ताज़ा खबर
 

ममता के सामने ढह चला मोदी का जादू- बोले पुण्य प्रसून बाजपेयी, डर-भय और धनबल हो गया बेअसर

ताना कसते हुए Punya Prasun Bajpai ने पीएम मोदी के लिए कहा कि- ममता बनर्जी के सामने उनका जादू ढह गया। बाजपेयी ने एक के बाद एक तीन ट्वीट किए जिसमें वह केंद्र सरकार पर चुटकी लेते दिख।

पश्चिम बंगाल सीएम ममता बनर्जी, दूसरी तरफ PM नरेंद्र मोदी (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी (Punya Prasun Bajpai) ने सोशल मीडिया पर पोस्ट कर एक बार फिर से पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) पर निशाना साधा है। ताना कसते हुए उन्होंने पीएम मोदी के लिए कहा कि- ममता बनर्जी के सामने उनका जादू ढह गया। बाजपेयी ने एक के बाद एक तीन ट्वीट किए जिसमें वह केंद्र सरकार पर चुटकी लेते दिखे। अपने पहले पोस्ट में बाजपेयी बोले- ‘डर खत्म, भय खत्म, धनबन बेअसल, कैसे ममता के सामने ढह चला है मोदी का जादू।’

इस पोस्ट को शेयर करते हुए बाजपेयी ने एक वीडियो लिंक भी शेयर किया जिसमें पुणय प्रसून बाजपेयी कहते हैं- ‘दोस्तों नरेंद्र मोदी का जादू क्या उतर रहा है? बीते सात बरस से जैसा चाहा जिस रूप में चाहा हर एक चीज को उन्होंने उसी दिशा में मोड़ दिया। जिसने इनकार किया जिसने सवाल उठाए, उसके दरवाजे पर कभी सीबीआई की तभी ईडी की और कभी पैसों की पोठली भी पहुंची है। हर प्रांत के नेता ने घुटने टेक लिए। दागदार दामन को बचाने के लिए बीजेपी के साथ खड़ा होना ही उचित समझा।’

बाजपेयी आगे बोले- ‘लेकिन बंगाल चुनाव के परिणामों के बाद स्थिति पलट रही है। ऐसी स्थिति पैदा हो रही है जिसमें सीबीआई का डर नहीं, ईडी का डर नहीं, चुनाव जीतने को लेकर जनता अगर आपके साथ खड़ी है तो फिर किसी का कोई असर नहीं होता।’

एक अन्य पोस्ट पर चुटकी लेते हुए पत्रकार बोले- ‘वो बहादुर है…. पर वो कार्टून से डरता है !’ अगले पोस्ट में वो बोले- ‘पहले “एक देश एक हेल्थ” इलाज में असमानता ना हो, इलाज गरीब-रईस सभी को मिले, तभी….एक दुनिया एक हेल्थ।’ पुण्य प्रसून बाजपेयी के इन पोस्ट को देख ढेरों लोग कमेंट करने लगे।

शाहिद हुसैन नाम के एक यूजर ने लिखा- वो बहादुर अंधे भक्तों की नजरों में‌ हो सकता है? लेकिन सच्चाई तो किसी से छुपी कहां रही? अच्छे दिन 56 इंच पर भारी पड़ी एक महिला दीदी ओ दीदी: खेला होबे? और खेला तो ऐसा हो गया सारे अभिमान को हवाई चप्पल वाली ने चकनाचूर कर दिया? किसी को कोई शक?

एक यूजर बोले- असली वीर भारतवर्ष की सीमाओं की रखवाली कर रहे हैं। स्वयंसेवक ढोंगी बहादुर और उनके स्वयंसेवक साथी देश को अंदर से खोखला कर रहे हैं, दीमक की तरह।

नमृता नाम की महिला यूजर बोलीं- जब बीजेपी आलाकमान ने पश्चिम बंगाल में अपने कार्यकर्ताओं को बेसहारा छोड़ दिया है, ऐसे में अब पार्टी के कद्दावर नेता धीरे-धीरे वहां से खिसकने शुरू हो गए हैं। सूत्रों के मुताबिक तृणमूल कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए कई नेता वापस तृणमूल कांग्रेस में जाने की सोच रहे हैं जान सबको प्यारी।

Next Stories
1 मुंह में राम जेब में चंदा, चंपत होगा अब ये बंदा- राम मंदिर ट्रस्ट में कथित घोटाले पर पूर्व IAS का तंज़, बोले- ट्रस्ट ही खो दिया
2 सुशांत सिंह राजपूत स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी की स्कॉलरशिप छोड़कर आ गए थे मुंबई, परिवार ने यूं दिया था रिएक्शन
3 आशा पारेख के डर से ‘आए दिन बहार के’ की शूटिंग पर प्याज खाकर पहुंचते थे धर्मेंद्र, दिलचस्प है वजह
यह पढ़ा क्या?
X