ताज़ा खबर
 

Ramsay Brothers में से एक Shyam Ramsay नहीं रहे, बनाई थीं ‘पुरानी हवेली’ और ‘तहखाना’ जैसी हॉरर फिल्में

श्याम रामसे ने अंधेरा (1975), सबूत (1980), पुराना मंदिर (1984), पुरानी हवेली (1989), धुंध: द फॉग (2003) और कोई है (2017) जैसी फिल्में बनाई थीं।

Author मुम्बई | Published on: September 18, 2019 5:37 PM
श्याम रैम्जे (फोटो सोर्स इंडियन एक्सप्रेस)

Shyam Ramsay Passes Away: ‘पुरानी हवेली’ और ‘तहखाना’ जैसी हॉरर फिल्मों के लिए चर्चित ‘रामसे ब्रदर्स’ में से एक श्याम रामसे का बुधवार (18 सितंबर) सुबह मुंबई के एक अस्पताल में निधन हो गया। उनके परिजनों ने बताया कि 67 वर्षीय श्याम रामसे न्यूमोनिया से पीड़ित थे। श्याम के एक संबंधी ने पीटीआई को बताया ‘‘स्वास्थ्य ठीक न होने की वजह से उन्हें दो-तीन दिन पहले अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बुधवार तड़के 5 बजे न्यूमोनिया से उनका अस्पताल में देहांत हो गया।’’ श्याम रामसे के परिवार में उनकी दो बेटियां साशा और नम्रता हैं।

हॉरर फिल्मों से बनी पहचान: श्याम भारतीय सिनेमा में हॉरर फिल्मों की वजह से लंबे समय तक एक खास जगह रखने वाले रामसे ब्रदर्स में से एक थे। रामसे ब्रदर्स ने 1970 और 1980 के दशक में कम बजट में हॉरर फिल्में बनाईं, जिन्हें दर्शकों ने खूब सराहा।

National Hindi Khabar, 18 September 2019 LIVE News Updates: PM मोदी की सभा में तैनात सुरक्षा गार्ड ने साथी की बंदूक से खुद को गोली मार किया सुसाइड

द जी हॉरर शो भी बनाया: माना जाता है कि इन हॉरर फिल्मों के पीछे असली सोच श्याम रामसे की होती थी। उन्होंने ‘दरवाजा’, ‘पुराना मंदिर’, ‘वीराना’ और ‘द जी हॉरर शो’ जैसी फिल्मों का निर्देशन किया था।

कराची से आए थे रामसे ब्रदर्स: रामसे ब्रदर्स के यहां तक पहुंचने की कहानी अविभाजित भारत के कराची में रेडियो की एक छोटी सी दुकान से शुरू होती है। विभाजन के बाद दुकान के मालिक फतेहचंद रामसिंघानी मुंबई आ गए। इसके बाद उन्होंने फिल्म निर्माण में हाथ आजमाने का फैसला किया।

नाम के आगे लगाया रामसे: रामसिंघानी ने ही अपने नाम के आगे ‘रामसे’ लगाया। इसके बाद उन्होंने ‘शहीद-ए-आजम भगत सिंह’ (1954) और ‘रुस्तम सोहराब’ (1963) का निर्माण किया, जिसमें पृथ्वीराज कपूर और सुरैया ने मुख्य किरदार निभाया था।

बॉलिवुड में कराई बेटों की एंट्री: रामसिंघानी की दोनों फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर खूब जादू बिखेरा। इसके बाद वह एक-एक करके अपने सातों बेटों कुमार, तुलसी, श्याम, केशु, किरन, गांगुली और अर्जुन को फिल्म निर्माण में ले आए। ऐसे में उनकी पहचान ‘रामसे ब्रदर्स’ के रूप में हुई।

हॉरर फिल्मों से हुए फेमस: बता दें कि रामसे ब्रदर्स को पृथ्वीराज कपूर और शत्रुघ्न सिन्हा अभिनीत ‘एक नन्ही मुन्नी सी लड़की’ (1970) की असफलता से नुकसान उठाना पड़ा था। इसके बाद सभी भाइयों ने मिलकर हॉरर फिल्म ‘दो गज जमीन के नीचे’ (1972) का निर्माण किया। फिल्म खूब चली, जिससे सभी भाइयों के अलावा भारतीय हॉरर फिल्म उद्योग को भी फायदा हुआ।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 America’s Got Talent 2019: शाहिद कपूर और नरगिस फाखरी के गाने पर देसी छोरों का डांस हो गया वायरल
2 कपिल शर्मा ने मारा ताना- अब आप ”आप” क्‍यों नहीं रहे तो कुमार विश्वास ने द‍िया जवाब- सिर्फ हॉलीवुड में ही आदमी झाड़ू लगाकर उड़ सकता है
3 Mumbai: मेट्रो कंस्ट्रक्शन साइट से कार पर चट्टान गिरी तो भड़क उठीं Mouni Roy, ऐसे शांत हुआ गुस्सा