मैं अगर शुरू हो जाऊं तो संभाल नहीं पाओगे, बाबाजी शांति से बैठो- डिबेट के दौरान कम्युनिस्ट पार्टी के नेता पर भड़क गए संबित पात्रा

डिबेट के दौरान संबित पात्रा कम्युनिस्ट पार्टी के नेता पर भड़क गए और कहने लगे कि अगर मैं शुरू हो जाऊंगा तो आप संभाल नहीं पाएंगे, इसलिए बाबाजी शांति...

sambit patra, suneet chopra, amit shahसंबित पात्रा ज़ी टीवी के डिबेट शो में बोल रहे थे (फाइल फ़ोटो)

दिल्ली के औरंगजेब रोड पर स्थित इजरायली दूतावास के बाहर शुक्रवार को कम तीव्रता का एक आईडी विस्फोट हुआ, जिसे लेकर राजनीति भी तेज हो गई है। यह हमला भारत और इज़रायल के बीच राजनयिक संबंध स्थापित होने की 29 वीं वर्षगांठ के दिन हुआ है। इस घटना से किसी को नुक्सान नहीं हुआ और फ़िलहाल पुलिस इसकी जांच कर रही है। इस हमले पर कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने बीजेपी पर निशाना साधा है और कहा है कि इस हमले में बीजेपी का षडयंत्र है। आम आदमी पार्टी ने गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधते हुए कहा कि दिल्ली इतनी असुरक्षित कभी नहीं रही, जितनी अमित शाह के गृह मंत्री रहते हुए है।

इसी हमले को लेकर ज़ी टीवी के डिबेट शो, ‘ताल ठोक के’ पर एक डिबेट का आयोजन किया गया। डिबेट में बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा कम्युनिस्ट पार्टी के नेता सुनीत चोपड़ा पर भड़क गए। दरअसल सुनीत चोपड़ा सवाल पूछकर लगातार बोले जा रहे थे। संबित पात्रा में उनसे कहा, ‘कैसे बोलूं, ये तो लगातार बोले जा रहे हैं। ये जो सुनीत आए हैं ये अनादि काल से अनर्गल प्रलाप करते रहे हैं।’ कम्युनिस्ट नेता फिर भी बोले जा रहे थे तो संबित पात्रा ने झल्लाकर कहा कि मैं शांत ही बैठता हूं।

कम्युनिस्ट नेता लगातार यह कह रहे थे कि उनके पास जवाब हो तब न देंगे। संबित पात्रा गुस्से में कहते हैं, ‘अगर मैं चालू हो जाऊंगा तो आप संभाल नहीं पाएंगे इसलिए बाबाजी शांति से बैठो और सुनो मेरी बात। ये हमेशा से डिबेट करते आ रहे हैं कौन सुनता है इनको? मैं आपको हक़ीकत बताता हूं, इनके सोसायटी के लोग भी इन पर चिल्लाते हैं कि आप घर में बैठकर डिबेट मत करो, हम परेशान होते हैं। इसलिए ये कार में बैठकर डिबेट करते हैं। बाबाजी को सोसाइटी से निकाल देते हैं कि कार में बैठकर डिबेट करो।’

संबित पात्रा गुस्से में आगे कहते हैं, ‘ये कह रहे हैं कि अमित शाह मेरा होम मिनिस्टर नहीं है, अब मैं इनको क्या समझाऊं। 85 साल के बाबा को मैं क्या समझाऊं कि अमित शाह आपके होम मिनिस्टर क्यों हैं। किसी के पास दिमाग होता है तो आप उसे समझा सकते हैं। कंप्लीट इंटेलिजेंस फैलियर के बाद समझाया नहीं का सकता। इनका दिमाग पूरी तरह से खराब हो चुका है इन्हें समझाया नहीं जा सकता।’ इस बीच कम्युनिस्ट नेता यह कहते रहें कि जब तक अमित शाह होम मिनिस्टर की तरह काम नहीं करते, मैं उन्हे गृह मंत्री नहीं मानता।

Next Stories
1 शादी के बाद पत्नी नताशा संग नए घर में शिफ्ट हो रहे वरूण धवन, देखें उनका खूबसूरत घर
2 दीमक रूपी महिला, जिसने देश में जहर भरा है- अरुंधति रॉय का वीडियो शेयर कर बोले फिल्ममेकर तो आने लगे ऐसे कमेंट्स
3 ये बंदा जेल में क्यों नहीं है?- योगेंद्र यादव ने कहा कि पीछे नहीं हटेंगे किसान तो बोले फिल्ममेकर, यूजर्स देने लगे ऐसा रिएक्शन
यह पढ़ा क्या?
X