ताज़ा खबर
 

गुरमेहर मामले में निशाना बनाए जाने पर रणदीप हुड्डा बोले- मैं वीरू के जोक पर हंसा था, मैं लड़की के खिलाफ नहीं

गुरमेहर कौर पर परोक्ष रूप से निशाना साधने वाली वीरेंद्र सहवाग के ट्वीट को लाइक करने के बाद निशाने पर आए एक्‍टर रणदीप हुड्डा ने फेसबुक के जरिए अपना पक्ष रखा है।

रणदीप हुड्डा ने कुछ पत्रकारों पर गुरमेहर कौर मामले के जरिए अपने एजेंडे को आगे बढ़ाने का आरोप लगाया।

गुरमेहर कौर पर परोक्ष रूप से निशाना साधने वाली वीरेंद्र सहवाग के ट्वीट को लाइक करने के बाद निशाने पर आए एक्‍टर रणदीप हुड्डा ने फेसबुक के जरिए अपना पक्ष रखा है। उन्‍होंने कुछ पत्रकारों पर इस मामले के जरिए अपने एजेंडे को आगे बढ़ाने का आरोप लगाया। 27 फरवरी की रात को हुड्डा ने लिखा, ”एक हंसी के लिए मुझे फांसी पर मत चढ़ाओ।” बता दें कि सहवाग ने रविवार(26 फरवरी) को अपनी एक फोटो ट्वीट की थी। इसमें वे ‘मैंने नहीं मेरे बल्‍ले ने दो तिहरे शतक मारे थे’ लिखी तख्‍ती थामे हुए दिखते हैं। उनका यह ट्वीट परोक्ष रूप से दिल्‍ली यूनिवर्सिटी की छात्रा गुरमेहर कौर पर निशाना था। गुरमेहर ने पिछले दिनों एक वीडियो पोस्‍ट किया था जिसमें वे भारत-पाकिस्‍तान की दोस्‍ती की पैरवी करते हुए एक तख्‍ती दिखाती हैं। इस तख्‍ती पर लिखा होता, ”मेरे पिता को पाकिस्‍तान ने नहीं युद्ध ने मारा था।”

रणदीप हुड्डा ने पोस्‍ट में लिखा है, -” वीरू ने एक जोक सुनाया और मैंने माना कि मैं हंसा था। वह बहुत हाजिरजवाब है और यह उन लाखों बातों में से एक हैं जिन पर हंस चुका हूं। लेकिन अब मुझे एक युवा लड़की के खिलाफ नफरती भरी धमकियों को भड़काने के लिए जिम्‍मेदार ठहराया जा रहा है। हैरान कर देने वाली बात है कि वह लड़की भी यही समझ रही है। यह बिलकुल गलत है। वह मेरी मंशा कभी नहीं थी और हमारे ट्वीट से उसे मिल रही नफरत का जरिया नहीं है। वह बोली, वह किसी बात के लिए खड़ी हुई तो फिर उसे इतना साहस भी रखना चाहिए कि वह विरोधी आवाजें सुन सकें। किसी और पर(इस मामले में मुझ पर) अंगुली उठाना और मिल रही प्रतिक्रियाओं के लिए उसे जिम्‍मेदार ठहराना सही नहीं है। मैं उसके खिलाफ नहीं हूं और मजबूती से मानता हूं कि हिंसा गलत है। एक महिला को हिंसा से डराना और भी जघन्‍य अपराध है और ऐसे लोगों को कड़ी सजा मिलनी चाहिए।”

सरबजीत, हाइवे, रंगरसिया, सुल्‍तान जैसी फिल्‍मों में काम कर चुके हुड्डा ने गुरमेहर कौर के भारत-पाकिस्‍तान के बीच दोस्‍ती की पैरवी के वीडियो की तारीफ की। हालांकि उन्‍होंने सवाल उठाते हुए कहा कि उस बात का वर्तमान हालात से क्‍या मतलब। उसे अगर कुछ गलत लगा तो उसने आवाज उठाई और यह वीरू का हक है कि वह इस पर मजाक बनाए। यह लोकतंत्र है और सभी की अभिव्‍यक्ति की आजादी है। उसे तो जोक में टैग भी नहीं किया गया था। उन्‍होंने लिखा, ”कुछ पत्रकारों ने हमारी छवि को खराब करने और उनका पॉइंट प्रूव करने के लिए इस मामले को अलग रंग देना चाहा। वे अपने एजेंडे के साथ हमें जोड़ना चाहते थे। यह दादागिरी है। दिल्‍ली की हिंसा का उसकी जंग के खिलाफ अपील का क्‍या संबंध है? वीरू की हाजिरजवाबी का हिंसा का समर्थन करने से क्‍या रिश्‍ता है? बात यह है कि कोई संबंध नही है।”

उन्‍होंने आगे लिखा, ”लड़की की आवाज जरूरी है लेकिन बाकी नागरिकों की भी। वह सभी शहीदों और उनके बच्‍चों का प्रतिनिधित्‍व नहीं करती। यह उसका निजी मत है और ऐसे ही लिया जाना चाहिए। और मेरा मानना है कि नौजवान कंधों से लोगों को फायरिंग नहीं करनी चाहिए। छात्रों को पढ़ना, बहस करना और आपसी बातचीत से सीखना चाहिए। वे हमारे देश का भविष्‍य है और मैं भविष्‍य को लेकर चिंतित नहीं हूं। क्‍योंकि हमारे यहां कई बहादुर और स्‍पष्‍ट युवा हैं। जहां तक एक शहीद की बेटी से असंवेदनशीलता का सवाल है तो आपको बता दूं कि मेरे छह क्‍लासमेट देश के लिए जान दे चुके हैं। मेरे राज्‍य के प्रत्‍येक गांव में दो सदियों से कई शहीद हैं। हां, जंग गलत है लेकिन यह हमने शुरू नहीं की। हम हमारी सीमाओं को बचाने से पीछे नहीं हटेंगे। जय हिंद”

DU बचाओ कैंपेन से अलग हुई गुरमेहर कौर; कहा- "मुझे अकेला छोड़ दो"

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App