सलीम खान ने की संजीव कुमार की तारीफ तो गुस्से में आग बबूला हो गए थे राजेश खन्ना, स्टूडियो में ही कर लिया था तलब; 6 महीने नहीं की थी बात

इंडस्ट्री के तमाम एक्टर-एक्ट्रेस से लेकर डायरेक्टर-प्रोड्यूसर काका की पार्टियों में शिरकत को अपनी शान से जोड़कर देखते थे। पीने-पिलाने का सिलसिला देर रात तक चलता रहता…

Salim Khan, Rajesh Khanna, Salman Khan, Sanjeev Kumar. Salim Khan praised Sanjeev Kumar,
सलीम खान-सलमान खान, राजेश खन्ना (फोटोसोर्स-इंडियन एक्सप्रेस)

अपने रूमानी अंदाज के लिए चर्चित अभिनेता राजेश खन्ना की पॉपुलैरिटी का आलम ये था कि लड़कियां उनकी कार में लगी धूल को भी चूम लेती थीं। वो जहां जाते, लोगों का हुजूम उमड़ पड़ता। काका जिस वक्त सफलता की सीढ़ियां चढ़ रहे थे, तब शायद ही ऐसा कोई दिन हो जब उनके बंगले ‘आशीर्वाद’ में महफिल न सजती हो। इंडस्ट्री के तमाम एक्टर-एक्ट्रेस से लेकर डायरेक्टर-प्रोड्यूसर काका की पार्टियों में शिरकत को अपनी शान से जोड़कर देखते थे। पीने-पिलाने का सिलसिला देर रात तक चलता रहता और ज्यादातर बातें राजेश खन्ना की तारीफ के इर्दगिर्द ही घूमतीं।

काका को अपने सामने किसी और की तारीफ पसंद नहीं थी। ऐसा ही एक मौका तब आया जब उनके करीबी दोस्त और लेखक सलीम खान ने उस वक्त इंडस्ट्री में अपने पैर जमाने की कोशिश कर रहे अभिनेता संजीव कुमार की तारीफ कर दी। काका इससे काफी ख़फा हो गए और सलीम खान को तलब कर लिया था। काका और सलीम खान की दोस्ती काफी गहरी थी। दोनों एक दूसरे के घर आते-जाते थे। दोस्ती का ये सिलसिला फिल्म ‘हाथी मेरे साथी’ के दौर से शुरू हुआ था।

संजीव की तारीफ से ख़फा हो गए काका: बाद के दिनों में काका अपनी इमेज को लेकर काफी पजेसिव हो गए। इसी दौरान एक फिल्म मैगजीन में संजीव कुमार पर कवर स्टोरी प्रकाशित हुई। ये वो दौर था जब राजेश खन्ना और संजीव कुमार के बीच कोल्ड वॉर की खबरें अक्सर अखबारों की सुर्खियां होती थीं। इस कवर स्टोरी में संजीव कुमार को एक सीरियस एक्टर बताया गया था। इसमें एक इंटरव्यू सलीम खान का भी था और उन्होंने भी संजीव की तारीफ की थी।

सलीम खान को स्टूडियो कर लिया तलब: राजेश खन्ना उस दिन महबूब स्टूडियो में शूटिंग कर रहे थे। ब्रेक के दौरान अचानक उनकी नज़र उस फिल्म मैग्जीन पर पड़ी। संजीव कुमार की तारीफ करने वालों में उनके करीबी सलीम खान भी थे। काका के दिमाग में तमाम बातें चल रही थीं। उन्होंने फौरन अपने ड्राइवर को सलीम के घर उन्हें बुलाने भेजा। हालांकि सलीम ने ड्राइवर से कहा कि तुम चलो, मैं आता हूं। लेकिन ड्राइवर का कहना था कि काका ने उन्हें साथ चलने को बोला है।

मेरे बारे में क्या ख्याल है? राजेश खन्ना की जीवनी, ‘कुछ तो लोग कहेंगे’ में इस किस्से का जिक्र करते हुए लेखक यासिर उस्मान सलीम खान के हवाले से लिखते हैं, ‘जब मैं वहां पहुंचा तो काका अपनी इंपोर्टेड कार की बोनट पर बैठकर मैग्जीन पलट रहे थे। उन्होंने सलीम खान को वो मैग्जीन दिखाते हुए कहा, ‘ये आपने कहा है? इस पर सलीम ने हां में जवाब दिया। काका ने फिर सवाल किया, तो आप समझते हैं संजीव कुमार अच्छा एक्टर है? उन्हें फिर हां में जवाब मिला। काका ने अगला सवाल दागा- मेरे बारे में आपका क्या ख्याल है?

6 महीने नहीं की बात: सलीम खान ने जवाब दिया ‘आप भी अच्छे एक्टर हैं। अगर वो मुझसे आपके बारे में पूछेंगे तो मैं आपकी भी तारीफ करूंगा’। काका कुछ सेकेंड चुप रहे। उन्होंने सलीम के चेहरे की तरफ देखा और मैग्जीन की तरफ। बिना कुछ कहे वहां से निकल गए। राजेश खन्ना और सलीम खान का घर आसपास ही था और दोनों लगभग हर दिन मिलते थे। लेकिन इस घटना के बाद राजेश खन्ना ने उनसे छह महीने तक बातचीत नहीं की।