पेट्रोलियम मंत्री का मंत्रालय बदला लेकिन दाम नहीं घटा- तेल की कीमतों पर रवीश कुमार ने मोदी सरकार को घेरा

धर्मेंद्र प्रधान को पेट्रोलियम मंत्री से हटाकर अब उन्हें शिक्षा मंत्री बना दिया गया है। इसी बात को लेकर रवीश कुमार ने तेल की कीमतों का जिक्र करते हुए मोदी सरकार पर तंज किया है।

ravish kumar, dharmendra pradhan, hardeep singh puri
रवीश कुमार ने तेल की कीमतों पर मोदी सरकार को घेरा है (Photos-AP/PTI)

नरेंद्र मोदी कैबिनेट विस्तार में कई नए मंत्रियों को जगह दी गई तो कई मंत्रियों को अपने मंत्रालय से हाथ धोना पड़ा। पेट्रोल डीजल की आसमान छूती कीमतों के बीच पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने अपना इस्तीफा दे दिया जिसके बाद अब हरदीप सिंह पुरी को प्राकृतिक गैस और पेट्रोलियम मंत्री बनाया गया है। वहीं धर्मेंद्र प्रधान का मंत्रालय बदलकर अब उन्हें शिक्षा मंत्री बना दिया गया है। इसी बात को लेकर एनडीटीवी के प्राइम टाइम शो में रवीश कुमार ने तेल की कीमतों का जिक्र करते हुए मोदी सरकार पर तंज किया है।

उन्होंने नरेंद्र मोदी सरकार को घेरते हुए कहा है कि मंत्रिमडल विस्तार और मंत्रालयों के बदलने से देश में कुछ नहीं बदला है, तेल की कीमतें जस की तस बनी हुई हैं। वो बोले, ‘पेट्रोलियम मंत्री का मंत्रालय तो बदला लेकिन फिर भी तेल का दाम कम नहीं हुआ। नए मंत्री ने भी आकर ये ऐलान नहीं किया कि पेट्रोल के दाम फिर से 60 रुपए लीटर हो जाएंगे।’

रवीश कुमार ने आगे कहा, ‘ऐसी किसी हेडलाइन की तलाश में फिलहाल, नए पेट्रोलियम मंत्री के पदभार ग्रहण करने की तस्वीरों से ही काम चलाया जा रहा है।  दिल्ली में भी पेट्रोल 100 रुपए प्रति लीटर हो गया है। इस तरह से जो जहां था, वहीं पर है।’

आपने बता दें कि कैबिनेट विस्तार में कानून मंत्री रहे रविशंकर प्रसाद का मंत्रालय भी उनसे छीन गया जिसे लेकर भी रवीश कुमार ने तंज किया था। उन्होंने अपने एक सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा कि रविशंकर प्रसाद को तो इनाम मिलना चाहिए था। रवीश कुमार ने लिखा, ‘रविशंकर प्रसाद के बिना राहुल गांधी की आलोचना सुनसान हो जाएगी। उन्हें इनाम मिलना चाहिए ताकि अमेरिका तक को यह संदेश जाता कि मोदी के मंत्री किसी से डरते नहीं।’

 

ट्विटर और रविशंकर प्रसाद के बीच कुछ समय पहले हुए विवाद पर तंज कसते हुए रवीश कुमार ने लिखा कि एक मंत्री जो पिछले कई दिनों से ट्विटर जैसे बहुराष्ट्रीय कंपनी में अपना मैनेजर रखवाने के लिए संघर्ष कर रहा था, हर दिन ट्विटर को धमका रहा था, उसे बर्खास्त किया जाना अच्छा संकेत नहीं है।

 

 

स्वास्थ्य मंत्री रहे हर्षवर्धन को भी पद से हटाए जाने पर रवीश कुमार के तंज़ किया था। अपने सोशल मीडिया पोस्ट में रवीश कुमार ने लिखा था कि कोरोना के दौर में मोदी सरकार से तरफ से हुई लापरवाही को अब पद से मुक्त हो चुके स्वास्थ्य मंत्री बाहर ला दें। उन्होंने लिखा था कि डॉक्टर हर्षवर्धन ऐसा नहीं करेंगे वरना ED के छापे पड़ जाएंगे।

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट