ताज़ा खबर
 

जो राष्ट्राध्यक्ष खुद को क़ानून से ऊपर माने वो तानाशाह है या सिरफिरा- बोले पुण्य प्रसून बाजपेयी तो आने लगे ऐसे कमेंट

अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन ने एक ट्वीट किया कि इस देश का राष्ट्रपति कानून से ऊपर नहीं है। उनके इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए पुण्य प्रसून बाजपेयी ने कहा कि वो तानाशाह है या सिरफिरा...

punya prasun bajpai, joe biden, american presidentपुण्य प्रसून बाजपेयी ने जो बाइडेन के एक ट्वीट को रीट्वीट करते हुए अपनी बात कही है (फाइल फोटो)

अमेरिका के वाशिंगटन स्थित कैपिटल हिल पर ट्रंप समर्थकों द्वारा उत्पात और हिंसा के बाद कई लोग डोनाल्ड ट्रंप की आलोचना कर रहे हैं। ट्रंप पर यह आरोप है कि उन्होंने ही लोकतांत्रिक तरीके से चुनी गई सरकार के विरुद्ध अपने समर्थकों में अविश्वास पैदा किया और उन्हें भड़काया है। इसी बात को लेकर अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन ने एक ट्वीट किया कि इस देश का राष्ट्रपति कानून से ऊपर नहीं है।

उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि न्याय लोगों की सेवा के लिए है न कि शक्तिशाली को बचाने के लिए। उनके इस ट्वीट को रीट्वीट करते हुए वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने एक ट्वीट किया और कहा कि जो राष्ट्राध्यक्ष खुद को कानून से ऊपर माने वो या तो तानाशाह होता है या सिरफिरा। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा, ‘वो तानाशाह है या सिरफिरा.. जो भी राष्ट्राध्यक्ष खुद को कानून से ऊपर माने।’

उनके इस ट्वीट पर यूजर्स भी खूब कमेंट कर रहे हैं। रोहित आनन्द नाम के यूज़र ने लिखा, ‘हर दिन मोदी को कोसने के अलावा कुछ आता भी है आपको। आजतक का एडिटिंग वाला आपका वीडियो अरविंद केजरीवाल जी के इंटरव्यू के बाद यही दिखाता है कि मेनुपुलेशन आप भी करते थे। कुछ अलग नहीं हो आप उनसे जिनको आज आप दरबारी बोलते हो। आप भी दूसरी तरफ हो और वो सरकार की तरफ के।’

वेल रीड नाम के यूज़र ने लिखा, ‘ट्रंप ने गलत देश और लोगों के साथ पंगा लिया। उसने अपने दोस्त की सुनी और ये हाल हुआ। ये बिना रीढ़ वाला कानून और लोकतंत्र थोड़ी था।’ शैलेंद्र सिंह ने लिखा, ‘सत्ता की मलाई ऐसी ही होती है जाने के बाद आदमी पागल हो जाता है। सत्ता रहने पर अहं ब्रम्हासी का एहसास होता है, सत्ता जाने के बाद अहं चुहानशी का एहसास होता है। कोई टीका लगवाने से मना कर देता है। चाटुकारों से घिरे ये लोग सत्ता जाने के बाद भी अपने आप को सबका आका ही मानते हैं।’

 

चौकीदार आलोक सिंह ने लिखा, ‘अमेरिका की तरह भारत में भी कभी कोई था जो कहता था, संसद भ्रष्ट है सुप्रीम कोर्ट पर भरोसा नहीं है मीडिया बिक गयी है संविधान नाकामयाब हो चूका है इसलिए मैं अराजकता फ़ैलाने आया हूं याद आ रहा है कोई?’

गणेश ने लिखा, ‘सर आजकल आप क्रांतिकारी इंटरव्यू नहीं करते क्या? काफ़ी साल हो गए..।’ नरेंद्र देबखेरा ने लिखा, ‘आपकी यह बात ममता बनर्जी पर बहुत फिट बैठती है।’ मनोहर चौधरी ने लिखा, ‘अमेरिका से सबक लें, लोकतंत्र में भक्ति नहीं, आलोचना की शक्ति ज़िंदा रखिए वरना सेवक को शासक बनते देर नहीं लगती। फैन नहीं मतदाता बनिए।’

Next Stories
1 इस्लामी देशों और चीनी प्रोपेगेंडा ने आपको खरीद लिया- डोनाल्ड ट्रंप का अकाउंट हुआ बंद तो ट्विटर के CEO पर भड़कीं कंगना रनौत
2 महाभारत में काम कर चुकी हैं गंदी बात फेम एक्ट्रेस गरिमा जैन, अनाथ बच्चियों की भी उठाती हैं जिम्मेदारी
3 बिग बॉस 14 : निक्की तंबोली के जिद्दी स्वभाव पर सलमान खान हुए गुस्सा, घर में आकर करने लगे सफाई
ये पढ़ा क्या?
X