ताज़ा खबर
 

राजपाल यादव कभी ‘स’ और ‘श’ में नहीं जानते थे अंतर, बताया-कैसे हुआ जिंदगी में जंगल से मंगल

राजपाल यादव मुंबई में साल 1997 में आए थे। अभिनय के क्षेत्र में आने से पहले उन्होंने अपनी भाषा शैली पर खूब काम किया था। राजपाल यादव को श और स के उच्चारण अक्सर दिक्कत होती थी। इसलिए उन्होंने सबसे पहले इस कमजोरी को दूर करने की कोशिश शुरू की।

एक्टर राजपाल यादव (फोटो सोर्स: इंस्टाग्राम)

बॉलीवुड के एक्टर राजपाल यादव को अब तक कई फिल्मों में कॉमेडी करते देखा गया है। अब तक राजपाल यादव करीब सवा सौ फिल्मों में काम कर चुके हैं। शाहजहांपुर के एक छोटे से गांव में जन्मे राजपाल यादव का दिल बचपन से ही अदाकारी की तरफ था। इसके चलते वह शाहजहांपुर के ही एक छोटे से थिएटर ग्रुप में शामिल हो गए। राजपाल यादव मुंबई में साल 1997 में आए थे। इस क्षेत्र में आने से पहले उन्होंने अपनी भाषा शैली पर भी खूब काम किया था। राजपाल यादव को श और स के उच्चारण में अक्सर दिक्कत होती थी। इसलिए उन्होंने सबसे पहले इस कमजोरी को दूर करने की कोशिश शुरू की।

लखनऊ में थिएटर करने के दौरान राजपाल यादव ने अपने ‘स’ को ‘श’ में बदला। राजपाल यादव बताते हैं, “कला को समझने का मौका मुझे लखनऊ में मिला। हमने एनएसडी में एडमिशन के लिए खूब मेहनत की। इसके बाद हमें वहां एडमिशन मिला। अभिनय करने का आत्मविश्वास हमें एनएसडी से मिला।” राजपाल यादव बताते हैं कि उन्हें जो भी काम करने को मिला, उन्होंने उसे चुनौती के रूप में स्वीकार किया।

राजपाल कहते हैं, “हमारा मेन स्ट्रीम या मेन लीड में जाने का सपना नहीं था। बस हमने हमेशा यह सोचा कि अभिनय करना है, तो जो मिला, वह किया। इस दौरान हम हमेशा हाथ में कागज और पेन लेकर रखते थे। इस बीच जब भी कोई डायरेक्टर मिलता, उसे ऑडिशन देने में कभी नहीं हिचके। आगे चल कर रामगोपाल वर्मा से मुलाकात हुई। उन्होंने ‘जंगल’ में काम करने का मौका दिया। इसके बाद जंगल से मंगल हो गया हमारी जिंदगी में।”

सोहा अली खान ने पति कुणाल खेमू संग कराया वेडिंग फोटोशूट, देखें तस्‍वीरें।

https://www.jansatta.com/entertainment/

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App