हिम्मत है तो कहें, मोदी का विकल्प राहुल गांधी- कन्हैया कुमार को संबित पात्रा का चैलेंज, बोले- मुंह से निकल नहीं रहा, चले चुनाव जीतने

संबित पात्रा और कन्हैया कुमार में जमकर बहस हुई। भाजपा प्रवक्ता ने कांग्रेस नेता को चैलेंज किया कि हिम्मत हैं तो राहुल गांधी को पीएम मोदी का विकल्प कहें।

sambit patra, kanhaiya kumar
संबित पात्रा और कन्हैया कुमार में हुई जमकर बहस (फोटो सोर्स- आज तक वीडियो)

आजतक के कार्यक्रम ‘एजेंडा आजतक’ में भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा और कांग्रेस नेता कन्हैया कुमार में जमकर बहस हुई। यह बहस राष्ट्रवाद से शुरू होकर सावरकर व क्वालिफिकेशन तक चली। इस बहस में संबित पात्रा ने राहुल गांधी का नाम लेकर कांग्रेस पर तंज कसने का मौका नहीं छोड़ा। उन्होंने कन्हैया कुमार को चैलेंज दिया और कहा कि हिम्मत है तो बोलकर दिखाएं कि राहुल गांधी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के विकल्प हैं। इतना ही नहीं, संबित पात्रा ने कन्हैया कुमार को ही राहुल गांधी का विकल्प बता दिया।

‘एजेंडा आजतक’ में जनता को प्रधानमंत्री मोदी का विकल्प बताते हुए कन्हैया कुमार ने कहा, “मोदी के सामने देश की 135 करोड़ जनता खड़ी होगी।” उनकी बात पर कांग्रेस पार्टी को घेरते हुए संबित पात्रा ने कहा, “इनसे जब पूछा जाता है कि बताओ मोदी का विकल्प कौन होगा, तब यह जो उत्तर देते हैं कि 135 करोड़ जनता होगी। इसका अर्थ है कि इनके पास उत्तर ही नहीं है कि विकल्प कौन होगा।”

संबित पात्रा ने कन्हैया कुमार को जवाब देते हुए आगे कहा, “आपने इतना सुनहरा मौका दिया कि मोदी का विकल्प कौन? हिम्मत है तो बोल दें न कि मोदी का विकल्प राहुल गांधी हैं। बोलकर तो दिखाएं, मुंह से निकल भी नहीं रहा कि मोदी का विकल्प राहुल गांधी है और यह चले हैं चुनाव जीतने। इनके मुंह से नहीं निकल रहा।”

संबित पात्रा ने कांग्रेस पार्टी पर चुटकी लेते हुए आगे लिखा, “ममता नहीं मान रहीं, अखिलेश नहीं मान रहे, मायावती नहीं मान रही हैं। कोई तो इनको विकल्प मान नहीं रहा, यहां तक कि खुद कांग्रेस के जी 23 के नेता भी इन्हें विकल्प नहीं मान रहे हैं। अब राहुल गांधी के विकल्प कन्हैया कुमार जरूर हो सकते हैं।” इससे इतर कन्हैया कुमार ने राष्ट्रवाद को लेकर भाजपा नेता संबित पात्रा पर जमकर हमला बोला।

कन्हैया कुमार ने कहा, “मुझे भाजपा के राष्ट्रवाद से परेशानी नहीं है। यह देश है राष्ट्र है, जो कि संविधान से चलेगा। संबित जी की पार्टी के नेता ने कहा कि आजादी 99 साल की लीज पर है। न तो ये आजादी को मानते हैं और न ही संविधान को मानते हैं। हमारा मानना है कि राष्ट्र का नाम लेकर ये अपना जेब भरते हैं। टीवी पर यह राष्ट्र-राष्ट्र करते हैं और इन्हें हाल में आईटीडीसी का चेयरमैन बना दिया गया। इनका राष्ट्रवाद असल में व्यक्तिवाद है, जिससे मुझे दिक्कत है।”

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।