत बिगड़ी, तो 13 साल की उम्र में काम करने लगे। तब रोजाना वह आठ किलोमीटर पैदल चलकर फिल्मी पोस्टरों को पेंट करते थे। आज फिल्मों में करोड़ो रुपए फीस लेने वाले नाना को तब इस काम के लिए 35 रुपए प्रति माह तनख्वाह के तौर पर मिलते थे।

जब भी संघर्ष के दिनों का जिक्र होता है, तो पुराने दिन उनके जहन में दोबारा उमड़ पड़ते हैं। वह जज्बाती तक हो जाते हैं। सोचते हैं कैसे लोग उनका निरादर करते थे। एक समय तो ऐसा आया था जब वह दोस्तों के यहां इस उम्मीद से जाते थे कि कोई उन्हें खाने के लिए पूछ लेगा। भूख मिटाने के लिए एक वक्त की रोटी मिल जाएगी। नाना ने वाकई में ऐसा ही कठिन दौर देखा है, जब वह दूसरों पर अप्रत्यक्ष रूप से निर्भर थे।

नाना ने यूं ही दर-दर भटक कर जीवन जीना सीखा। बड़े हुए, तो पढ़ाई की। फिर थियेटर करने लगे। यही वह मंच था, जिसने नाना को फिल्म जगत में एंट्री दिलाने में सबसे अहम भूमिका निभाई। और नाना को पहचान भी यहीं से मिली।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 दिलीप कुमार को अस्पताल से मिली छुट्टी, सायरा बोलीं- डरावना सपना था, भगवान की आभारी हूं
2 बाबा रामदेव ने ली बॉलीवुड में एंट्री, ये है इंड‍िया फ‍िल्‍म के गाने सैयां सैयां… में द‍िखेंगे
3 अनिल कपूर को जब FTII ने किया था रिजेक्ट, तब साउथ फिल्मों में काम कर बने ‘परफेक्ट’
IPL 2020 LIVE
X