विदेश से करीब 20 बैग लेकर लौटे थे शाहरुख खान, वानखेड़े से हुआ सामना तो भरना पड़ा था टैक्स; अनुष्का, मीका को भी रोक चुके हैं समीर

शाहरुख खान और समीर वानखेड़े पहली बार आमने-सामने आए हैं ऐसा नहीं है। इससे पहले भी एसआरके (SRK) का वानखेड़े से सामना को चुका है।

Shahrukh Khan, Aryan Khan, Aryan Khan Drugs Case, Sameer Wankhede,
सुपरस्टार शाहरुख खान, दूसरी तरफ एनसीबी ऑफिसर समीर वानखेड़े (फोटो सोर्स- सोशल मीडिया इंस्टा)

शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को ड्रग्स मामले में गिरफ्तार करने वाले एनसीबी ऑफिसर समीर वानखेड़े से एसआरके (SRK) का पहले भी सामना को चुका है। वाकया 10 साल पुराना यानी साल 2011 का है। NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े तब कस्टम्स डिपार्टमेंट में असिस्टेंट कमिश्नर थे और उनकी तैनाती मुंबई एयरपोर्ट पर थी।

इस तैनाती को दौरान उनकी टीम ने शाहरुख खान को विदेश से लौटने के बाद एयरपोर्ट पर रोक लिया था। SRK के पास 20 से ज्यादा बैग थे। टीम ने उनसे काफी देर तक पूछताछ की थी और बाद में शाहरुख खान को विदेश से लाए तमाम सामान की कस्टम ड्यूटी पे करनी पड़ी थी। शाहरुख खान ऐसे पहले बॉलीवुड पर्सनालिटी नहीं है जिनका पाला वानखेड़े से पड़ा हो। इससे पहले अनुष्का शर्मा और मीका सिंह को भी एनसीबी ऑफिसर समीर रोक चुके हैं।

दरअसल, शाहरुख से जुड़ा मामला मामला जुलाई 2011 का है। तब वे ह़ॉलैंड और लंदन से अपनी ट्रिप पूरी कर मुंबई लौटे थे। शाहरुख के पास एक-दो नहीं, 20 से ज्यादा बैग थे। ऐसे में कस्टम्स की टीम ने उन्हें रोक लिया। शाहरुख का सारा सामान कई घंटों तक चेक किया गया था। शाहरुख के पास कई ऐसे सामान थे जो डिक्लेयर नहीं किया था।

(आर्यन खान की जमानत पर फैसला आज: दिग्गज वकील और पूर्व अटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी करेंगे शाहरुख के बेटे की पैरवी)

घंटों तक चली इस चेकिंग के बाद शाहरुख खान और उनके परिवार को घर जाने की इजाजत मिली थी। हाालांकि शाहरुख खान ने 1.5 लाख रुपए कस्टम ड्यूटी पे की थी।

ऐसा कई बार हुआ जब वानखेड़े ने कई नामी सेलेब्स को एयरपोर्ट पर रोका था। एक्ट्रेस अनुष्का शर्मा, मिनीषा लांबा, सिंगर मीका सिंह को भी एयरपोर्ट पर विदेशी सामान की पूर्ण जानकारी न देने को लेकर रोका गया था।

बताते चलें, सुपरस्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान इन दिनों ड्रग्स केस में जेल में हैं। इस बीच शाहरुख के बेटे की जमानत में देरी को लेकर सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने कहा कि अदालत में जमानत याचिका खारिज होने का कोई आधार नहीं है। उन्होंने कहा एनडीपीएस कोर्ट के जजों की ट्रेनिंग होनी चाहिए।

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
सेक्स रैकेट में गिरफ्तार हुई ‘मकड़ी’ बाल कलाकार श्वेता बसु
अपडेट