कुछ लोग मोदी जी को समझा नहीं पाए, इसीलिए टाइम लगा- बोले राकेश टिकैत, अंजना ओम कश्यप ने दिया जवाब- आप तो PM की भाषा बोल रहे हैं

राकेश टिकैत ने अंजना ओम कश्यप को दिए इंटरव्यू में कहा कि कुछ लोग मोदी जी को समझा नहीं पाए, इसलिए कानून वापसी में वक्त लगा।

rakesh tikait, narendra modi, farmers protest
राकेश टिकैत ने पीएम मोदी पर निशाना साधा है (File Photo)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीनों कृषि कानूनों की वापसी का ऐलान कर दिया है, साथ ही कहा है कि आने वाले संसदीय सत्र में वह इसे वापस लेने की प्रक्रिया करेंगे। हालांकि किसानों का कहना है कि जब तक संसद में इसकी वापसी नहीं हो जाती है वह आंदोलन को खत्म नहीं करने वाले हैं। कृषि कानूनों की वापसी को लेकर किसान नेता राकेश टिकैत ने भी अंजना ओम कश्यप को इंटरव्यू दिया, जिसमें उन्होंने कहा कि कुछ लोग प्रधानमंत्री को समझाने में नाकाम रहे थे, जिससे कृषि कानूनों की वापसी में इतना वक्त लगा।

राकेश टिकैत की इस बात पर अंजना ओम कश्यप ने भी उन्हें घेरने का मौका नहीं छोड़ा। राकेश टिकैत ने कृषि कानूनों की वापसी पर कहा, “कोई बात अगर समाधान की ओर जा रही है तो टेबल पर उसे फाइनल टच दिया जाएगा। और भी कई मसले हैं। आंदोलन में किसानों की शहादत हुई, किसानों पर मुकदमे दर्ज हुए। सीट बिल का मामला है, दूध की पॉलिसी क्या होगी, ऐसे बहुत से सवाल हैं।”

राकेश टिकैत से अंजना ओम कश्यप ने पूछा, “जब पीएम मोदी ने संबोधन में कृषि कानूनों को वापस लिया तो आप चौंक गए, उस बात से खुश हुए, पीएम की बात पर भरोसा है आपको? क्या आपको उम्मीद थी?” इसपर किसान नेता ने कहा, “तीनों की उम्मीद नहीं थी, लेकिन दो का लगता था। तीनों इन्होंने वापसी तो लिए, लेकिन एमएसपी पर कानून नहीं लाए।”

किसान नेता राकेश टिकैत ने आगे कहा, “एकदम से कानून वापस लिया और किसी को कुछ अता-पता नहीं तो चौंकाते तो हैं ये। पहले नोटबंदी में चौंकाया था। कुछ लोग आते थे आंदोलन में, या तो वे प्रधानमंत्री को समझाने में नाकाम रहे। इसलिए ही इतना लंबा वक्त लगा। अगर यही बात वह पहले समझा देते तो किसानों की शहादत नहीं होती।” इस बात पर राकेश टिकैत को घेरते हुए अंजना ओम कश्यप ने कहा, “आप तो पीएम मोदी की ही भाषा बोल रहे हैं।”

राकेश टिकैत यहीं नहीं रुके। उन्होंने पीएम मोदी को आड़े हाथों लेते हुए कहा, “हम तो कह रहे हैं कि सरकार बातचीत करे। कमेटी जो भी निर्णय लेगी, वो तय करती रहेगी। सरकारी टीवी पर बोल दिया और देश ने सभी चीजें मान लीं। वो क्या दिखाना चाहते हैं किसानों को? आप बातचीत के लिए टेबल पर आओ और बताओ कि ये-ये चीजें होनी हैं।”

इसपर अंजना ओम कश्यप ने कहा, “ये तो बढ़िया है ना कि टीवी पर आकर कहा, वरना टेबल पर बातचीत होती तो आप लोग बाद में कहते कि कोई प्रूफ नहीं बचा।” इसका जवाब देते हुए किसान नेता ने कहा, “ऐसे कोई नहीं जा सकता, ये तो एकतरफा हो गया कि मैंने जो कह दिया फाइनल और दूसरों की सुननी नहीं है। हम भी तो सवाल करना चाहते हैं, उत्तर भी आपका जवाब भी आपका।”

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
दीपिका-अर्जुन को मिली बड़ी राहत, ‘फाइंडिंग फैनी’ से हटा बैन
अपडेट