scorecardresearch

‘मेरे दो अनमोल रतन’ राहुल गांधी के साथ अशोक गहलोत और सचिन पायलट की तस्वीर शेयर कर फिल्ममेकर ने कसा तंज, मिले ऐसे जवाब

फिल्मेकर अशोक पंडित ने राहुल गांधी के साथ अशोक गहलोत और सचिन पायलट की फोटो शेयर करते हुए चुटकी ली है।

‘मेरे दो अनमोल रतन’ राहुल गांधी के साथ अशोक गहलोत और सचिन पायलट की तस्वीर शेयर कर फिल्ममेकर ने कसा तंज, मिले ऐसे जवाब
सचिन पायलट और राहुल गांधी (पीटीआई फोटो)

जाने माने फिल्ममेकर अशोक पंडित अक्सर अपने बयानों को लेकर चर्चा में रहते हैं। वह सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं। वह अपने ट्वीट के माध्यम से सामाजिक से लेकर राजनीतिक मुद्दों पर अपनी राय रखते नजर आते हैं। अब इसी क्रम में उन्होंने राजस्थान में चल रही सियासी उठापटक के बीच राहुल गांधी की चुटकी ली है।

अशोक पंडित ने किया ट्वीट

फिल्ममेकर अशोक पंडित ने राहुल गांधी के साथ अशोक गहलोत और सचिन पायलट की तस्वीर शेयर की है। इस तस्वीर में राहुल गांधी के एक तरफ अशोक गहलोत और दूसरी तरफ सचिन पायलट खड़े हुए है। तस्वीर शेयर करते हुए अशोक पंडित ने लिखा कि मानो राहुल बाबा कह रहे हो कि मेरे दो अनमोल रतन।

इसी के साथ फिल्ममेकर ने एक और फोटो शेयर की। इसमें सचिन पायलट और ज्योतिरादित्य सिंधिया नजर आ रहे हैं। इस तस्वीर को शेयर करते हुए पंडित जी लिखते हैं कि काहे माँ बेटे के चकरों में पड़े हो ?आ जाओ मेरे साथ।

लोगों की प्रतिक्रियाएं

अशोक पंडित के इस ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर्स अपनी प्रतिक्रियाएं दे रहे हैं। सत्यनाथ नाम के यूजर ने लिखा कि मेरे आखरी दो अनमोल रतन कहना सही होगा। रोहित नाम के यूजर ने लिखा कि जमाना आज भी विभीषण को भेदी ही बुलाता है पंडित जी संघर्ष ही सही सचिन पायलट जी को जनता एक योद्धा की तरह देखती है, कुर्सी के लालच में कुछ पार्टी छोड़ जाते हैं। कुछ डटे रहते हैं।

वहीं एक यूजर ने लिखा कि मां बेटे को चलो छोड़ भी दें पायलट लेकिन पत्नी का क्या करेंगे। दिनेश नाम के यूजर ने लिखा कि सचिन पायलट के पास भाजपा में प्रवेश करने के अलावा कोई पर्याय नहीं है।

जानिए क्या है पूरा मामला

दरअसल 25 सितंबर को पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के के निर्देश पर पार्टी पर्यवेक्षक मलिकार्जुन खड़गे और अजय माकन ने राजस्थान कांग्रेस विधायक दल की मीटिंग रखी थी, लेकिन अशोक गहलोत के समर्थक 90 विधायक वहां नहीं पहुंचे और एक मंत्री के घर मीटिंग करने के बाद विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी के घर जा पहुंचे और उन्हें अपना त्याग पत्र सौंप दिया। इसी के साथ विधायकों ने तीन शर्ते भी रखी। उनका कहना है कि 2020 में पार्टी के खिलाफ विद्रोह करने वाले सचिन पायलट को मुख्यमंत्री न बनाया जाए। दूसरा, 19 अक्टूबर तक कांग्रेस विधायक दल की बैठक न हो। तीसरा, अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री बनाए रखने का विकल्प दिया जाय।

पढें मनोरंजन (Entertainment News) खबरें, ताजा हिंदी समाचार (Latest Hindi News)के लिए डाउनलोड करें Hindi News App.

First published on: 26-09-2022 at 03:56:24 pm