ताज़ा खबर
 

‘राब्ता’ की रिलीज के बाद खुद को इस तरह से बिजी रख रहे हैं सुशांत सिंह राजपूत

दरअसल, सुशांत सिंह राजपूत शिक्षा के मूलभूत अधिकार में विश्वास रखते हैं, उन्होंने यह निर्णय लिया है कि वो इसमें अपना कुछ योगदान देकर कुछ गरीब बच्चों की शिक्षा का खर्च उठाएंगे।

Author नई दिल्ली | June 14, 2017 4:25 PM
बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत। (Image Source: Instagram, @sushantsinghrajpoot)

पिछले शुक्रवार यानी 9 जून को आई सुशांत सिंह राजपूत की फिल्म राब्ता बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास कलेक्शन नहीं कर पाई  है। लेकिन इन सब चीजों को पीछे छोड़ते  हुए सुशांत सिंह राजपूत ने एक स्कॉलरशिप शुरू की है जो की उन स्टूडेंट्स को दी जा रही है जिन्हें टेस्ट में बैठना है। जो स्टूडेंट टेस्ट में सबसे अच्छा स्कोर करेंगे उनमें से जिसकी भी फैमिली इनकम सबसे कम होगी उसे ही यह स्कॉलरशिप दी जाएगी। वहीं सूत्र का कहना है कि यह बहुत अच्छी बात है। अब आपके मन में सवाल होगा कि सुशांत आखिर किस चीज की स्कॉलरशिप शुरू कर रहे हैं। जिन लोगों को नहीं पता उन्हें हम बताते हैं।

दरअसल, सुशांत सिंह राजपूत शिक्षा के मूलभूत अधिकार में विश्वास रखते हैं, उन्होंने यह निर्णय लिया है कि वो इसमें अपना कुछ योगदान देकर कुछ गरीब बच्चों की शिक्षा का खर्च उठाएंगे। अपनी पहल के बारे में समाचार एजेंसी आईएएनएस से बात करते हुए एक्टर ने कहा- मेरी टीम इस पर काम कर रही हैं, जहां हम स्कूलों का चयन कर रहे हैं और फिर हम बच्चे की योग्यता की परीक्षा लेंगे। अगर बच्चा परीक्षा पास कर लेता है तो एक साल के लिए उसकी पढ़ाई का खर्च हम उठाएंगे। उन्होंने बताया कि अगले साल मुफ्त शिक्षा के लिए उन बच्चों को फिर परीक्षा देनी होगी।

HOT DEALS
  • Coolpad Cool C1 C103 64 GB (Gold)
    ₹ 11290 MRP ₹ 15999 -29%
    ₹1129 Cashback
  • Jivi Energy E12 8 GB (White)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹0 Cashback

एक्टर ने बताया था- यह पहला चरण है और अन्य प्रारूपों पर भी काम किया जाएगा। इससे बच्चे पढ़ाई करने के लिए प्रोत्साहित होंगे और ज्यादा प्रतिस्पर्धी बनेंगे। पटना में जन्मे और पले-बढ़े सुशांत पैसे की दिक्कत के चलते विदेश जाकर पढ़ाई करने की अपनी ख्वाहिश पूरी नहीं कर पाए। हालांकि वह पढ़ने में काफी तेज थे और उन्होंने इंजीनियरिंग की कई परीक्षाएं पास की थीं।

शिक्षा की अहमियत पर सुशांत ने कहा- मेरी मां ने मुझसे हमेशा कहा है कि हम बच्चों को डॉक्टर या इंजीनियर बनने के लिए नहीं पढ़ाते बल्कि इसलिए पढ़ाते हैं क्योंकि बुनियादी शिक्षा का प्रभाव उनके पूरे जीवन और फैसले लेने की क्षमता को प्रभावित करता है, इसलिए अगर आप एक्टिंग जैसे किसी क्रिटिव पेशे में आ रहे हैं तो बुनियादी शिक्षा आपको विश्लेषणात्मक रूप से सोचने में मदद करेगी।

https://www.jansatta.com/entertainment/

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App