When Sunil Shetty started crying watching vinod kambli crying during india srilanka match - 1996 विश्व कप में विनोद कांबली को रोता देख फूट-फूट कर रोने लगे थे सुनील शेट्टी - Jansatta
ताज़ा खबर
 

1996 विश्व कप में विनोद कांबली को रोता देख फूट-फूट कर रोने लगे थे सुनील शेट्टी

सुनील शेट्टी स्कूली दिनों से ही क्रिकेट को लेकर बेहद पैशनेट थे। उनके स्कूल में एक दिन इंग्लैंड की एक स्कूली क्रिकेट टीम पहुंची थी। सुनील के स्कूल की क्रिकेट टीम मात्र 76 पर आउट हो गई थी और इंग्लैंड ने एक विकेट खोकर ये लक्ष्य हासिल कर लिया था। इंग्लैंड का ये एकमात्र विकेट भी सुनील शेट्टी ने ही लिया था।

सोर्स : इंडियन एक्सप्रेस
अपनी एक्शन और कॉमेडी से 90 के दशक में अलग पहचान बना लेने वाले सुनील शेट्टी अब बॉलीवुड में खास सक्रिय नहीं हैं लेकिन सुनील अब भी क्रिकेट फील्ड या स्पोर्ट्स खेलते हुए नज़र आ जाते हैं। दरअसल सुनील फिल्मों की दुनिया में आने से पहले क्रिकेटर ही बनना चाहते थे। वे क्रिकेट में गहरी रूचि रखते हैं और वे क्रिकेट को लेकर इतने पैशनेट थे कि 1996 विश्व कप के दौरान वे क्रिकेट खिलाड़ी विनोद कांबली को रोता देख रोने लगे थे।
विनोद ने बताया कि ‘1996 विश्व कप के दौरान सेमीफाइनल में श्रीलंका ने टीम इंडिया को हरा दिया था, उस दौरान मैं बहुत निराश हुआ था और स्टेडियम से निकलते वक्त रोने लगा था। उस दौर में ही मैंने एक अखबार में सुनील शेट्टी का बयान पढ़ा था – “विनोद कांबली को रोता देख मैं भी रोया था।” मैं वो पढ़कर काफी राहत महसूस कर रहा था कि कोई तो है जो बॉलीवुड में क्रिकेटर्स की कद्र करता है।’
इस मामले में सुनील ने कहा था – ‘विनोद को रोते देखकर मुझे भी रोना आ गया था क्योंकि वो जानता था कि हम मैच जीत सकते थे। हमने मैच के शुरुआती ओवर्स में ही कालूवितर्णा और जयसूर्या को आउट कर दिया था, ऐसे में वो मैच जीतने की हमारी संभावना काफी प्रबल थी। मैं काफी दुखी हुआ था और इसी निराशा के चलते ही मैं भी टीवी पर विनोद को रोता देखकर रोने लगा था।’
गौरतलब है कि सुनील शेट्टी स्कूली दिनों से ही क्रिकेट को लेकर बेहद पैशनेट थे। उनके स्कूल में एक दिन इंग्लैंड की एक स्कूली क्रिकेट टीम पहुंची थी। सुनील के स्कूल की क्रिकेट टीम मात्र 76 पर आउट हो गई थी और इंग्लैंड ने एक विकेट खोकर ये लक्ष्य हासिल कर लिया था। इंग्लैंड का ये एकमात्र विकेट भी सुनील शेट्टी ने ही लिया था। खास बात ये थी कि सुनील ने उस स्टंप को अपनी स्पीड से तोड़ दिया था और स्कूल में सुनील के गेम को देखकर कई जूनियर्स प्रेरणा लिया करते थे।

https://www.jansatta.com/entertainment/

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App