ताज़ा खबर
 

‘एक का गुजरात मॉडल, दूसरे का दिल्ली मॉडल..’, पुण्य प्रसून बाजपेयी की इस बात पर लोग धड़ाधड़ करने लगे कमेंट; मिल ऐसे रिएक्शन

पुण्य प्रसून बाजपेयी के एक ट्वीट से लोगों के ढेरों रिएक्शन सामने आने लगे जिसमें वह पीएम मोदी के गुजरात मॉडल और केजरीवाल के दिल्ली मॉडल की बात कर रहे हैं...

पुण्य प्रसून बाजपेयी ने सरकार पर कसा तंज

साल 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में डेढ़ साल से भी कम का वक्त बचा है। ऐसे में अब राजनैतिक पार्टियां सक्रीय हो रही हैं। केजरीवाल की आमआदमी पार्टी भी इस बार यूपी चुनाव के लिए तैयारी कर रही है। ऐसे में पुण्य प्रसून बाजपेयी ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट किया जिसमें उन्होंने पीएम मोदी और दिल्ली सीए अरविंद केजरीवाल पर कटाक्ष किया। पुण्य प्रसून बाजपेयी ने अपने ट्वीट में कहा- ‘एक का गुजरात मॉडल और दूसरे का दिल्ली मॉडल। भाई साहब जनता को शांति से जीवन जीने दें।’

ऐसे में कई लोग सवाल करते दिख रहे हैं कि क्या केजरीवाल के लिए यूपी का रास्ता दिल्ली होकर आएगा। दिल्ली मॉडल के तहत आम आदमी पार्टी सरकार ने दिल्ली में 200 यूनिट तक मुफ्त बिजली की योजना को लागू किया है। दिल्ली में ही मुफ्त पानी और महिलाओं के लिए बसों में ट्रैवलिंग फ्री की भी सुविधा दी है।

पुण्य प्रसून बाजपेयी के इस पोस्ट पर लोगों ने जैसे ही दिल्ली मॉडल और गुजरात मॉडल टॉपिक को देखा, लोगों ने कमेंटबाजी करना शुरू कर दिया। एक यूजर ने लिखा- ‘जब जर्मनी जैसे जागरूक देश में हिटलर को समझने में लोग बर्बाद हो गये थे, फिर हमारे यहां तो फ़र्जी हिन्दू बने घुम रहे लोगों की भरमार है !’ तो वहीं आम आदमी पार्टी के स्पोक्सपर्सन ने भी पुण्य प्रसून बाजपेयी के ट्वीट पर कमेंट किया- ‘राजनीति में गवर्नन्स मॉडल की तुलना न हो तो क्या हिंदू-मुसलमान की राजनीति चाहते हैं आप? देश का आम आदमी शांत नहीं, बेहतर ज़िंदगी की तलाश में हैं। मुद्दों पर बात हो रही हैं, इसका स्वागत करना चाहिए। और आप मज़ाक़ उड़ा रहे हैं।’

एक ने कहा- ‘जो गुजरात मॉडल लेकर आया था और फिर उसने उसी मॉडल को देश भर में लागू किया था, इसका ही नतीजा है- आज देश में बेरोजगारी गरीबी भुखमरी जैसे हालात बढ़ते जा रहे हैं। देश 20 साल पीछे चला गया है। देश का हर नागरिक परेशान है जिसमें चाहे किसान हो मजदूर हो, युवा हो छोटे दूकानदार हो सबके काम-धंधे बंद हो गए हैं।’

एक यूजर बोला- ‘जिस वक्त किसान आंदोलन को MSP के नाम पर कांग्रेस हवा दे रही थी, उसी वक्त खबर ये है कि राजस्थान के किसानों को वहां की कांग्रेस सरकार के खिलाफ हाइकोर्ट जाना पड़ा। क्योंकि गहलोत सरकार ने केन्द्र की लिस्ट में शामिल दो फसल को MSP पर खरीदी जाने वाली फसलों की लिस्ट से बाहर कर दिया है। गजबे है।’ तो एक यूजर ने कहा- ‘ये दोनों ही मिलकर बेवकूफ बना रहे हैं। दिल्ली में ढंग का साफ पानी नहीं आता और चले उत्तर प्रदेश में फ्री बिजली फ्री पानी देने का वादा निभाने।’

एक यूजर ने समर्थन में कहा- ‘भारत के हर नागरिक का विकास हो इस लक्ष्य के साथ बढ़ते मोदी के कदम से तिलमिलाए कांग्रेस वामपंथी व अन्य राजनीतिक दलों को कितना आघात पहुंच रहा है, कि देशवासी भी प्रत्यक्ष देख रहे है कि PM मोदी की मौत की कामना वामपंथी खुलेआम करने लगे है। ‘

एक ने मस्ती लेते हुए कहा- ‘कवि कहना चाहता है कि जैसे चलता था चलने दो। 2g 3g कोल घोटाले छोटी मोटी बात है। AAP ज़्यादा फ़ेमस हो गई तो फिर कांग्रेस शासित राज्यों में भी लोग स्कूल हॉस्पिटल सस्ती बिजली मांगने लगेगे। इसलिए जैसे भाजपा का विरोध करो वैसे ही AAP का विरोध करो – कोंग्रेसी चमचा।’

Next Stories
1 ‘आज से 79 साल पहले..’ Lata Mangeshkar ने सोशल मीडिया पर सुनाया पुराना किस्सा; तो फैन्स भी देने लगे गजब के रिएक्शन
2 ‘अब बताओ इस नुकसान की भरपाई कौन करेगा?’ कंगना रनौत ने प्रियंका चोपड़ा और दिलजीत से पूछा सीधा सवाल; यूज़र्स का भी फुट गुस्सा!
3 रिपब्लिक भारत पर अपने शो में ताली क्यों बजाने लगे अर्नब गोस्वामी, पढ़िए
ये पढ़ा क्या?
X