जरूरी नहीं जो घोंसला बनाए, वही उसमें रहे- पुण्य प्रसून बाजपेयी ने किया सेंट्रल विस्टा का जिक्र तो बोले अखिलेश यादव

बाजपेयी के पोस्ट पर अखिलेश यादव ने नाम लिए बगैर पीएम मोदी पर निशाना साधा।

Punya Prasun Bajpayee, Central Vista Project, Akhilesh
उत्तर प्रदेश पूर्व सीएम अखिलेश यादव (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस आरकाइव)

वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने ट्विटर पर अपनी पोस्ट में पीएम मोदी और सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट पर कटाक्ष किया। बाजपेयी ने एक पोस्टर साझा करते हुए लिखा, ‘याद आया, सेंट्रल विस्टा की फ़ोटोग्राफ़ी पर तो पांबदी है…।’ दरअसल, बीते दिनों पीएम मोदी सेंट्रल विस्टा साइट की विजिट करने गए थे। उनकी कई तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई थीं। इसी को लेकर बाजपेयी ने पीएम मोदी पर निशाना साधा।

पुण्य प्रसून बाजपेयी की इस पोस्ट पर उत्तर प्रदेश के पूर्व सीएम और समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने भी टिप्पणी की। अखिलेश यादव ने पीएम मोदी का नाम लिये बगैर तंज कसा और ‘सेंट्रल विस्टा’ का जिक्र करते हुए लिखा- ‘ज़रूरी नहीं जो घोंसला बनाए वही उसमें रहे…।’

सपा नेता की पोस्ट पर तमाम यूजर्स भी टिप्पणी करने लगे। एक यूजर ने लिखा, ‘अखिलेश जी, जो सिर्फ अपने लिए घोंसला बनवाते हैं, वो अक्सर उसमें नहीं रहते हैं। आपके साथ 2017 में कुछ ऐसा ही हुआ था। लेकिन योगी जी और मोदी जी की जोड़ी ने पहले गरीबों के लिए घोंसला बनवाया। फिर देशहित में काम करने वाले जनप्रतिनिधियों के लिए घोंसला बनवा रहे हैं। इसलिए वो जरूर रहेंगे।’ इस यूजर को एक अन्य यूजर ने जवाब देते हुए कहा- ‘किसका घोंसला बना दिया? हमें तो अभी तक यही लगा कि ये उजाड़ ही रहे हैं।’

विनोद चौधरी नाम के यूजर ने लिखा- ‘ज़रूरी नहीं जो घोंसला बनाए वही उसमें रहे, बिल्कुल सही कहा आपने। तो यह कहानी तो आपके ऊपर भी लागू होती है। जरूरी नहीं जो रोड का उद्घाटन करे, काम वही करे।’ करुणा नाम की यूजर बोलीं- ‘हां, घोंसला तो हमेशा अपनों के लिए ही बनाया जाता है। मोदी जी का मेगा प्लान है और काम योगी जी के आएगा।’

बाजपेयी की पोस्ट पर एसके मिश्रा नाम के एक यूजर ने कमेंट किया- ‘ लगा हुआ बोर्ड तो पढ़ लेते। आम लोगों के लिए मना है, जो उस प्रोजेक्ट का सर्वे-सर्वा है उसके लिए नहीं। वो भी स्पेशली आप जैसे लोगों को रोकने के लिए वो बोर्ड लगे हैं।’ मुकेश अग्रवाल ने कहा- ‘मंदिरों में फ़ोटोग्राफ़ी मना होती है, परंतु पुजारी को फ़ोटोग्राफ़ी की मनाही नहीं होती है! अब धर्मांतरण धारी क्या जानें मंदिर की पवित्रता एवं पुजारी की सत्य निष्ठा को!’

बता दें, पिछले दिनों जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट का निरीक्षण करने पहुंचे थे तब सोशल मीडिया पर उनकी ढेरों तस्वीरें सामने आई थीं। जिसमें प्रधानमंत्री सिर पर सेफ्टी हेलमेट लगाए निरीक्षण करते और इंजीनियर्स और मजदूरों से बात करते दिखाई दिये थे। जहां कुछ लोग पीएम की सेंट्रल विस्टा साइट की तस्वीरें देख कर खुश नजर आए। वहीं एक वर्ग पीएम के अचानक इस तरह बिना पूर्व सूचना और सुरक्षा के सेंट्रल विस्टा साइट पर पहुंचने को लेकर आलोचना करते दिखाई दिया था।

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।