ताज़ा खबर
 

‘पद्मावत’ में खिलजी के किरदार की तस्वीरें शेयर कर रणवीर सिंह ने लिखा- राक्षस

विवादों से घिरी फिल्म 'पद्मावत' आखिरकार 25 जनवरी को रिलीज हो रही है। फिल्म में दीपिका पादुकोण ने रानी पद्मावती, शाहिद कपूर ने महारावल रतन सिंह के किरदार में हैं। फिल्म का निर्देशन संजय लीला भंसाली ने किया है।

Author मुंबई | January 22, 2018 5:55 PM
फिल्म पद्मावती के एक सीन में बॉलीवुड एक्टर रणवीर सिंह।

एक्टर रणवीर सिंह ने ‘पद्मावत’ की रिलीज से पहले फिल्म में अपने चरित्र अलाउद्दीन खिलजी के विभिन्न अवतारों को प्रदर्शित करने वाले एक कोलाज को साझा करते हुए खिलजी को एक दानव बताया। रणवीर ने सोमवार सुबह ट्विटर पर कोलाज साझा किया। इसमें रणवीर द्वारा निभाए गए खिलजी के चरित्र की अलग-अलग तस्वीरें हैं। उन्होंने इसके कैप्शन में लिखा, “दानव, खिलजी, पद्मावत।” विवादों से घिरी फिल्म ‘पद्मावत’ आखिरकार 25 जनवरी को रिलीज हो रही है। फिल्म में दीपिका पादुकोण ने रानी पद्मावती, शाहिद कपूर ने महारावल रतन सिंह के किरदार में हैं। फिल्म का निर्देशन संजय लीला भंसाली ने किया है। फिल्म के निर्माताओं ने कहा है कि इस फिल्म पर भारतीयों को गर्व होगा।

वहीं दूसरी तरफ, श्री राजपूत करणी सेना के प्रमुख लोकेंद्र सिंह कलवी ने सोमवार को कहा कि वह किसी भी कीमत पर संजय लीला भंसाली की फिल्म ‘पद्मावत’ को रिलीज नहीं होने देंगे और चेताया कि अगर सिनेमाघर 25 जनवरी को फिल्म को प्रदर्शित करते हैं तो इसका नतीजा लोगों के भीषण आक्रोश की शक्ल में सामने आएगा। उन्होंने अन्य राज्य सरकारों से भी आग्रह किया कि अगर वे फिल्म पर प्रतिबंध चाहते हैं तो साथ में आकर सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दाखिल करें।


कलवी ने आईएएनएस से बातचीत में कहा, “हम किसी कीमत पर फिल्म को रिलीज होने नहीं देंगे। सर्वोच्च न्यायालय ने राज्य सरकारों को फिल्म की रिलीज सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है, हमें नहीं।” उन्होंने कहा, “एक बार अगर फिल्म रिलीज हो गई, तो लोगों का आक्रोश भीषण होगा और इसकी जो कीमत होगी उसके लिए सिनेमाघर जिम्मेदार होंगे।” कलवी ने कहा, “मैं अन्य राज्य सरकारों से, जिन्होंने इससे पहले फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी, आगे आकर इसकी रिलीज रोकने के लिए सर्वोच्च न्यायालय में याचिका दायर करने का आग्रह करता हूं।”

सर्वोच्च न्यायालय मंगलवार को मध्य प्रदेश और राजस्थान सरकार की फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई करेगा। कलवी ने यह टिप्पणी उसी संदर्भ में की। दोनों राज्यों के वकीलों ने अदालत के 18 जनवरी के फैसले के संदर्भ में संशोधन/स्पष्टीकरण की मांग करते हुए मामले की जल्द सुनवाई का आग्रह किया है। अदालत ने अपने फैसले में राजस्थान, गुजरात और हरियाणा सरकार द्वारा अपने राज्यों में फिल्म पर प्रतिबंध लगाने की अधिसूचना/आदेश पर रोक लगा दी थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App