Shahrukh Khan used to borrow money from his friends and relatives to buy comics - शाहरुख खान बचपन में कॉमिक्स खरीदने के लिए दोस्तों से लेते थे पैसे उधार - Jansatta
ताज़ा खबर
 

शाहरुख खान बचपन में कॉमिक्स खरीदने के लिए दोस्तों से लेते थे पैसे उधार

शाहरुख ने बताया- मुझे याद है दोस्तों और रिश्तेदारों से पैसा लेकर मैं अपनी पसंदीदा लोटपोट कॉमिक्स खरीदता था। इन किरदारों को अब टीवी पर देखना काफी अच्छा लगता है।

बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान कॉमिक किरदारों के बहुत बड़े फैन हैं। उन्होंने बताया कि बचपन में मैं अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों से कॉमिक्स खरीदने के लिए पैसे लिया करता था। बादशाह ने निक्लोडियन किड्स च्वॉइस अवॉर्ड्स 2016 के मौके पर अपने बचपन के कई राज खोले। उन्हें किड्स आइकन ऑफ द ईयर अवॉर्ड से सम्मानित किया गया। किंग खान ने कहा- जब मैं बच्चा था तो हमेशा बड़ा होना चाहते था और अब मैं बड़ा होकर अपने बचपन को याद करता रहता हूं। मुझे लगता है कि बचपन हमारी जिंदगी का बेस्ट टाइम होता है क्योंकि उस वक्त हम केयरफ्री होते हैं।

शाहरुख ने बताया- मुझे याद है दोस्तों और रिश्तेदारों से पैसा लेकर मैं अपनी पसंदीदा लोटपोट कॉमिक्स खरीदता था। इन किरदारों को अब टीवी पर देखना काफी अच्छा लगता है। मैं उन्हें बहुत पसंद करता था। मुझे कार्टून बहुत पसंद हैं। काम से लौटने के बाद मैं रिकॉर्डिड कार्टून देखने के बाद ही बेड पर सोने जाता हूं। निकलोडियन किड्स अवॉर्ड्स 2016 में वरुण धवन और आलिया भट्ट भी आए थे। यह अवॉर्ड शो 1 जनवरी 2017 को निक पर प्रसारित किया जाएगा। बता दें कि मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू विश्वविद्यालय (एमएएनयूयू) ने सोमवार (26 दिसंबर) को बॉलीवुड एक्टर शाहरुख खान को डॉक्टरेट की मानद उपाधि से नवाजा। उन्हें यह उपाधि अपनी फिल्मों के जरिए उर्दू भाषा और संस्कृति को बढ़ावा देने में असाधारण योगदान के लिए दी गई है।

विश्वविद्यालय के कुलपति जफर सारेशवाला ने विश्वविद्यालय के छठे दीक्षांत समारोह में शाहरुख को यह उपाधि प्रदान की। गाउन पहने और चश्मा लगाए स्नातक शाहरुख खान को यह उपाधि छात्रों की तालियों की गड़गड़ाहट के बीच दी गई। अपने संक्षिप्त संबोधन में शाहरुख खान ने विश्वविद्यालय को इस सम्मान के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि इस पल को देखकर उनके माता-पिता प्रसन्न होते, खास तौर से इसलिए कि वह अपनी मां के जन्मस्थान में सम्मानित हो रहे हैं।

शाहरुख ने कहा कि उनके पिता मौलाना अबुल कलाम आजाद के फॉलोअर थे। उन्होंने कहा, “मैंने सुना है कि मेरे पिता ने निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ा था और उनकी जमानत जब्त हो गई थी।” शाहरुख ने कहा कि उनके पिता बेहतरीन उर्दू और फारसी बोलते थे।

रईस: शाहरुख खान के शूटिंग करने के वक्त नर्वस थे नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App