ताज़ा खबर
 

पर्दे पर प्यार ही बरसाया

ऋषि कपूर रोमांटिक किरदारों का सरताज कहा जाता है। उन्होंने 1973 से 2000 तक करीब 92 फिल्में की, जिसमें उन्होंने रोमांटिक किरदार निभाया। ऋषि कपूर ने बड़े पर्दे पर खूब प्यार बरसाया। इसलिए प्रेम कहानी पर बनी फिल्म ‘लैला मजून’ और ‘प्रेम रोग’ को लोगों ने भी खूब प्यार दिया।

Author Published on: May 1, 2020 1:53 AM
ऋषि कपूर ने 1973 से 2000 तक करीब 92 फिल्में की, जिसमें उन्होंने रोमांटिक किरदार निभाया।

ऋषि कपूर हमारे बीच नहीं रहे। 67 साल की उम्र में कैंसर से लंबी लड़ाई लड़ते हुए ऋषि कपूर का मुंबई के सर एचएन रिलायंस फाउंडेशन अस्पताल में गुरुवार को निधन हो गया। उन्हें बुधवार को ही अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

हिंदी सिनेमा जगत में पुराने सिनेमा को नए सिनेमा से जोड़ने का श्रेय ऋषि कपूर को जाता है। उन्होंने तीन साल की उम्र से फिल्मों में काम करना शुरू किया था। ऋषि कपूर ने अपने पिता राज कपूर की फिल्म ‘श्री 420’ से बतौर बाल कलाकर बड़े पर्दे पर अपनी फिल्मी पारी का आगाज किया था। इसके बाद वह फिल्म ‘मेरा नाम जोकर’ में भी नजर आए। इस किरदार के लिए उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। हालांकि उनके फिल्मी सफर की शुरुआत बतौर अभिनेता 1973 में आई फिल्म ‘बॉबी’ से हुई थी। इस फिल्म में ऋषि कपूर बतौर रोमांटिक हीरो फिल्मी पर्दे पर नजर आए। डिंपल कपाड़िया के साथ उनकी पहली फिल्मी जोड़ी को लोगों ने खूब पसंद किया। यह फिल्म बॉक्स आॅफिस पर सुपरहिट रही। इस फिल्म को देखने के लिए लोगों की लंबी लाइन लगती थी। ‘बॉबी’ में लोग ऋषि कपूर के मासूम चेहरे और प्यारी सी मुस्कान के कायल हो गए और उन्हें बॉलीवुड का चॉकलेटी हीरो कहा जाने लगा। यही नहीं इस फिल्म के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए फिल्म फेयर पुरस्कार भी मिला।

ऋषि कपूर रोमांटिक किरदारों का सरताज कहा जाता है। उन्होंने 1973 से 2000 तक करीब 92 फिल्में की, जिसमें उन्होंने रोमांटिक किरदार निभाया। ऋषि कपूर ने बड़े पर्दे पर खूब प्यार बरसाया। इसलिए प्रेम कहानी पर बनी फिल्म ‘लैला मजून’ और ‘प्रेम रोग’ को लोगों ने भी खूब प्यार दिया। ऋषि कपूर की बेहतरीन और हिट फिल्मों की लिस्ट बहुत लंबी है। इनमें ‘रफू चक्कर’, ‘कर्ज’, ‘सागर’, ‘अमर अकबर एंथोनी’, ‘नगीना’, ‘बोल राधा बोल बोल’ आदि कई फिल्में शामिल हैं। ‘सरगम’, ‘प्रेम रोग’, ‘चांदनी’, ‘हिना’, ‘दीवाना’, ‘दामिनी’ और ‘अग्निपथ’ में उन्होंने शानदार काम किया। ‘बॉबी’ का गाना ‘हम तुम एक-कमरे में बंद हो’, ‘कर्ज’ फिल्म का गाना, ‘एक हसीना थी, एक दिवाना था’ और ‘चांदनी’ फिल्म का गाना ‘ओ मेरी चांदनी’ लोगों के जुबान पर आज भी है। साल 2008 में ऋषि कपूर को फिल्मफेयर लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार से नवाजा गया।

ऋषि कपूर ने कई पीढ़ियों का मनोरंजन किया। अभिनेता के तौर पर अपनी दूसरी पारी को लेकर वह काफी संतुष्ट थे। इस दौरान वह अपनी पत्नी के साथ ‘दो दूनी चार’ (2010) में नजर आए। इस फिल्म के लिए उन्हें सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के लिए फिल्मफेयर क्रिटिक्स अवार्ड जीता।

तीस साल के फिल्मी करियर में ऋषि कपूर ने अपने समय के कई सुपरस्टार अभिनेता-अभिनेत्रियों के साथ काम किया। इसके साथ ही उन्होंने आज के नए सितारों के साथ भी कई फिल्में की। इनमें इरफान खान के साथ ‘डी-डे’, ‘मुल्क’, ‘कपूर और सन्स’ और ‘102 नॉट-आउट’ जैसे फिल्में शामिल हैं। उनकी अंतिम फिल्म ‘द बॉडी ’ पिछले साल प्रदर्शित हुई थी। इस फिल्म में उन्होंने पुलिस ऑफिसर का किरदार निभाया था। ऋषि कपूर ने अपने अभिनय से सबको दिखा दिया कि बतौर कलाकार भी वह सिनेमा जगत को योगदान दे सकते हैं।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कहा सुना माफ चिंटू सर: सलमान खान
2 वो चले गए, मैं टूट गयाः अमिताभ बच्चन
3 ऋषि कपूर के जन्म लेते ही पिता राज कपूर ने खोल ली थी शैम्पेन की बोतल