ताज़ा खबर
 

जब टी सीरीज के मालिक की हत्या के बाद बदल गई जिंदगी, फिर टूट गई थी नदीम-श्रवण की जोड़ी!

नदीम और श्रवण ने मिल कर इंडस्ट्री को एक से बढ़कर एक हिट गाने दिए। ऐसे में श्रवण राठोड़ के निधन की खबर से पूरा बॉलीवुड सख्ते में है। कोरोना के संक्रमण की वजह से म्यूजिक कंपोजर की डेथ हो गई है।

Shravan Rathod, Shravan Rathod Life Tragedy, Shravan Rathod Friendship, Music composer Shravan Rathod,नदीम-श्रवण, गुल्शन कुमार (फोटोसोर्स- इंडियन एक्सप्रेस आरकाइव)

90 के दशक में बॉलीवुड इंडस्ट्री में नदीम और श्रवण की जोड़ी धमाल मचा रही थी। दोनों एक से बढ़कर एक गाने बना रहे थे और नाम कमा रहे थे। वो वक्त था जब हर फिल्म में इन दोनों के गाने होने की डिमांड होने लगी थी। नदीम और श्रवण ने मिल कर इंडस्ट्री को एक से बढ़कर एक हिट गाने दिए। ऐसे में अब श्रवण राठोड़ के निधन की खबर से पूरा बॉलीवुड सख्ते में है। कोरोना के संक्रमण की वजह से म्यूजिक कंपोजर श्रवण राठोड़ की डेथ हो गई है।

नदीम सैफी और श्रवण राठौड़ के बनाए गाने उस वक्त देश विदेश में काफी पसंद किए जा रहे थे। तभी इन दोनों के जीवन में एक बहुत बड़ी घटना घटी। सफलता की लगातार सीढ़ी चढ़ते-चढ़ते अचानक दोनों के कदम थम गए। दरअसल, इस बीच टी-सीरीज के मालिक गुलशन कुमार की हत्या हो गई थी। गुलशन कुमार की हत्या की साजिश का आरोप नदीम सैफी पर लगा।

इस घटनाक्रम के बाद दोनों संगीतकारों की जिंदगी में भूचाल आ गया। नदीम इसके बाद लंदन चले गए थे। कुछ देर के लिए वह संगीत की दुनिया से दूर हो गए। 12 अगस्त 1997 को गुलशन कुमार की हत्या हुई थी। साल 2005 का वो वक्त था जब नदीम और श्रवण दोनों की राहें अलग हो गईं। फिल्म दोस्ती के बाद श्रवण और नदीम ने साथ काम करना बंद कर दिया था।

बात करें श्रवण और नदीम के बॉलीवुड करियर की, तो इस जोड़ी ने एक से बढ़कर एक हिट गाने बनाए। सबसे पहले दोनों ने मिलकर एक भोजपुरी फिल्म के लिए संगीत दिया था। साल 1979 में आई फिल्म दंगल के लिए दोनों ने मिलकर म्यूजिक बनाया था। इसके बाद ये दोनों इतने मशहूर हो गए कि दोनों का नाम साथ लिया जाने लगा। 80 के दशक में दोनों का साथ संघर्ष चलता रहा। फिर साल 1990 आया जब एक बार फिर दोनों ने कमाल कर दिखाया। फिल्म आशिकी के लिए नदीम-श्रवण ने गाने बनाए। इस फिल्म की अलबम ने उस वक्त खूब धूम मचा दी थी और श्रवण-नदीम की जिंदगी बदल दी थी। ये वक्त दोनों के लिए गोल्डन पीरियड रहा।

जब 1997 में गुलशन कुमार हत्याकांड हुआ तब नदीम को संदिग्धों की सूची में पाया गया था। जिसके बाद वह देश से बाहर चले गए थे। फिर साल 2000 में नदीम श्रवण ने फिर से कमबैक किया और फिल्म धड़कन के लिए गाने बनाए। अक्षय कुमार, शिल्पा शेट्टी और सुनील शेट्टी की इस फिल्म के गानों की अलबम को भी ऑडियंस से गजब का रिस्पॉन्स मिला था।

फिल्म राजा के लिए उन्होंने संगीत बनाया जो कि सुपरहिट रहा। इस फिल्म के लिए दोनों को विशेष पुरस्कार भी मिला था। नदीम-श्रवण को 4 बार फिल्मफेयर से सम्मानित किया गया था। 2 स्टार स्क्रीन अवॉर्ड, एक जीसिने अवॉर्ड से वह सम्मानित किए गए थे। फिल्म राजा हिंदुस्तानी, परदेस, एक रिश्ता जैसी कई फिल्में हैं जिनमें नदीम और श्रवण की जोड़ी ने हिट म्यूजिक दिया।

Next Stories
1 नवाजुद्दीन की ‘जोगीरा सा रा रा’ की शूटिंग संपन्न हुई
2 रीमेक अधिकार पर निर्माता-निर्देशक में ठनी
3 दिग्गजों की डुगडुगी
यह पढ़ा क्या?
X