scorecardresearch

परेश रावल से शख्स ने पूछा, रात को नींद आती है ना? मुफ्त की रेवड़ी का जिक्र कर एक्टर ने दिया ये जवाब

परेश रावल ने कहा कि पूरा दिन मेहनत करो तो रात को मज़ेदार नींद आती हैं लेकिन अगर दिनभर मुफ़्त की रेवड़ियां खाते रहो तो नींद नहीं आएगी ।

परेश रावल से शख्स ने पूछा, रात को नींद आती है ना? मुफ्त की रेवड़ी का जिक्र कर एक्टर ने दिया ये जवाब
परेश रावल ( image: indian express)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पिछले महीने लोगों को यह कहते हुए आगाह किया था कि देश में रेवड़ी बांटने की संस्कृति चल रही है। इस पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने हाल ही प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मुफ्त बिजली, पानी, शिक्षा और स्वास्थ्य को लेकर बीजेरी पर निशाना साधते हुए कहा कि इसे फ्री की रेवड़ी बताया जा रहा है। बच्चों को मुफ्त शिक्षा देने की वजह से राजस्व को घाटा हो रहा है, इससे बुरी बात नहीं हो सकती है। इस पर बॉलीवुड एक्टर परेश रावल ने भी तंज कसा है।

परेश रावल ने किया ट्वीट

दरअसल एक्टर से सोशल मीडिया पर एक पुष्पेंद्र वर्मा नाम के शख्स ने पूछा कि सर जी गुजरात में सब ठीक चल रहा है? रात में अच्छे से नींद तो आ रही है न ? इस पर एक्टर ने प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि बिलकुल वर्मा जी बड़ी अच्छी नींद आती हैं। पूरा दिन मेहनत करो तो रात को मज़ेदार नींद आती हैं लेकिन अगर दिनभर मुफ़्त की रेवड़ियां खाते रहो तो नींद नहीं आएगी ।

बीजेपी ने आप पर साधा निशाना

हाल ही में बीजेपी प्रवक्ता गौरव भाटिया ने कहा है कि भारत की जनता कह रही है कि जमीन पर तो हैं जीरो, लेकिन रेवडियां बांटकर बनना चाहते हैं हीरो। उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल ने वादा किया कि मैं 500 नए स्कूल दूंगा।

लेकिन 500 नए स्कूल खोलना तो दूर, 16 स्कूल दिल्ली में बंद हो गए। RTI से पता चलता है कि 16 स्कूल बंद होने के साथ ही 745 स्कूल ऐसे हैं, जहां प्रधानाचार्य नहीं है।

मुफ्त की रेवड़ी पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी

बता दें कि 4 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने भी मुफ्त की रेवड़ी पर टिप्पणी की थी। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि नीति आयोग, वित्त आयोग, सत्ताधारी दल और विपक्षी पार्टियों

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया और अन्य संस्थाओं को भी इस मामले में सुझाव देने चाहिए कि आखिर इस ‘रेवड़ी कल्चर’ को कैसे रोका जा सकता है।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

अपडेट