ताज़ा खबर
 

‘सचिन ए बिलियन ड्रीम्स’ Box Office: सचिन तेंदुलकर की बायोपिक ने बॉक्स ऑफिस पर लहराया कामयाबी का परचम

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर की बायोपिक सचिन ए बिलियन ड्रीम्स रिलीज हो चुकी है। इस फिल्म को क्रिटिक्स के अलावा दर्शकों से भी सराहना मिल रही है। इसने रिलीज वाले दिन ही सबसे ज्यादा कमाई करने वाली डॉक्यु ड्रामा फिल्म बनकर एक रिकॉर्ड कायम […]

Author नई दिल्ली | June 1, 2017 11:56 AM
सचिन तेंदुलकर की फिल्म बॉक्स ऑफइस पर मचा रही है धमाल। (Image Source: Instagram)

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर की बायोपिक सचिन ए बिलियन ड्रीम्स रिलीज हो चुकी है। इस फिल्म को क्रिटिक्स के अलावा दर्शकों से भी सराहना मिल रही है। इसने रिलीज वाले दिन ही सबसे ज्यादा कमाई करने वाली डॉक्यु ड्रामा फिल्म बनकर एक रिकॉर्ड कायम कर दिया था। इस फिल्म के जरिए उनके फैंस को एक बार फिर से उनके करियर को देखने का मौका मिल रहा है। इसके अलावा उनकी निजी जिंदगी के बारे में भी वो जानकारी मिल रही है जिससे कि वो आज तक अंजान थे। इसे देखने के बाद मास्टर ब्लास्टर के फैंस कई तरह की भावनाओं में डूबे हुए नजर आते हैं। क्रिकेटर के साथ ही वो भी खुश, दुखी और रोते हैं। कुल मिलाकर कहा जाए तो यह फिल्म भावनाओं का कॉम्बो है जिसे एकदम परफेक्ट तरीके से डायरेक्टर जेम्स अर्सकाइन ने पर्दे पर उतारा है।

फिल्म की रिलीज को 6 दिन हो चुके हैं। इन 6 दिनों में इसने 35.75 करोड़ रुपए से ऊपर की कमाई कर ली है। इसका मतलब की फिल्म बॉक्स ऑफिस पर भी कामयाबी का परचम लहरा रही है। ट्रेड एनालिस्ट तरण आदर्श ने ट्विट करके फिल्म के कलेक्शन के बारे में जानकारी दी। उन्होंने ट्विट किया- #SachinABillionDreams ने शुक्रवार को 8.60, शनिवार को 9.20, रविवार को 10.25, सोमवार को 4.20 और मंगलवार को 3.50 करोड़ रुपए की कमाई की है। इसके साथ ही सभी भाषाओं में फिल्म का कुल कलेक्शन 35.75 करोड़ हो गया है। कल यानी बुधवार के आंकड़े आना अभी बाकी है। लेकिन उम्मीद की जा सकती है कि फिल्म ने 4-5 करोड़ रुपए के बीच में कमाई की होगी।

फैंस के अलावा सचिन की बेटी सारा ने अपने पापा की बायोपिक देखकर कहा- बड़े होते हुए मुझे कभी समझ नहीं आया कि सचिन तेंदुलकर की पर्सनैलिटी की महत्ता क्या है। मेरे लिए वो हमेशा मेरे पिता रहेंगे। फिल्म देखने के बाद मुझे असल में समझ आया कि दूसरे उनके बारे में क्या सोचते हैं।

सचिन अपनी आत्मकथा ‘प्लेइंग इट माई वे’ में बताते हैं कि ‘कोच रमाकांत आचरेकर द्वारा संचालित कामथ मैमोरियल क्लब के लिए खेलते हुए शुरुआती मैचों में मैं कुछ खास नहीं कर सका। इस मैच को देखने मेरे कॉलोनी के दोस्त आए थे, जिसमें मैं जीरो पर आउट हो गया। मैं अपनी कॉलोनी का स्टार बल्लेबाज था तो यकीनन मेरे दोस्त मुझे ही देखने वहां आए थे।

https://www.jansatta.com/entertainment/

'सचिन: अ बिलियन ड्रीम्स' देखने की 5 वजहें

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App