पंचायत को रोका तो UP की जमीन पर न CM उतरेगा और न PM- राकेश टिकैत ने दी चेतावनी, बोले- एक भूल, कमल का फूल, सफा करो

राकेश टिकैत ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को चेतावनी दी कि अगर उनकी महापंचायत में दखल दी तो वे यूपी की जमीन पर नही उतर पाएंगे।

rakesh tikait, narendra modi, uttar pradesh election
किसान नेता राकेश टिकैत (Photo-PTI)

कृषि कानूनों के विरोध में किसान बीते 11 महीनों से दिल्ली के बॉर्डर पर डटे हुए हैं। वे लगातार सरकार का विरोध कर रहे हैं और अपनी मांगों पर भी अड़े हुए हैं। वहीं हाल ही में आंदोलन का नेतृत्व कर रहे किसान नेता राकेश टिकैत अपने कुछ किसान साथियों के साथ गढ़मुक्तेश्वर के कार्तिक मेले में पहुंचे, जहां उन्होंने पंचायत कर सरकार पर भी जमकर निशाना साधा। किसान नेता ने इस दौरान चेतावनी भी दी कि अगर लखनऊ में होने वाली किसान महापंचायत में किसी ने दखल दिया तो यूपी की जमीन पर मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री नहीं उतर पाएंगे।

राकेश टिकैत से रिपोर्टर ने सवाल किया कि आप कह रहे थे कि कमल के फूल का सफाया करो, कार्तिक मेले में आप राजनीतिक बातें क्यों कर रहे हैं? इसका जवाब देते हुए राकेश टिकैत ने कहा, “और कहां करेंगे राजनीति की बात। भाई अगर हमने कार्तिक मेले में राजनीति की बात की है तो हमारे ऊपर मुकदमा लगा दो। जिसे मेले में राजनीतिक बातें नहीं सुननी, वो हमारी सभा में क्यों आ रहा है।”

राकेश टिकैत ने अपनी बात को बढ़ाते हुए आगे कहा, “दूसरे नेता भी अपनी बातें कर लें। हमने मंच पर कहा कि यह जनता की आवाज है कि एक भूल, कमल का फूल सफा करो।” राकेश टिकैत ने इस बीच लखनऊ में होने वाली महापंचायत पर भी बात की और कहा कि हमारी तैयारी पूरी है। हालांकि इसपर रिपोर्टर ने पूछा, “योगी के गढ़ में कहीं मुकदमा न दर्ज हो।”

इस बात का जवाब देते हुए राकेश टिकैत ने कहा, “उनको भी प्रदेश में कहीं जाना होगा ना। अगर हमारी पंचायत को रोका या उसे डिस्टर्ब किया तो न प्रधानमंत्री कहीं उतर पाएगा न ही मुख्यमंत्री। अगर हमारी पंचायत रोकी तो मुख्यमंत्री यूपी की जमीन पर तो उतरेंगे नहीं। मुख्यमंत्री अपनी सभा करें और हम अपनी कर रहे हैं।”

बता दें कि राकेश टिकैत से एक इंटरव्यू में सईद अंसारी ने पूछा था कि क्या आप लखनऊ को दिल्ली बनाकर अपनी मांगें मनवा पाएंगे, जो आप दिल्ली को घेरकर भी नहीं कर पाए। इसपर राकेश टिकैत ने जवाब दिया था, “लखनऊ में पंचायत है, एक दिन की वहां पर मीटिंग रहेगी। हमारी मांगें अजय टेनी की गिरफ्तारी, उसकी बर्खास्तगी, वो जांच को प्रभावित करता रहेगा, उन किसानों को मुआवजा, जो चोटिल हुए थे।”

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट