5 किलो मुफ्त अनाज ने बचा लिया वरना भूख में सोमालिया होते- बोले पुण्य प्रसून बाजपेयी तो लोग करने लगे ऐसे कमेंट

अपने पोस्ट पर बाजपेयी मोदी सरकार पर निशाना साधते नजर आ रहे हैं। अपने पहले ट्वीट में पुण्य प्रसून बाजपेयी ने कहा- ‘5 किलो मुफ़्त अनाज ने बचा लिया, अन्यथा भूख में सोमालिया होते।’

PM Modi Photo, PM Modi NHRC
पीएम नरेंद्र मोदी (Photo Source- ANI)

देश में लगातार बढ़ रहे पेट्रोल-डीजल के दामों को लेकर पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने सोशल मीडिया पर कुछ पोस्ट किए हैं। पोस्ट पर पुण्य प्रसून बाजपेयी मोदी सरकार पर निशाना साधते नजर आ रहे हैं। अपने पहले ट्वीट में पुण्य प्रसून बाजपेयी ने कहा- ‘5 किलो मुफ़्त अनाज ने बचा लिया, अन्यथा भूख में सोमालिया होते।’

अपने अगले पोस्ट में बाजपेयी ने कहा- ‘टमाटर ने पेट्रोल-डीज़ल को हराया, पेट्रोल-डीजल ने डॉलर को डॉलर ने रुपए को, रुपए ने ज़िन्दगी को।’ बाजपेयी ने पीएम मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा- ‘7, लोक कल्याण मार्ग का नाम बदलें, 7, रॉयल स्ट्रीट कर दें।’

पुण्य प्रसून बाजपेयी के पोस्ट देख कर ढेरों लोगों ने रिएक्ट करना शुरू कर दिया। कांग्रेस नेता रोहित झालीवाल ने कहा- ‘सरकार की दो मुख्य उपलब्धियां- ‘महंगाई की मार-बेरोजगारी की भरमार।’ आमीन पठान नाम के य़ूजर ने कहा- ‘देश की भूल कमल का फूल।’ योगेंद्र भदौरिया नाम के यूजर ने कहा- ‘वहां सिंधु बॉर्डर पहुंच पाए कि नहीं बाबू जी?’

पीके शर्मा नाम के यूजर ने कहा- ‘वो छीनकर हमारे मुंह से निवाला, मुफ़्त अनाज बांटने का इश्तेहार छापते हैं, बड़े ही दरिया दिल हैं साहब हमारे, पैसे पर हमारे दुनिया में ऐश काटते हैं।’ सिंह नाम के अकाउंट से कमेंट आया- ‘हमें मिड-डे मील का भी शुक्रगुजार होना चाहिए। डॉ मनमोहन सिंह की सरकार ने इतना किया नहीं तो हम आखिरी बचे होते साहब।’ जस्टिन जेम्स नाम के अकाउंट से कमेंट आया- ‘भूख से डर नहीं लगता साहब पांच किलो अनाज से लगता है इसे मत बांटों।’

बता दें, पिछले दिनों वैश्विक भुखमरी सूचकांक यानी ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2021 की लिस्ट भी जारी की गई थी। जिसमें सामने आया था कि इस लिस्ट में भारत की रैंक पड़ोसी देश पाकिस्तान, बांग्लादेश और नेपाल से भी पीछे है। इस लिस्ट में 116 देशों में भारत का स्थान 101वां है।

इस लिस्ट में सामने आया है कि भारत उन 31 देशों में भी शामिल है जहां पर भुखमरी की समस्या बहुत गंभीर मानी गई है। इस लिस्ट के जारी होने के बाद सोशल मीडिया पर मोदी सरकार को घेरा जा रहा है।

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट