ताज़ा खबर
 

तारक मेहता के इन कैरेक्टर्स को लेकर जेठालाल ने कह दी थी ये बात; दिलीप जोशी ने बताया शो TMKOC के लंबा चलने का असली कारण

दिलीप जोशी कहते हैं कि TMKOC की टीम में ऐसा कोई नहीं है जो कि आलसी हो, अगर ऐसा होता तो 3000 एपिसोड्स हो नहीं पाते। पोपट पत्रकार यानी श्याम को लेकर

तारक मेहता का उल्टा चश्मा में दिलीप जोशी और दिशा वकानी (फोटो सोर्स- दिलीप इंस्टा)

शो तारक मेहता का उल्टा चश्मा के जेठालाल गोकुलधाम सोसाइटी में हर किसी से अलग अलग तरह की इक्वेशन रखते हैं। जैसे शो पर तारक मेहता संग उनकी खूब पटती है। तो वहीं जेठालाल की भीड़े से नोकझोंक होती रहती है। अय्यर से छत्तीस का आंकड़ा होता है वहीं बबीता जी के लिए जेठा हमेशा तैयार रहते हैं। शो TMKOC में जेठालाल का किरदार निभाने वाले एक्टर दिलीप जोशी बताते हैं कि ऑफ कैमरा भी सेट कलाकार कैसे एक दूसरे से पेश आते हैं और उनका वास्तविक स्वभाव कैसा है?

दिलीप जोशी बताते हैं- ‘हाथी भाई- (आजाद भाई) और पोपटलाल (अमित) की सेट पर खूब मस्ती चलती थी। चंपक लाल (बापूजी) बहुत मस्तीखोर हैं। बापू जी को भी अगर ऑफएयर देख लो तो लगता है अरे ये बापूजी हैं? दिलीप जोशी आगे बताते हैं कि अमित का नाम शो मेकर असित मोदी को उन्होंने ही सजेस्ट किया था। बाद में उनका एक वीडियो टेस्ट हुआ था जिसमें वह शो के लिए सेलेक्ट हो गए थे।

पोपट पत्रकार यानी श्याम को लेकर दिलीप जोशी बताते हैं कि पोपटलाल को खाना खाना बहुत पसंद है। हालांकि हम सभी जैसे भीड़े भाई, मेहता साहब, पोपट लाल, चंपक चाचा साथ में ही बैठे हैं। हम सभी लंच साथ में बैठकर ही करते हैं।

वह बताते हैं कि शो में पंचुएलिटी का बहुत ख्याल रखा जाता है। शो का हर कलाकार टाइम का पाबंद है। भीड़े शूटिंग में एकदम टाइम पर पहुंचते हैं। अमित भाई, लेडीज में, माधवी जी सोनाली जी, मि. कोमल हैं जो कि काफी पंचुअल हैं।

तारक मेहता शो को चलते हुए 13 साल हो गए हैं, ऐसे में इस शो की सफलता का राज बताते हुए एक्टर कहते हैं- हमारे तारक मेहता की पूरी टीम समर्पण वाली है। इसी वजह से ये शो इतना लंबा चल पाया है। नहीं तो ये बिलकुल नामुमकिन है। दिलीप जोशी ने आगे कहते हैं कि TMKOC की टीम में ऐसा कोई नहीं है जो कि आलसी हो, अगर ऐसा होता तो 3000 एपिसोड्स हो नहीं पाते।

तारक मेहता शो में इतने सारे कलाकार हैं ऐसे में इस शो के सेट से कभी भी लड़ाई-झगड़े की कोई खबर नहीं आती। इसपर दिलीप जोशी कहते हैं – ‘बड़ी बात ये है कि हममें से किसी के भी बीच में इगो प्रॉब्लम भी नहीं है। हर शख्स जमीन से जुड़ा है। ये सेट पर नहीं है कि इसकी साड़ी मेरी साड़ी से सफेद कैसे? हमारे सेट की सारी लेडीज सुलझी हुई हैं।’

दिलीप ने आगे बताया कि भीड़े काफी प्रोफेशनल किस्म के हैं। अय्यर बहुत डेडीकेटेड किस्म के हैं। तारक मेहता के लिए वह कहते हैं कि मेहता साहब तो कवि इंसान हैं। इसलिए एक शब्द में उन्हें बांधना मुश्किल है। सोढ़ी एक दम मस्त मौला हैं। वहीं पोपटलाल भी समर्पित व्यक्तित्व के हैं। बाघा बहुत ही प्यारा इंसान है।

 

 

Next Stories
1 डायलॉग पर ताली बजी तो आप एक्टिंग छोड़ देंगे- जब डायलॉग बदलने पर निर्देशक से लड़ पड़े थे अमिताभ बच्चन, टीनू आनंद ने रखी थी ऐसी शर्त
2 बेटे को कॉलेज में छोड़ने के बाद रोने लगे थे राजकुमार, कुछ इस प्रकार का था एक्टर का व्यवहार; बेटे ने किये खुलासे
3 लोग मेरी खूबसूरती की तारीफ करते थे लेकिन…डिंपल कपाड़िया को पति राजेश खन्ना से थी एक शिकायत; छलक पड़ा था दर्द
ये  पढ़ा क्या?
X