ताज़ा खबर
 

रईसः डायलॉग्स के मामले में काबिल से कहीं आगे है शाहरुख खान की फिल्म

बॉलीवुड स्टार शाहरुख खान की फिल्म रईस रिलीज हो चुकी है। एनालिस्ट्स के अनुमान की बात करें तो फिल्म के बॉक्स ऑफिस पर अच्छा 'धंधा' करने की उम्मीद है।

Author नई दिल्ली | January 25, 2017 5:16 PM
रईस ने फिल्म काबिल के साथ बॉक्स आॅफिस पर क्लैश के बावजूद काफी अच्छा बिजनेस किया।

बॉलीवुड स्टार शाहरुख खान की फिल्म रईस रिलीज हो चुकी है। एनालिस्ट्स के अनुमान की बात करें तो फिल्म के बॉक्स ऑफिस पर अच्छा ‘धंधा’ करने की उम्मीद है। शाहरुख की यह फिल्म डायलॉग्स के मामले में पहले ही खुद को कामयाब साबित कर चुकी है। क्योंकि रईस शाहरुख खान की सीधी टक्कर काबिल ऋतिक रोशन से है तो ऐसे में यह देखना होगा कि कौन सी फिल्म बॉक्स ऑफिस कलेक्शन के मामले में बाजी मारती है। यह पूरी तरह से इस बात पर निर्भर करेगा कि दर्शकों को कौन सी फिल्म ज्यादा पसंद आती है। हालांकि सोशल मीडिया की बात करें तो पलड़ा रईस का ही भारी नजर आता है। रईस के डायलॉग्स ट्विटर और फेसबुक पर खूब ट्रेंड कर रहे हैं। “अम्मी जान कहती थीं…”, “आ रहा हूं….”, “बैट्री नहीं बोलने का”, सरीखे डायलॉग्स सोशल मीडिया पर खूब धूम मचा रहे हैं। दोनों ही स्टार्स से फिल्म के प्रमोशन में कोई कमी नहीं छोड़ी है। हालांकि रिलीज से ठीक एक दिन पहले शाहरुख के साथ हुई वड़ोदरा कॉन्ट्रोवर्सी इस मामले में एक निगेटिव प्वॉइंग साबित हो सकती है।

रईस एक क्राइम एंड ड्रामा फिल्म है। जिसे निर्देशक राहुल ढोलकिया ने डायरेक्ट किया है। प्रोड्यूसर गौरी खान, रितेश सिधवानी, फरहान अख्तर ने फिल्म का प्रोडक्शन किया है और इसे लिखा है राहुल ढोलकिया, हरित मेहता, आशीष वासी और नीरज शुक्ला ने। यह बात तो माननी ही पड़ेगी कि रईस ने काबिल को डायलॉग्स के मामले में पटखनी दे दी है। क्योंकि जिस स्क्रिप्ट टीम का हमने जिक्र किया इसने डायलोग्स को इतना सीधा-सपाट और क्रिस्पी रखा है कि देखते ही देखते ये लोगों की जुबान पर चढ़ गए। “अम्मी जान कहती थीं कोई धंधा छोटा नहीं होता”, इस डायलॉग्स ने तो कुछ ऐसा कमाल कर दिखाया कि एक मोची ने अपनी दुकान पर इस डायलॉग को लिखवा कर बैनर ही टंगवा दिया।

इस बात में कोई संदेह नहीं कि डायलॉग्स फिल्म की माउथ-टू-माउथ पब्लिसिटी करने में एक अहम रोल प्ले करते हैं। काबिल के डायलॉग्स लोगों को फिल्म रिकॉल करने में उतना कामयाब नहीं हुए जितना कि रईस के डायलॉग्स हुए। शाहरुख के डायलॉग्स बोलने के अंदाज और जिस तरह उन्हें लिखा गया है वाकई काबिल-ए-तारीफ हैं। फिल्म की स्पेशल स्क्रीनिंग के बाद आए रिस्पॉन्स से यह भी पता चला कि नवाजुद्दीन सिद्दीकी अपने एक्टिंग के दम पर शाहरुख को ओवरशेडो करते नजर आए। तो आइए आपको बताते हैं कि फिल्म में कौन से डायलोग्स हैं जो लोगों की जुबां पर चढ़े हुए हैं और फैन्स जिन्हें खूब पसंद कर रहे हैं।

“जो धंधे के लिए सही वो सही… जो धंधे के लिए गलत वो गलत… इससे ज्यादा कभी सोचा नहीं।”

“कोई धंधा छोटा नहीं होता… और धंधे से बड़ा कोई धर्म नहीं होता।”

“गुजरात की हवा में व्यापार है साहेब… मेरी सांस तो रोक लोगे… लेकिन इस हवा को कैसे रोकोगे।”

“बनिए का दिमाग…. मियां भाई की डेरिंग”

“सबूत ले आइए… ले जाइए…. रईस हाजिर है।”

“आ रहा हूं।”

“एक दिन नाक में नकेल डालके खींच के लेके जाऊंगा तुझे मैं यहां से”

जानिए दर्शकों को कैसी लगी रितिक- यामी की 'काबिल'

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X