जल, जंगल और ज़मीन बचानी है तो लुटेरों के खिलाफ लड़नी होगी लड़ाई- BKU नेता राकेश टिकैत ने फिर दी सरकार को चेतावनी

सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए टिकैत ने अपने साथियों को मैसेज देते हुए कहा कि अगर जल, जंगल और जमीन को बचाना है तो लुटेरों के खिलाफ लड़ाई लड़नी होगी।

Rakesh Tikait, BKU, Farm Laws
नई दिल्ली स्थित गाजीपुर बॉर्डर पर विरोध के तौर पर सिर पर काला साफा बांध एक कार्यक्रम में किसानों को संबोधित करते BKU के नेता राकेश टिकैत। (फाइल फोटोः पीटीआई)

बीकेयू (BKU) लीडर राकेश टिकैत ने एक बार फिर से मोदी सरकार को चेतावनी दी है। ऐसे में टिकैत ने दो ट्वीट किए। सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए टिकैत ने अपने साथियों को संदेश देते हुए कहा कि अगर जल, जंगल और जमीन को बचाना है तो लुटेरों के खिलाफ लड़ाई लड़नी होगी। राकेश टिकैत अपने पोस्ट में बोले- ‘किसान आंदोलन, यदि किसानों को अपनी ज़मीन और आदिवासियों को अपने जल, जंगल, जमीन बचाने हैं तो उन्हें देश के लुटेरों के खिलाफ लंबी लड़ाई लड़नी होगी..! वहीं अपने अगले पोस्ट में उन्होंने कहा- सरकार तीनों कानूनों को रद्द करे और MSP पर कानून बनाएं।

राकेश टिकैत के इन पोस्ट को देख कर ढेरों लोगों के कमेंट आने शुरू हो गए। एक यूजर ने कहा- ट्वीट ट्विटर से होते हैं, क्रांति सड़कों से आती है। भदोही नाम के शख्स ने कहा- जल, जंगल, जमीन, सरकारें किसी की हों, इन पर नजरें सबकी रहती हैं। ऐसे में ये लड़ाई अनवरत रूप से चलती रहेगी। नरेद्र ठाकुर नाम के शख्स ने कहा- सर आप सच्चाई के साथ किसानों के हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। इसके लिए आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। कुछ लोग किसानों को बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्हे नजरअंदाज करें, वो 2 रुपए वाले अन्धभक्त हैं।

विरेंद्र अग्रवाल नाम के यूजर बोले- किसानी और जंगल बचाने के लिए लड़ाई लंबी तो चलेगी। लेकिन जब तक मोदी व उनकी भाजपा के राज में तबाह हो चुके किसान, शिक्षित बेरोजगार और व्यापारी एक जुट होकर इस संवेदनशीलहीन और सत्ता लोलुप सरकार को हटाने का बिगुल नहीं बजाएंगे और सामाजिक बहिष्कार नहीं करेंगे, जीत आसान नहीं।

आर एम हन्फी नाम के यूजर बोले- रोजाना 28 किसान और मजदूरों की मौत हो रही है। सरकार का वादा था किसानों की आय दोगुनी करने का? लेकिन किसान विरोधी प्रदर्शन 5 गुना बढ़ गए। 52% जिलों में खेतिहर मजदूर किसान से ज्यादा हो गए। यही हकीकत है, मोदी सरकार की। हरि नाम के यूजर बोले- हां शुरुवात रोबर्ट वाड्रा से करो, उनके पास हमारे हरियाणा, पंजाब, दिल्ली की जमीनें हैं। किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि जब तक सरकार MSP पर क़ानून नहीं बनाती और किसानों के सभी मसलों पर बातचीत नहीं करेगी तब तक किसान यहां से नहीं जाएगा।

अमीना मलिक ने कहा- लंबी लड़ाई नहीं लड़नी होगी सर। हर 5 साल में चुनाव आते हैं, बस बात ही खत्म अब कुछ लोग होते हैं, नशा करके वोट डालते हैं। उनको मालूम ही नहीं पड़ता कहां वोट जा रहा है। इसलिए अपने बच्चों के भविष्य के लिए आने वाले टाइम के लिए सही सरकार चुने। पढ़े-लिखे नौजवानों को वोट दें।

दिनेश चावला नाम के शख्स ने भड़कते हुए कहा- तुम हो कौन जो सरकार को आदेश दे रहे हो? तुम खुद को कितने ही बड़े नेता/किसान हितैषी बताने का प्रयास करो पर देश का किसान और बाकी जनता ये जानती है कि तुम राजनीति गलियारों में क्या करते हो। जो किसानों के कंधों पर बंदूक रख अपनी राजनैतिक रोटियां सेकने की कोशिश में लगे रहते हो।

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट