धर्म की राजनीति ने भारतीय सभ्यता की नींव हिला दी? पुण्य प्रसून बाजपेयी ने पूछे ये सवाल, तो लोग देने लगे ऐसी प्रतिक्रिया

प्रसून बाजपेयी के इस पोस्ट पर लोगों के ढेरों रिएक्शन सामने आने लगे। आदित्य नाम के यूजर ने कहा- मोदी के धर्म की राजनीति के लिए गोदी मीडिया, आरएसएस से लेकर पूरा सिस्टम..

PM Modi & Rahul Gandhi
पीएम नरेंद्र मोदी और कांग्रेस नेता राहुल गांधी (फोटो सोर्सः एजेंसी)

पुण्य प्रसून बाजपेयी आए दिन अपने सोशल मीडिया पर तरह-तरह के पोस्ट करते रहते हैं। इस बार प्रसून बाजपेयी ने एक और पोस्ट किया जिसमें उन्होंने कहा कि धर्म की राजनीति ने भारतीय सभ्यता की नीव हिला दी है। इसी के साथ ही उन्होंने कुछ सवाल पूछने शुरू कर दिए। अपने पोस्ट पर उन्होंने कहा- देश में कोई नया पॉलिटिकल आइडिया क्यों नहीं? जो लाइमलाइट में आए वो जल्दी अस्त क्यों हुए? विरासत संभाले बच्चों की राजनीति भोथरी क्यों? धर्म की राजनीति ने भारतीय सभ्यता की नींव हिला दी ?

प्रसून बाजपेयी के इस पोस्ट पर लोगों के ढेरों रिएक्शन सामने आने लगे। आदित्य नाम के यूजर ने कहा- मोदी के धर्म की राजनीति के लिए गोदी मीडिया, आरएसएस से लेकर पूरा सिस्टम काम कर रहा है। जो कभी किसान युवा मजदूर दलित आदिवासियों के लिए आवाज उठाते हैं उन्हें प्राइवेटाइजेशन, डिसइंवेस्टमेंट के खिलाफ बोलने पर चुप करा दिया जाता है। साम दाम दंड भेद के जरिए उन्हें दबा दिया जाता है। यही आज की वास्तविकता है।

एजे आयूष ने लिखा- धर्म की राजनीति का इसलिए कोई तोड़ नहीं क्योंकि 2014 के पहले सब नेता सिर्फ़ एक ही धर्म को पुचकारते थे। अब उसका ही साइड इफ़ेक्ट है जिसका लाभ PM @narendramodi को मिल रहा है। मोदी धर्म की नहीं कर्म की राजनीति करते हैं। तुम जैसे ग़ुलाम क्या जाने। आज भारतीय राजनीति के कर्म निकल रहे हैं।

वीणा नाम की महिला यूजर बोलीं- सर आप अपवाद को भूल गए। मैं खुद हिंदू हूं लेकिन गलत को गलत कहने की हिम्मत रखती हूं। मैं धर्म के बजाए कर्म करने में यकीन रखती हूं। खुद को राम समझने वाला @arungovil12 भी गलत करते हैं तो खुलकर विरोध करती हूं। उसको राम समझ कर उसके पैर नहीं धोती।

देवेश नाम के शख्स ने लिखा- वैसे तो उत्तर आपको भी मालूम है, फिर भी यह भोलापन.. सादगी पर फ़िदा होने को जी चाहता है। पूरे देश में एक पार्टी की चर्चा क्या बिना आइडिया के है? विरासत में अक्ल नहीं मिलती, धर्म की राजनीति नहीं सिर्फ मुस्लिम धर्म की ख़िलाफत हो रही है। कारण आपसे बेहतर कोई नहीं जानता। उमेश शुक्ला ने कहा- धर्म ने राजनीति बदली हो या न बदली हो लेकिन ऐसे पत्रकारों की जड़ें जरूर हिला दीं।

अशोक कुमार ने कहा- जब तक देश में इस्लामिक तुष्टिकरण और जेहादियो का पालन-पोषण चलाने वाले चलायेंगे, मोदी ऐसे ही रहेंगे। अब कितना भी छटपटाओगे सेकुलरिज्म के नाम पर हिन्दूओं का दमन और इस्लाम का पोषण नहीं होने वाला है। न ये देश को स्वीकार है।

एक ने कहा- मोदी जी ने सोए हुआ हिंदुत्व को जगा दिया। वह लोग सिर्फ मोदी विरोधी ही बात करते हैं। आज तक कांग्रेस ने जो भोथरी ज्ञान सिखाएं उसी का नतीजा है। क्या मुगल शासकों ने हिंदू इतिहास को पलटने की कोशिश नहीं की? तो फिर आपको आज क्या गलत नजर आ रहा है?

 

पढें मनोरंजन समाचार (Entertainment News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।