आप ही बोलते रहोगे तो हमें बुलाने का क्या फायदा? अर्नब गोस्वामी पर भड़क गए पैनलिस्ट, मिला ऐसा ज़वाब

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने 2015 में हुए मारपीट के एक मामले में साधु-संतों से माफी मांगी है। इस पर..

akhilesh yadav, haridwar, kumbhसपा नेता अखिलेश यादव ने साल 2015 में हुई मारपीट के मामले को लेकर शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती और उनके शिष्य स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद से माफ़ी मांग ली है।(Express photo: Vishal Srivastav)

रिपब्लिक भारत (Republic Bharat) की लाइव डिबेट में अर्णब गोस्वामी (Arnab Goswami) के सामने एक पैनलिस्ट अचानक से बिफर पड़े और बोले कि आप ही बोलते रहोगे तो हमें बुलाने का क्या फायदा? पैनलिस्ट ने अर्णब से सवाल पूछ लिया। दरअसल, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने 2015 में हुए मारपीट के एक मामले में साधु-संतों से माफी मांगी है।

इसी को लेकर रिपब्लिक भारत के पूछता है भारत में डिबेट छिड़ी हुई थी। सपा नेता अतुल सक्सेना का कहना है कि अखिलेश यादव ने छह साल बाद संतों से माफी मांगकर परिपक्वता दिखाई। तो वहीं अर्णब गोस्वामी ने सवाल उठाया कि लाठीचार्ज पर माफी मांगने वाले अखिलेश, अयोध्या नरसंहार पर कब मांगेगे माफी ? इस पर तपस्वी छावनी के महंत परमहंस ने सपा नेता अतुल सक्सेना से पूछा – निहत्थे कारसेवकों को गोलियों से भूनने वाले अखिलेश के पिता मुलायम सिंह यादव कब माफी मांगेंगे?

अर्णब इस बीच गुस्से में चिल्लाने लगे और बोले कि जब साधुओं की हत्या हुई तब माफी क्यों नहीं मांगी गई? इस पर सपा नेता बोले- अरे बोलने तो दीजिए। आप ही आप बोलते रहेंगे तो हमें क्यों बुलाया है? अर्णब उन्हें कहते हैं- आप माफी मांगिए पहले। अरे नहीं समझे ना आप 30 साल से नहीं समझे आप। आप तो बोल नहीं पा रहे, लाठी पर मरहम लगाएंगे आप? मैं पूछता हूं लाठी पर मरहम लगाने वाले अखिलेश को गोली की गम है कि नहीं आपको? साधुओं पर गोली चलवाई!

वहीं हनुमान गढ़ी के महंत राजू दास ने कहा- 1990 का वह काला दिन राम भक्त कभी नहीं भूल सकते जब अयोध्या की गलियों में खून बह रहा था और अयोध्या सरयू पुल पर कारसेवकों के शव बिखरे पड़े थे। चारों तरफ चीख-पुकार हाहाकार मची थी। राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉ. रामविलास वेदांती ने डिबेट में कहा- अखिलेश यादव को सबसे पहले उनके पिता के कुकृत पर क्षमा मांगनी चाहिए।

बीजेपी प्रवक्ता डॉ सुधांशु त्रिवेदी आगे बोले- संतों के साथ जो- जो द्रोह करता है, उसे पश्चाताप तो करना पड़ता है। वक्त कितना बदल गया है। अखिलेश सरकार ने गाजियाबाद में हज हाउस बनावाया था लेकिन संतो के लिए क्या किया?

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रत्नाकर त्रिपाठी ने भी कहा- अखिलेश यादव को साधुओं पर लाठीचार्ज कराने के लिए माफी नहीं मिलनी चाहिए। क्योंकि यह जानबूझकर किया गया कृत था।

Next Stories
1 ये कुंभ मेला नहीं, ‘कोरोना एटम बम!’ कौन होगा विस्फोट का जिम्मेदार?- बॉलीवुड डायरेक्टर ने उठाया सवाल
2 हर बात में मोदी, मोदी नाम का भूत सवार हो गया है? कांग्रेस प्रवक्ता ने उठाया कोविड वैक्सीन पर सवाल तो डांटने लगे JDU प्रवक्ता
3 इंडस्ट्री के सबसे कंजूस आदमी थे राजेश खन्ना, कोई पैसा मांगता तो गायब..!- वहीदा रहमान ने सुनाया था किस्सा
यह पढ़ा क्या?
X