ताज़ा खबर
 

मोदी के अर्थशास्त्र का सच, बैंक कंगाली की ओर और महंगाई-बेरोजगारी आसमान पर- बोले पुण्य प्रसून बाजपेयी; देखें आने लगे कैसे कमेंट

ट्वीट के बाद पुण्य प्रसून बाजपेयी ट्विटर पर ट्रोल होने लगे। मोदी सरकार पर निशाना साधने के बाद उन्हें सोशल मीडिया पर ढेरों कमेंंट्स का सामना करना पड़ा।

pm narendra modiप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)।

वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने एक पोस्ट कर केंद्र सरकार और पीएम मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल पर एक वीडियो शेयर करते हुए लिखा, ‘मोदी के अर्थशास्त्र का सच- बैंक कंगाली के रास्ते, शेयर बाजार की हवाई उड़ान, महंगाई से बेरोजगारी तक आसमान पर, कृषि विकास भी बाजार में ढकेलने की तैयारी।’ इस ट्वीट के बाद पुण्य प्रसून बाजपेयी ट्विटर पर ट्रोल होने लगे। मोदी सरकार पर निशाना साधने के बाद उन्हें सोशल मीडिया पर ढेरों कमेंंट्स का सामना करना पड़ा।

जितेश सिंह नाम के यूजर ने पुण्य प्रसून बाजपेयी को जवाब देते हुए लिखा- ‘बाजपेयी जी आप तो ज्ञान में राहुल गांधी को भी पीछे छोड़ दिए। मतलब देश की जनता राहुल गांधी की तरह बेवकूफ है जो हर बार मोदी जी को जिता रही है’। मेमन वाहिद ने लिखा, ‘जीडीपी नीचे और शेयर मार्किट ऊपर जा रहे हैं’। एक अन्य यूजर ने लिखा, ‘पहले जाकर इकॉनमी पढ़ो, स्टडी करो उसके बाद कोई कमेंट या पोस्ट करो समझे। नीरज नाम के यूजर ने लताड़ते हुए कहा- ‘दुनिया के 40% देशों में अभी भी लॉकडाउन लगा हुआ है।

इंडोनेशिया से लेकर स्पेन लंदन अमेरिका के कई हिस्सों में लॉकडाउन लगातार जारी है। 80 करोड़ जनता को 7 महीने तक कोरोना महामारी में अनाज बांटना अंधों को नजर नहीं आता। एक यूजर बोला – इतिहास में ये पहला ऐसा दौर है जहां रोटी, कपड़ा, मकान, महंगाई, जीडीपी, शिक्षा, स्वास्थ, रोज़गार और किसान की बात करने वाले को #देशद्रोही कहा जाने लगा है।’

एक अन्य यूजर ने लिखा, ‘आप भी कंगाली के रास्ते पर हैं श्रीमान, दस्तक में हाथ मसले हुए बहुत दिन हो गए।’ एसएन अग्रवाल ने कटाक्ष करते हुए कहा- ‘किसी ने ठीक ही कहा है कि सफाई दरोगा सुन्दर बाग बगीचे /सफाई को देखकर खुश नहीं होता है, वह तभी खुश होता है जब उसे गंदगी का ढ़ेर दिखाई दे। गंदगी उसे उर्जा प्रदान करती है और उत्साह से काम पर लग जाता है। लगे रहो भाई अभी साढ़े तीन साल बाकी हैं राजन’।

एक यूजर ने लिखा, ‘बैंक कंगाली पर हैं, क्योंकि टेलीफोन से लोन दिए गए, चंदा दो…लोन लो- शिवसेना के दो नेताओं के खाते मैं घोटाले का पैसा मिला। शेयर बाजार बढ़ रहा है, तो बेचने में कहीं रोक थोड़ी है, अपना शेयर बेचो महंगाई तो डिमांड और सप्लाई पर रहती है। इतना तो इकोनॉमिक्स में पढा होगा कृषि सुधार नहीं चाहिए?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 9 साल की उम्र में श्रीदेवी और रजनीकांत संग पहली बार स्क्रीन पर आए थे ऋतिक रोशन, खंबे के पीछे खड़े होकर बेटे की एक्टिंग देखते थे राकेश रोशन
2 शाहरुख खान से लेकर शिल्पा शेट्टी तक, साइड बिजनेस से भी लाखों कमाते हैं ये सितारे; जानिए क्या करते हैं
3 जब ऋतिक रोशन की पहली फ़िल्म हुई थी रिलीज़, वेलेंटाइन डे पर 30 हज़ार से ज़्यादा लड़कियों ने दिया शादी का प्रपोजल, खुद किया खुलासा
ये पढ़ा क्या?
X