मैं उनसे माफी मांगना चाहता था- राजेश खन्ना के खिलाफ चुनाव लड़कर शत्रुघ्न सिन्हा को हुआ था पछतावा, बताई ये वजह

1992 में नई दिल्ली के सीट पर हुए चुनाव में राजेश खन्ना के खिलाफ बॉलीवुड एक्टर शत्रुघ्न सिन्हा बीजेपी से खड़े थे। इस चुनाव के कारण ही राजेश खन्ना और शत्रुघ्न सिन्हा के बीच दरार भी हो गई थी। इस बात का खुलासा खुद शत्रुघ्न सिन्हा ने किया था।

Rajesh khanna, rajesh khanna newsराजेश खन्ना से माफी मांगना चाहते थे शत्रुघ्न सिन्हा (फोटो क्रेडिट इंडियन एक्सप्रेस)

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर राजेश खन्ना (Rajesh Khanna) ने फिल्म ‘आखिरी खत’ से फिल्मों में कदम रखा था। उन्होंने अपने करियर के दौरान 200 से भी ज्यादा फिल्मों में काम किया था। फिल्मों के साथ-साथ राजेश खन्ना ने राजनीति में भी हाथ आजमाया था। उन्होंने साल 1992 में कांग्रेस की तरफ से नई दिल्ली सीट से चुनाव लड़ा और जीत भी हासिल की। इस चुनाव में राजेश खन्ना के खिलाफ बॉलीवुड एक्टर शत्रुघ्न सिन्हा बीजेपी से खड़े थे। इस चुनाव के कारण ही राजेश खन्ना और शत्रुघ्न सिन्हा के बीच दरार पैदा हो गई थी। इस बात का खुलासा खुद शत्रुघ्न सिन्हा ने किया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक शत्रुघ्न सिन्हा और राजेश खन्ना काफी अच्छे दोस्त थे, लेकिन 1992 में हुए चुनाव के बाद दोनों में स्थिति पहले जैसी नहीं रही थी। इस बात को लेकर शत्रुघ्न सिन्हा ने टाइम्स ऑफ इंडिया को भी इंटरव्यू दिया और कहा, “जब मैं चुनाव में राजेश के खिलाफ खड़ा हुआ तो वह इस बात से काफी दुखी हो गए थे।”

शत्रुघ्न सिन्हा ने राजेश खन्ना के बारे में बात करते हुए आगे कहा था, “ईमानदारी से बताऊं तो मैं वो चुनाव नहीं लड़ना चाहता था, लेकिन मैं लाल कृष्ण आडवाणी जी को मना नहीं कर पाया। मैंने इस बात को राजेश को भी समझाने की कोशिश की थी, लेकिन उन्हें ये चीज बिल्कुल भी पसंद नहीं आई।”

शत्रुघ्न सिन्हा ने आगे कहा, “हमने लंबे समय तक एक-दूसरे से बात तक नहीं की थी। हालांकि, कुछ सालों बाद हमने दोबारा बातें करनी शुरू कर दी थीं। जब वह हॉस्पिटल में थे तो मैं उनसे माफी मांगना चाहता था, उन्हें गले लगाना भी चाहता था। लेकिन मेरे ऐसा करने से पहले ही वह गुजर गए।”

बता दें कि राजेश खन्ना ने शत्रुघ्न सिन्हा को करीब 25 हजार वोटों से मात दी थी। राजेश खन्ना कांग्रेस पार्टी के स्टार प्रचारक रहे थे, लेकिन उनके करीबी दोस्त और निर्देशक अशोक त्यागी ने बताया कि 2012 में हुए उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव के दौरान राजेश खन्ना को पार्टी ने पूछा तक नहीं। इससे वह बुरी तरह से टूट चुके थे।

राजेश खन्ना ने अपने इंटरव्यू में बताया था कि 1992 से 1996 तक सांसद रहने के बाद पार्टी ने उनसे दोबारा चुनाव लड़ने के लिए कहा था। लेकिन वह लोकसभा की जगह राज्यसभा जाना चाहते थे। लेकिन पार्टी ने उनकी इस मांग को पूरी नहीं की।

Next Stories
1 तो आज जूनियर आर्टिस्ट के साथ काम कर रहा हूं- जितेंद्र को देख बोल पड़े थे राजकुमार, दी थी सफाई
2 जब अपने वादे से मुकर गए थे विनोद खन्ना, बर्बादी के रास्ते पर आ गई थीं सिमी ग्रेवाल, फिर हुई मिथुन चक्रवर्ती की एंट्री
3 आप धोखेबाज़ हो, मैं आपको श्राप देता हूं- फिल्म से निकाले जाने पर गुस्से में महेश भट्ट से बोले थे अनुपम खेर
यह पढ़ा क्या?
X